ड्राइवर की मौत पर निष्पक्ष जांच की मांग,महिलाओं का SP ऑफिस के सामने धरना

सुरजपुर।एसईसीएल के महान टू में कोयला परिवहन करने वाले एक ड्राइवर जिसकी भटगांव थाना ने दुर्घटना मान कर केस नस्ती कर दिया था।इस मामले को साजिश के तहत हत्या बताते हुए सोमवार को एसपी कार्यालय के सामने महिलाएं पुलिस की कार्यप्रणाली के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए धरने पर बैठ गई थी। महिलाओं ने भटगांव थाना के अधिकारी पर गम्भीर आरोप लगाये है।पीड़ित पक्ष जिले की एसपी भावना गुप्ता से मिले आश्वासन के बाद धरना समाप्त कर दिया ।

जिला एसपी कार्यालय में प्रदर्शन कर रही किरण सिंह बताती है कि उनके पति स्व. अयोध्या प्रसाद सिंह की लाश 4 नम्बर 2020 को ग्राम तेलगांव के पास मिला मिली थी। जिस पर भटगांव पुलिस ने धारा 304 ( ए ) का अपराध दर्ज किया था। जिस पर आपत्ति जताते हुए उसके परिवार के लोगों ने पुलिस थाना का घेराव कर निष्पक्ष जाँच की मांग की गई थी पर ऐसा हुआ नही मजबूरन हमे एसपी कार्यालय तक आकर ऐसा विरोध प्रदर्शन करना पड़ा है।

मृतक की पत्नी ने बताया कि हमने थाना भटगांव प्रभारी को स्पष्ट रूप से बताया था कि हर्ष कंपनी में जो सुपरवाईजर थे वे कोयला चोरी करवाया करते थे मेरे पति स्व. अयोध्या प्रसाद सिंह हर्ष कंपनी में ड्राईवर थे। जिसे कोयला चोरी करने को कहा गया था, उनके द्वारा कोयला चोरी करने से मना करने पर हर्ष कंपनी के सुपरवाईजर के द्वारा दूसरे ड्राईवर से ट्रक से कोयला चोरी कराया गया और ट्रक से कोयला ले जाते समय वह पकड़ा गया जिससे हर्ष कंपनी के गुण्डे नाराज हो गये और उनसे कहे कि तुमको जिस समय भेजा गया चले जाते, दूसरे ड्राईवर को खोजने में देरी होने से ट्रक पकड़ा गया जिससे हर्ष कंपनी के लोग नाराज हो गये, इसी वजह उसके पति की हत्या कर दी गई ।

मृतक की पत्नी किरण सिंह ने बताया कि पोस्ट मार्टम रिपोर्ट में ( 1 ) Honicidal death , ( 2 ) Heamorrhack Shock बताया गया है, डॉक्टर ने अपनी रिपोर्ट में Accident नहीं लिखा है। इसके बावजूद भटगांव पुलिस ने हत्या को वाहन दुर्घटना बताकर प्रकरण में लीपापोती कर दी है।

पीड़िता मृतक की पत्नी अपने दो बच्चों को साथ मे लेकर अपने पति की हत्या निष्पक्ष जांच कराना चाहती है। इस संबंध में कई आवेदन पुलिस के अफसरों को दिया है। जिससे हर्ष कंपनी के गुण्डे उससे एवं ग्वाहों से नाराज है। उसे और उसके ग्वाहों को बार – बार धमकी दी जा रही है कि वे नेतागिरी न करें जो होना था हो गया।पीड़िता के पास ग्वाह को धमकाने के संबंध में रिकार्डिंग भी होने का दावा कर रही है। जिसमें हर्ष कंपनी का गुंडे ग्वाह को धमका रहा है।

मामला हाई प्रोफाइल भी हुआ था इसे लेकर भारत सरकार की केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह ने भी 15 मार्च 2021 को सरगुज़ा आईजी से उच्च स्तरीय जांच कमेटी गठित कर कानूनी कार्यवाही करने की मांग की थी।इस पर भी न्याय नही मिलने पर जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सामने दर्जन भर महिलाओं ने बैठ कर धरना प्रदर्शन करते हुए पुलिस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया तो वहीँ इंसाफ के लिए नारे लगाते हुए बैठी थी

अपने कार्यालय के सामने प्रर्दशन को देख जिला पुलिस अधीक्षक भावना गुप्ता ने पीड़ितों को मिलने के लिए बुलाया। मामले में परिजनों की फरियाद और गंभीरता को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में जांच टीम गठित की गई है जांच के बाद रिपोर्ट आने पर विधि सम्मत् निर्णय लिए जाने की बात कही जिस पर पीड़ित पक्ष मान कर न्याय की आस लिए घर लौट गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *