VIDEO-पूर्व मंत्री अमर ने चुन-चुन कर छोड़ा तीर..लगाया आरोप,सरकार के संरक्षण में हो रही खाद की कालाबाजारी..किसान कह रहे वक्त हैं पछताव का..सरकार ने बिल नहीं..बिजली किया हाफ

बिलासपुर— पूर्व मंत्रेी अमर अग्रवा्ल ने नेहरू चौक में भाजपा कार्यकर्ताओं और नेताओं के एक दिवसीय धरना प्रदर्शन को संबधित किया। अमर ने कहा..इतिहास अपने आप को दुहराता है। 2003 में कांग्रेस की जोगी सरकार ने धान खरीदी के समय किसानों के साथ अन्याय किया। वही काम अब भूपेश सरकार कर रही है। किसान अब कांग्रेस सरकार के खिलाफ खुलकर कह रहे हैं..कि अब वक्त पछताव का है। जल्द ही इस पश्चाताप को सुधार लिया जाएगा। 

                भाजपा नेताओं ने नेहरू चौक में खाद, बिजली, बीज और तमाम अव्यवस्थाओं को लेकर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। धरना प्रदर्शन को अमर अग्रवाल समेत रजनीश सिंह ने संबोधित किया। इसके बाद सभी नेता रैली में तहसील कार्यालय पहुंचे। एसडीएम की अनुपस्थिति में तहसीलदार राजकुमार साहू को राज्यपाल के नाम ज्ञापन पत्र दिया।

                 पत्रकारों से बातचीत करते हुए अमर अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश के एक एक तहसील में भाजपा कार्यकर्ताओं ने किसानों के समर्थन में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन कर राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया है। पूर्व मंत्री ने सरकार के खिलाफ नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि खुद को किसान पुत्र कहने वाले मुख्यमंत्री को समझना होगा कि आज प्रदेश का किसान खाद के लिए त्राहि त्राहि कर रहा है। सोसायटी में खाद नहीं है। यही कारण है कि किसानों को खुले मार्केट में 200 रूपए की यूरिया को 700 में खरीदना पड़ रहा है। ब्लैक मार्केटिंग का खेल बिना सरकार के संरक्षण में संभव नहीं है। भाजपा के विरोध पर सिर्फ दिखावा के लिए छापमार कार्रवाई की गयी है। ऐसा हरगिज नहीं चलेगा। किसानों के साथ भाजपा के कार्यकर्ता खड़ें हैं। अन्याय किसी भी सूरत में बर्दास्त नहीं किया जाएगा। 

                  अमर ने बताया कि सरकार की गतिविधियों से किसान खून के आंसू रो रहा है। महीनों से पम्प कनेक्शन का आवेदन टेबल पर है। लेकिन किसी को कनेक्शन नहीं दिया जा रहा है। बिजली बिल हाफ का वादा करने वाली सरकार ने बिजली ही हाफ कर दिया है। बिजली कब आती है और कब जाती है..किसी को पता नहीं है। सरकार को अपना वादा पूरा करना होगा।

                एक सवाल के जवाब में अमर ने कहा कि सरकार का मुख्य एजेन्डा भ्रष्टाचार हो गया है। सरकार के खिलाफ लगातार प्रदर्शन किया जा रहा है। फिलहाल सरकार ने प्रदर्शन को हल्के में लेने की भूल की है। लेकिन हम किसानों के साथ आम जनता की आवाज बनकर उग्र प्रदर्शन करेंगे। सरकार को वादा पूरा करना ही होगा। अन्यथा कांग्रेस सरकार को हमेशा के लिए बाहर ही होना होगा। 

              क्या यही बदलाव है के सवाल पर पूर्व मंत्री ने बताया कि भोली भाली जनता वक्त है बदलाव के नारे में फंस गयी। अब वही जनता कह रही है कि वक्त है पछताव का। जनता को लगा कि पन्द्रह साल सत्ता से बाहर रहने के बाद शायद कांग्रेस अपनी कुआदतों से बाज गयी होगी। लेकिन उन्हें अब पता चल रहा है कि कांग्रेस की मूल प्रवृत्ति आज भी जीवित है। कांग्रेसी सुधरने वाले नहीं है। अब गली गली में जनता वक्त है पछताव का नारा लगा रही है। 2003 की पुनरावृत्ति होने से कोई रोक नहीं सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *