शिक्षा विभाग की मीटिंग-अंग्रेजी मीडियम स्कूल में शिक्षकों व कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया को गंभीरता से लेते हुए जल्द भरने का निर्देश

जशपुरनगर। कलेक्टर महादेव कावरे ने आज अपने कक्ष में शिक्षा विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर जिले के विभिन्न विकास खण्डों स्वामी आत्मानंद, शासकीय   उत्कृष्ट (अंग्रेजी माध्यम) उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में प्रवेश की स्थिति, फर्नीचर की उपलब्धता और निर्माण कार्यो की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने स्कूल में संचालित निर्माण कार्यो को समय-सीमा में पूर्ण करने निर्देश निर्माण एजेंसी को को दिये है। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के.एस.मण्डावी, जिला शिक्षा अधिकारी एन.कुजूर और राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक विनोद पैंकरा उपस्थित थे।

कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी से स्कूलों बच्चों के लिए लगने वाले फर्नीचर की स्थिति की, स्कूलों में प्रवेश की स्थिति और विद्यालय में शिक्षकों एवं कर्मचारियों भर्ती प्रक्रिया के संबंध में जानकारी लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भर्ती प्रक्रिया को गंभीरता से लेते हुए समय-सीमा में पूर्ण करें। साथ ही 01 ली से 5वीं तक के बच्चों के लिए लगने वाली फर्नीचर की अनुमानित लागत और प्रस्ताव बनाकर देने के लिए कहा है।

जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि जिले के 07 स्वामी आत्मानंद, शासकीय उत्कृष्ट (अंग्रेजी माध्यम) उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों के लिए समिति का गठन कर लिया गया है। 01 ली से 12वी तक के बच्चों की प्रवेश की स्थिति के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 08 विकास खण्डों के स्वामी आत्मानंद, शासकीय उत्कृष्ट (अंग्रेजी माध्यम) उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में कक्षा 1ली से 12वीं तक प्रत्येक विकासखण्ड के लिए 640-640 कुल 5120 सीट स्वीकृत हैं। जिसमें  विकास खण्ड बगीचा में 254, दुलदुला पतराटोली में 214, फरसाबहार 351, जशपुर 494, कांसाबेल में 364, कुनकुरी में 428, मनोरा में 370 एवं पत्थलगांव में 319 कुल 2794 सीट भरे हुए हैं।

साथ ही उन्होंने फर्नीचर की उपलब्धता के संबंध में भी विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि 08 विकास खंडों के विद्यालय के लिए 1460 मेज एवं कुर्सी प्रति सेट में 02 छात्र के मान से आवश्यकता है। जिसमें विकासखण्ड बगीचा के अंग्रेजी माध्यम विद्यालय लिए 173 मेज एवं कुर्सी की आवश्यकता होगी। इसी प्रकार दुलदुला पतराटोली के लिए 107, फसाबहार के लिए 176, जशपुर के लिए 247, कांसाबेल के लिए 182, कुनकुरी के लिए 231, मनोरा के लिए 185 और पत्थलगांव के लिए 160 मेज एवं कुर्सी की आवश्यकता होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *