CG-नौकरी छोडऩे वाले UP के डॉक्टरों ने किया था स्काई हॉस्पिटल संचालक को अगवा, एयरपोर्ट पर छोड़कर भागे

बिलासपुर।तीन दिन से गायब स्काई हॉस्पिटल के संचालक प्रदीप अग्रवाल को अगवा कर लिया गया था। अपहरण करने वालों में उनके अस्पताल के ही दो डॉक्टर और एक नर्सिंग स्टाफ के शामिल होने की बात सामने आ रही है। उन्हें यूपी ले जाया गया था और उसके बाद दिल्ली एयरपोर्ट पर छोड़कर आरोपी फरार हो गए।उल्लेखनीय है कि रविवार की शाम 4 बजे स्काई हॉस्पिटल के संचालक प्रदीप अग्रवाल अस्पताल से तो निकले लेकिन घर नहीं पहुंचे। सरकंडा थाने में देर रात उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी।

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अग्रवाल ने एक एजेंसी के माध्यम से मुरादाबाद यूपी के 2 डॉक्टर शैलेंद्र मसीह और मोहम्मद आरिफ को अपने यहां काम पर रखा था। कोरोना केस में भर्ती होने वाले मरीजों का काफी बड़ा बिल बनता था। इन दोनों डॉक्टरों ने मांग की कि तनख्वाह के अलावा बिल में से भी उन्हें कमीशन मिलना चाहिए जैसा कि दूसरे अस्पतालों में होता है। 

बताया जाता है कि डॉक्टरों ने कमीशन देने से मना कर दिया इसके चलते दोनों पक्षों में विवाद हुआ था। सीएमएचओ से किसी बात की शिकायत की गई थी। शिकायत में अभी बताया गया था कि जिन दवाओं को मरीजों को दिया ही नहीं गया है उनके भी बिल बनाए गए हैं। विवाद के बाद इन दोनों डॉक्टरों को संचालक ने नौकरी से अलग कर दिया।

सूत्रों के मुताबिक इसी बात का बदला लेने के लिए और अपने कमीशन का हिस्सा पाने के लिए दोनों डॉक्टरों ने उनका अपहरण करने की योजना बनाई। इसमें हॉस्पिटल का एक नर्सिंग स्टाफ और डॉक्टरों के दो अन्य साथी भी शामिल हो गए।

रविवार को जब अग्रवाल मोपका ग्राम के एक सैलून से बाहर निकल रहे थे, तब दोनों डॉक्टरों ने अपने दो सहयोगियों फिरोज और आलम तथा एक नर्सिंग स्टाफ के साथ उसका अपहरण कर लिया। इन लोगों ने अग्रवाल को एर्टिगा कार में बिठाया और सड़क मार्ग से रतनपुर, पेंड्रा होते हुए अपने शहर उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद ले गये। अस्पताल के स्टाफ ने संचालक अग्रवाल की गाड़ी को वापस अस्पताल में लाकर छोड़ दिया।

पुलिस ने दावा किया है कि अपहरणकर्ताओं का सुराग मिलने के बाद उन पर दबाव बनाया गया था जिसके चलते उन्होंने संचालक को आज सुबह दिल्ली एयरपोर्ट पर छोड़ दिया। वे वापस बिलासपुर आ रहे हैं। उनके आने के बाद विस्तृत पूछताछ की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *