जब CM के सामने घूसखोरी की हुई खुली शिकायत…ग्रामीणों ने लगाया अफसरों पर यह आरोप

सूरजपुर । “जिला पंचायत में 10 परसेंट घूस मांगा जाता है…नहीं देने पर फाइल लौटा दी जाती है…जो पैसा देता है उसी का काम होता है” मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सामने आज ग्रामीणों का गुस्सा भ्रष्ट अफसरों के खिलाफ फूट पड़ा। मुख्यमंत्री के संज्ञान में जैसे ही भ्रष्टाचार का ये मामला सामने आया, मुख्यमंत्री के तेवर भी तल्ख हो गये। मुख्यमंत्री मौके पर ही मामले की जांच के आदेश दे दिये। आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दौरे के पांचवें दिन सूरजपुर जिले के प्रेमनगर विधानसभा के नवापारा गांव में पहुंचे थे। मुख्यमंत्री का भेंट मुलाकात कार्यक्रम चल रहा था। मुख्यमंत्री ग्रामीणों की समस्याओं को सुनकर मौके पर ही उसका निपटारा भी कर रहे थे। इसी दौरान एक ग्रामीण ने जिला पंचायत के अधिकारियों के भ्रष्टाचार का मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाया। मुख्यमंत्री ने ना सिर्फ इस मामले में जांच के आदेश दिये, बल्कि ये भी कहा कि अगर मामले में सच्चाई मिली तो दोषिय़ों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस दौरान ग्रामीणों से कहा कि ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों को ACB में शिकायत कर रंगे हाथों पकड़वायें।

ग्रामीण ने कहा कि …जैसे हमारा कोई फाइल जनपद पंचायत से जिलापंचायत भेजा जाता है, तो वहां से सरसरी निगाह से लौटा दिया जाता है, मालूम हुआ है कि वहां बिना 10 परसेंट दिये कोई काम नहीं होता, विकास योजनाओं का कोई भी काम हो जब तक अधिकारियों के पास 10 परसेंट चढ़ावा नहीं चढ़ाएं फाइल आगे नहीं बढ़ती है । इसका खामियाजा हम ग्रामीणों को भुगतना पड़ता है । जो पैसा देता है उसका काम तुरंत हो जाता है।

मुख्यमंत्री ने ग्रामीण की बात को गंभीरता से सुना और फिर कहा किआप लोग चिंता ना करें । मैं इस मामले की जांच कराऊंगा, यदि आरोप सही पाए गए तो दोषियों पर सख्त कार्रवाई करेंगे ऐसे मामले सामने आने पर एसीबी में भी शिकायत करें, हम भ्र्ष्टाचार करने वालों को रँगे हाथों पकड़वाएँगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *