Chaitra Purnima 2021 : इस शुभ दिन की तिथि, पूजा विधान, समय और महत्व को जानें

हिंदू धर्म में पूर्णिमा एक शुभ त्योहार है. इस दिन, लोग एक दिन के उपवास का पालन करते हैं और वो चंद्रमा को देखने के बाद इसे समाप्त करते हैं. इसके अलावा, भक्त भगवान विष्णु के प्रति अपनी श्रद्धा व्यक्त करने के लिए सत्यनारायण पूजा भी करते हैं. इस दिन, हनुमान जयंती का शुभ त्योहार भी मनाया जाएगा, हनुमान जयंती को भगवान हनुमान की जयंती मनाने के लिए चिह्नित किया जाता है. ऐसा संयोग होने से इस दिन का महत्वव और बी अधिक हो गया है.

चैत्र पूर्णिमा कब है? चैत्र पूर्णिमा 26 अप्रैल को होगी. चैत्र मास में आने वाली पूर्णिमा तीर्थ को चैत्र पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है.चैत्र पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त 26 अप्रैल को दोपहर 12:44 बजे शुरू होगा और इसका समापन 27 अप्रैल को सुबह 9:01 बजे होगा.

चैत्र पूर्णिमा का पूजा विधानइस दिन, भक्त जल्दी उठते हैं और स्नान करते हैं.इसके बाद वो भगवान विष्णु की पूजा करते हैं और मंत्रों का जाप करते हैं.भक्त ऊं नमो नारायण जैसे मंत्रों का जाप करते हैं.इसके बाद भक्त प्रसाद वितरित करते हैं.

चैत्र पूर्णिमा का महत्व-इस शुभ दिन पर श्रद्धालु गंगा नदी में स्नान करते हैं. हालांकि, इस बार उत्सव कोरोनोवायरस महामारी की वर्तमान स्थिति के कारण थोड़ा अलग होगा. ये भी माना जाता है कि गंगा नदी में स्नान करने से भक्तों को अपने पापों और परेशानियों से छुटकारा मिलता है.भक्त इस दिन मंत्रों का जाप करते हैं और वो सत्यनारायण पूजा करते हैं. साथ ही वो इस दिन लोकप्रिय सत्यनारायण कथा भी पढ़ते हैं. इसके अलावा, भक्त गरीबों को दान करते हैं और वो इस दिन जरूरतमंदों की मदद करते हैं.

चैत्र पूर्णिमा के दिन भगवान हनुमान का जन्म हुआ था इसलिए इस दिन को हनुमान जयंती के रूप में भी मनाया जाता है. भक्त इस दिन भगवान हनुमान की पूजा करते हैं और वो एक दिन का उपवास भी करते हैं.इस बार के चैत्र पूर्णिमा में स्थितियां थोड़ी प्रतिकूल हैं इसलिए आप अपने घरों पर रहकर ही इस पूजा को करें. ऐसा करने से न सिर्फ आप खुद को बल्कि अपने परिवार, दोस्त और पास-पड़ोस के लोगों के जीवन को भी बचा पाएंगे.

नोट- मास्क जरूर लगाएं, लोगों से उचित दूरी बनाए रखें और अपने हाथों को बार-बार धोते रहें. ऐसा करने से हम सभी सुरक्षित रह पाएंगे और कोरोना की इस चेन को भी तोड़ने में अपनी समग्र भूमिका निभा पाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *