Chhattisgarh:डीएम अवस्थी ने कहा-हाल की नक्सली घटनाओ का चुनावी हिंसा से कोई संबंध नहीं

रायपुर।विशेष पुलिस महानिदेशक (नक्सल अभियान) डी.एम. अवस्थी ने रायपुर के पुराने पुलिस मुख्यालय भवन में आयोजित प्रेस वार्ता में बताया कि जिला बीजापुर के मुरदण्डा सीआरपीएफ कैम्प के पास सीआपीएफ के 4 अधिकारी/कर्मचारियों की शहादत एवं 30 अक्तूबर को छत्तीसगढ़ पुलिस के 02 जवानों सहित डी.डी. न्यूज के कैमरामेन के शहादत के संबंध में यह बताना लाजिमी है कि इन सभी घटनाओं का चुनावी हिंसा से कोई संबंध नहीं है।उन्होंने बताया – वस्तुस्थिति यह है कि 27 अक्तूबर को सीआरपीएफ के जवान अपने बीमार साथी का इलाज कराने बासागुड़ा फील्ड हास्पिटल गये थे। वहॉं से वापस लौटते समय मुरदण्डा कैम्प से लगभग 1 कि.मी. पहले बूलेट प्रूफ बंकर वाहन को माओवादियों द्वारा आई.ई.डी. ब्लास्ट से उड़ा दिया गया जिससे सीआरपीएफ के 04 जवान शहीद हो गये। इसके उपरांत साथ चल रही सीआरपीएफ की टुकड़ी द्वारा जवाबी हमला किया गया जिससे माओवादी घटना स्थल से भाग गये। यह घटना पूर्णतः सीआरपीएफ के Adm. Movement से संबंधित था, न कि चुनाव कार्य को प्रभावित करने वाला।

डी.एम. अवस्थी ने बताया कि 30 अक्तूबर को सीआरपीएफ की 111वीं वाहिनी की कंपनी रूटिन सड़क निर्माण कार्य के लिये जो कि समेली से नीलावाया के बीच चल रहा है, गयी हुई थी। उसी दौरान दूरदर्शन की एक टीम, जो कि पिछले कई दिनों से नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विकास कार्यों एवं चुनाव की तैयारियों का जायजा लेने आई हुई थी, जो सड़क निर्माण कार्य और इस क्षेत्र के गांवों की फिल्मांकन के लिये वहॉं गई थी। इस टीम के नीलावाया पहुंचने के दौरान माओवादियों के द्वारा पहले से लगाये गये एम्बुश में पहले के वाहन में चल रहे उप निरीक्षक रूद्र प्रताप, सहायक आरक्षक मंगलू राम एवं कैमरामेन अच्युतानंद साहू चपेट में आ गये और उनको गोलियॉं लग गई। साथ चल रहे बल के द्वारा तत्काल ही मोर्चा लेकर जवाबी फायरिंग करते हुए माओवादियों का सामना किया गया ।

घटना की जानकारी मिलते ही अतिरिक्त बल भेजा गया जिसके द्वारा लगभग 1 घंटे तक फायरिंग करने के पश्चात् माओवादी घटना स्थल से भाग गये। इस घटना में उप निरीक्षक रूद्रप्रताप सिंह, सहायक आरक्षक मंगलू राम एवं डीडी न्यूज के कैमरामेन अच्युतानंद साहू को गोली लगने से शहीद हो गये एवं 02 जवान आरक्षक विष्णु राम एवं सहायक आरक्षक श्री राकेश कौशल घायल हो गये। पुलिस अधीक्षक, दंतेवाड़ा जो कि पास में अभियान में थे, इस घटना की सूचना मिलने उपरांत घटना स्थल पहुंच गये थे। इस प्रकार अत्यंत बहादुरी एवं वीरता के साथ दंतेवाड़ा के अधिकारी/कर्मचारियों ने जवाबी कार्यवाही करते हुए नक्सलियों का पीछा भी किया। इस घटना में कम से कम 3 माओवादियों के मारे जाने की सूचना है, जिन्हें उनके माओवादी साथियों द्वारा खींचकर ले जाते हुए देखे गये हैं।विशेष पुलिस महानिदेशक ने कहा – यहॉं यह बताना आवश्यक है कि सड़क निर्माण कार्य पिछले कई माह से चल रहा है और यह सड़क निर्माण में लगे बल पर किया गया हमला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *