अनुकंपा नियुक्ति : छत्तीसगढ़ सरकार ने बेसहारा परिवारों को दिया सहारा,शिक्षक फेडरेशन ने कहा- नियुक्ति में परिविक्षा का प्रावधान उचित नहीं

रायपुर । छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन ने शिक्षा विभाग में अनुकंपा नियुक्ति प्रकरणों के तीव्र निराकरण गति को लोकहित में भूपेश सरकार के नीति और निर्णय का प्रतिफल बताया है। प्रांताध्यक्ष राजेश चटर्जी,संभाग अध्यक्ष अशोक रायचा (रायपुर), डॉ बी के दास(दुर्ग),भानुशंकर नागराज (बस्तर),डॉ सपन सिन्हा (सरगुजा) एवं के के दुबे (बिलासपुर) का कहना है कि दिवंगत शिक्षकों के बेसहारा परिवार को सरकार ने सहारा दिया है।

फेडरेशन के जशपुर जिला अध्यक्ष विनोद गुप्ता और महामंत्री संज़ीव शर्मा का भी कहना है कि सरकार ने अनुकंपा नियुक्ति में 10 % सीलिंग को शिथिल करने का फैसला लिया था। इसी फैसले ने दिवंगत शिक्षकों के बेसहारा परिवार का तकदीर बदल दिया है।उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग में अनुकंपा नियुक्ति के 500 से अधिक पुराने प्रकरण वर्षों से लंबित थे। वहीं कोरोना संक्रमण के कारण 411 से अधिक शिक्षक दिवंगत हुए थे। कोरोना महामारी ने शिक्षकों को सर्वाधिक निशाना बनाया था। जोकि एक गंभीर चिंता का विषय था।  फेडरेशन ने 697 दिवंगत शिक्षकों के परिवार के आश्रित को शिक्षा विभाग के द्वारा सीमित समय में अनुकंपा नियुक्ति आदेश  जारी करने पर संतोष व्यक्त किया है। फेडरेशन के कहना है कि सरकार ने दिवंगत शिक्षक के परिवार के आश्रित सदस्य को  अनुकंपा नियुक्ति सांत्वना स्वरूप दिया है। जो कि,सीधी भर्ती (रिक्रूटमेंट) के प्रक्रियान्तर्गत नहीं होता है। अतः अनुकंपा नियुक्ति को परिवीक्षा अवधि में किया जाना अनुचित है। छत्तीसगढ़ सिविल सेवा (सेवा की सामान्य शर्ते) नियम 1961 के नियम-7 के तहत सेवा में भर्ती के तरीकों का उल्लेख है। नियम-7 (एक) में सीधी भर्ती द्वारा,जोकि प्रतियोगी परीक्षा/चयन के माध्यम से होता है। नियम-7 (दो) में सेवा के सदस्यों की पदोन्नति द्वारा तथा नियम-7 (तीन) में स्थानांतरण/प्रतिनियुक्ति द्वारा भर्ती किया जाता है। सीधी भर्ती द्वारा भरे जाने का पदों पर चयन मेरिट के आधार पर होता है। उन्होंने बताया कि नियम के अनुसार सीधी भर्ती प्रतियोगी परीक्षा अथवा चयन अथवा साक्षात्कार द्वारा होता है। सीधी भर्ती में आरक्षण अधिनियम 1994 तथा समय समय पर जारी निर्देश लागू होते हैं। शासकीय सेवकों को सामान्यतः वेतनमान के न्यूनतम पर 2 वर्ष की कालावधि के लिए परिवीक्षा पर नियुक्त किया जाता था।

फेडरेशन का कहना है कि छत्तीसगढ़ शासन सामान्य प्रशासन विभाग के अधिसूचना 28 जुलाई 2020 द्वारा परिवीक्षा अवधि को 2 वर्ष को संशोधित कर 3 वर्ष किया है। छत्तीसगढ़ शासन वित्त विभाग के  अधिसूचना 28 जुलाई 2020 के द्वारा छत्तीसगढ़ मूलभूत नियम 22 सी (1) के स्थान पर सीधी भर्ती के पदों पर चयनित शासकीय सेवकों के लिए 3 वर्ष परिवीक्षा अवधि के दौरान उस पद के वेतनमान के न्यूनतम का प्रथम वर्ष में 70 %, द्वितीय वर्ष में 80 % तथा तृतीय वर्ष में 90 % स्टाइपेंड देने का प्रावधान प्रतिस्थापित किया है। फेडरेशन का कहना है कि  अनुकंपा नियुक्ति,प्रतियोगी परीक्षा/चयन/साक्षात्कार द्वारा नहीं होता है। किसी चयन समिति द्वारा अभ्यर्थियों के सूची का अनुशंसा अथवा मेरिट के आधार पर चयन नहीं होता है।आरक्षण रोस्टर लागू नहीं होता है। जब अनुकंपा नियुक्ति में सीधी भर्ती का नियमित पद्धिति लागू ही नहीं होता है तो सीधी भर्ती के लिए प्रभावशील परिवीक्षा अवधि का शर्त प्रभावशील नहीं चाहिये।

गौरतलब है कि जारी हो रहे अनुकंपा नियुक्ति आदेश में परिवीक्षा अवधि एवं स्टाइपेंड का उल्लेख किया जा रहा है।फेडरेशन ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मामले को संज्ञान में लेकर न्याय करने का अनुरोध किया है।

जिलावार अनुकंपा नियुक्ति हेतु आवेदन पत्र/जारी आदेश/लंबित की जानकारी :- (4 मई के स्थिति में) दुर्ग 78/50/12,राजनांदगांव 70/51/14 ,बालोद 37/18/15, बेमेतरा 29/10/15, कबीरधाम 21/12/? – दुर्ग संभाग  235/141/56
सरगुजा 16/16/0 जशपुर 44/17/3कोरिया 23/6/15बलरामपुर 22/22/0सूरजपुर 22/16/6
सरगुजा संभाग 127/77/24
बिलासपुर 42/42/0 मुंगेली18/9/8कोरबा 48/48/0रायगढ़ 117/72/43जांजगीर 41/28/5जी पी एम 30/10/14 सक्ती 15/13/2 बिलासपुर संभाग 311/222/72
रायपुर 75/45/10 बलौदाबाजार 44/24/20धमतरी 87/52/28महासमुंद 35/18/17गरियाबंद 37/0/37 रायपुर संभाग 278/139/112
बस्तर 54/17/38 सुकुमा 11/5/6बीजापुर 9/5/4दंतेवाड़ा 16/14/0कोंडागाँव 36/33/1नारायणपुर 15/7/6 कांकेर 35/21/14 बस्तर संभाग 176/102/69

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *