मुख्यमंत्री की घोषणा..अधिकारी मौन..लिपिक नेता का एलान..बैठक में किया जाएगा जंग का शंखनाद

बिलासपुर— लिपिक संगठन ने वेतन विसंगति की लंबित मांग को लेकर सरकार के खिलाफ जंग का एलान किया है। रायपुर में एक बैठक के बाद लिपिक नेता रोहित तिवारी ने बताया कि वेतन विसंगति की मांग को लेकर 25 जून को जरूरी बैठक के दौरान सड़क पर उतरने की फैसला लिया जाएगा। साथ ही सरकार में बैठे अधिकारियों से जवाब भी मांगा जाएगा कि किमु ख्यमंत्री की घोषणा के बाद भी मांग को अभी तक पूरा क्यों नहीं किया गया है।सीजी खबर के लिए हमारे व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़े,यहां क्लिक करे
             रायपुर में लिपिक संगठन की एक बैठक के बाद रोहित तिवारी ने बताया कि लंबित वेतन विसंगति को दूर किए जाने की मांग को लेकर अब उग्र आँदोलन किया जाएगा। आंदोलन की रणनीतियों को लेकर चर्चा होगी। प्रांतीय बैठक का आयोजन 25 जून को किया जाएगा। 
             पत्रकारों को रोहित ने बताया कि ऐसा शायद पहली बार होगा कि मुख्यमंत्री के वचन पालन कराने को लेकर अधिकारियों के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा। यह जानते हुए भी कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश के लिपिको के वेतनमान सुधार को लेकर एलान किया है। घोषणा के बाद बाद अधिकारियों ने शुरू में तेजी से कार्रवाई का प्रदर्शन किया। लेकिन बाद में  हमेशा की तरह मांग की फाइल को दबाकर भूला दिया।
                              रोहित ने बताया कि लिपिकों में वेतन विसंगति की मांग पूरी नहीं होने को लेकर भयंकर आक्रोश है। दो साल कोरोना के कारण लिपिक वर्ग ने चुप्पी साधकर रखा। जबकि  प्रदेश के मुखिया ने  17 फरवरी 2019 को बिलासपुर में आयोजित लिपिकों के अधिवेशन में शिरकत कर एलान किया था कि वेतन विसंगति को जल्द दूर किया जाएगा।
               प्रदेश लिपिक संघ के अध्यक्ष के अनुसार घोषणा को तीन साल पूरे हो गए हैं। लेकिन लिपिक वेमान सुधार का आदेश आज तक ठंडे बस्ते में है। लिपिको की एक मात्र मांग वेतन विसंगति से निजात पाना है।  यही कारण है कि प्रदेश के लिपिक अब सड़क में उतर कर संघर्ष के लिए  कमर कस चुके हैं। 
              25 जून को प्रांतीय बैठक में संघ के पदाधिकारी  आंदोलन का शंखनाद करेंगे। कर्मचारी इतिहास में यह पहला आंदोलन होगा कि मुख्यमंत्री की घोषणा के पालन कराने के लिए आँदोलन होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *