TOP NEWS

Cholesterol Diet: कोलेस्ट्रॉल के मरीजों को अपने ब्रेकफास्ट में क्या खाना चाहिए

Cholesterol Diet: कोलेस्ट्रॉल के लेवल बढ़ने का कारण खराब लाइफस्टाइल और डाइट है. आपको बता दें कि दो तरह के कोलेस्ट्रॉल होते हैं- बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) और गुड कोलेस्ट्रॉल (HDL). हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो जब शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है तो शरीर में कई तरह की दिक्कतें हो सकती हैं. शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से स्ट्रोक और दिल संबंधी परेशानियां हो सकती हैं. इसलिए अपने खान-पान पर ध्यान देना भी जरूरी है.

Join Our WhatsApp Group Join Now

हेल्थ एक्सपर्ट्स ये भी कहते हैं कि जिन लोगों को हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या है अगर वे नाश्ता नहीं करते तो इससे उनके शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ सकता है.

इसके साथ ही,कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों की वजह से मृत्यु का खतरा भी उन लोगों में अधिक होता है जो सुबह नाश्ता नहीं करते. आइए जानते हैं कोलेस्ट्रॉल की समस्या वाले लोगों को कैसी डाइट लेनी चाहिए.Cholesterol Diet

एक्सपर्ट्स की मानें तो हाई कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने के लिए क्विनोवा अच्छा और हेल्दी फूड है.

ब्रेकफास्ट में क्विनेवा से बनी डिश खाने से न सिर्फ पेट भरता है बल्कि शरीर को प्रोटीन और डाइटरी फाइबर सहित कई पोषक तत्व प्राप्त होते हैं.

खाएं सब्जियों का सलाद

क्विनेवा की तरहफ्रेश वेजिटेबल्स सूप, सलाद या स्मूदी भी हेल्दी ब्रेकफास्ट हो सकता है. इससे ना केवल पेट भरता है बल्कि, ब्लड शुगर लेवल और बैड कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने में भी मदद होती है.

हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने के साथ-साथ शरीर में गुड कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ाना और बैड कोलेस्ट्रॉल लेवल को संतुलित करना भी जरूरी है. इसके लिए हेल्दी ब्रेकफास्ट करना बेहद जरूरी है.

इन फूड्स से रहें सावधान

अंडे की जर्दी- अंडे का सेवन करना अक्सर कोलेस्ट्रॉल में सबसे खराब माना जाता है. एक अंडे में लगभग 186 मिलीग्राम कोलेस्ट्रॉल होता है. इसलिए सीमित मात्रा में ही इसे खाएं.

प्रोसेस्ड फूड- प्रोसेस्ड फूड बेहद अनहेल्दी माना जाता है. इनमें सैचुरेटेड फैट की मात्रा ज्यादा पाई जाती है. इसलिए पिज्जा, बर्गर, नूडल्स जैसी चीजों से दूरी बनाकर रखें. इन्हें खाने से कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ सकता है.

                   

Shri Mi

पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर
Back to top button
close