नगर विधायक ने कहा..मां और बच्चों को पोषण आहार की सख्त जरूरत..वजन त्यौहार में शैलेष ने किया संवाद..बताया..लेना होगा संतुलित आहार

बिलासपुर—-महिला एवं बाल विकास विभाग के बैनर तले जेल रोड स्थित आंगनबाड़ी केंद्र में वजन त्योहार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में नगर विधायक शैलेश पांडेय ने शिरकत किया। नगर विधायक ने इस दौरान मासूम बच्चों के साथ समय बिताया। साथ ही कार्यक्रम के उद्देश्यों पर प्रकाश भी डाला। जानकारी देते चलें कि इस समय प्रदेश में 7 जुलाई से 16 जुलाई के दौरान शासन ने वजन त्यौहार मनाने का फैसला किया है।
 
        महिला एवं बाल विकास के सौजन्य से जेल रोड स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र में वजन त्योहार मनाया गया। त्योहार में शिशुवती माताओं को पौष्टिक आहार की जानकारी दी गयी। बच्चों के पालन पोषण और आहार के बारे में भी बताया गया।
 
            वजन त्यौहार पर 5 वर्ष तक की आयु के बच्चों का वजन किया गया। 11 से 18 वर्ष की सभी किशोरी बालिकाओं का हीमोग्लोबिन टेस्ट कराया गया। जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेश सिंह, पार्षद रामा बघेल, भरत कश्यप, जुगल गोयल, चंद्रप्रदीप बाजपेयी, एल्डरमैन शैलेंद्र जयसवाल, सुबोध केसरी, काशी रात्रे, अजरा खान, समेत सुदेश दुबे ,अर्जुन सिंह, अमीन मुगल, अजय काले, कप्तान खान, शंकर कश्यप, पालकगण, अन्य लोग त्योहार में शामिल हुए ।
 
आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचे नगर विधायक
 
                   नगर विधायक शैलेष पाण्डेय ने कहा कि वजन त्यौहार कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य मां और बच्चों को पोषण आहार की जानकारी देना है। ताकि मासूमों को कुपोषित होने से सुरक्षित रखा जाए। आंगनबाड़ी केन्द्रों में कार्यकर्ता और सहायिका बच्चों का वजन करने के साथ ही शिशुवति माताओं को पौष्टिक आहार की जानकारी दे रहे हैं। बच्चों को सुपोषित करने के टिप्स भी वजन त्यौहार में दिया जा रहा है।
 
            नगर विधायक ने बताया कि वजन त्योहार में कुपोषण होने की स्थिति में बच्चों सुपोषण की श्रेणी में लाने के लिए पौष्टिक आहार की ना केवल जानकारी दी जा रही है। बल्कि पौष्टिक आहार  भी दिया जा रहा है।
 
शत प्रतिशत कुपोषण मुक्त का लक्ष्य
 
               कार्यक्रम में शिरकत के दौरान विधायक ने उपस्थित शिशुवती माताओं को मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान और वजन त्यौहार की महत्ता के बारे में बताया। शैलेष ने बताया कि त्योहार के माध्यम से माताओं और बहनों को विभाग पोषण आहार के प्रति जागरूक किया जा रहा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *