CG में कर्मचारियों के लिए पेंशन योजना शुरू करने को लेकर CM भूपेश का बड़ा बयान

रायपुर।Uttar Pradesh चुनाव प्रचार से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लौट आए हैं. चार चरण के चुनाव प्रचार के बाद CM Bhupesh Baghel लौटे हैं.मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने BJP पर जमकर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि UP से BJP जा रही है, इतना तय है. साथ ही उन्होंने राजस्थान की तर्ज पर पेंशन योजना शुरू किए जाने को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि राजस्थान अभी-अभी फैसला लिया है. इसकी पूरी कार्ययोजना को देखा जाएगा. आर्थिक स्थिति के हिसाब से निर्णय लिया जाएगा.सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि किसी को हम ना नहीं कहते. सभी वर्गों को समय-समय पर कुछ ना कुछ देते हैं. अभी की स्थितियों को देखकर इस पर उचित निर्णय होगा. दरअसल, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बजट (Budget) की घोषणा के साथ ही पुरानी पेंशन योजना को लागू करने का ऐलान कर दिया है.

सीएम भूपेश ने कहा कि कुल मिलाकर भाजपा पहले जाति और धर्म पर चुनाव लड़ रही थी. अब ये जाति धर्म से हटकर पार्टी के कैंडिडेट पर केंद्रित हो गया है. भाजपा के भूपेश चौबे कैंडिडेट ने 5 साल तक कुछ काम नहीं किया. अब उठक बैठक करके माफी मांग रहा है. पिछले चुनाव में भाजपा लहर में जीत तो गए थे. लेकिन क्षेत्र में कोई काम नहीं किया. यह स्थिति है कि अब कान पकड़ के उठक बैठक करना पड़ रहा है. यह तो तय है भारतीय जनता पार्टी जाने वाली है. भाजपा द्वारा यूपी में गोधन न्याय जैसी योजना लागू होने पर कहा कि छत्तीसगढ़ में लागू इस योजना की तारीफ लोकसभा कमेटी ने की, और पूरे देश में ऐसी योजना लागू किये जाने में सुझाव दिए. गुजरात की टीम ने भी तरीफ़ की.

अब मोदी जी ने स्वीकार किया कि आवारा पशु एक समस्या है,और इसका समाधान होना चाहिए. यूपी में आवारा पशुओं की समस्या भाजपा की देन है. पांच साल वहां यह समस्या नहीं थी. लेकिन योगी सरकार आने के बाद यूपी में पशुओं का क्रय विक्रय बन्द किया गया. पशुओं का बाजार बंद किया. बजरंगियों और विहिप ने पशुओं के नाम पर लोगों को प्रताड़ित किया. मैं मोदी जी से कहता हूं बजरंगियों को संभालें. इंदिरा गांधी कृषि विवि में छत्तीसगढ़ का कुलपति बनाये जाने पर कहा कि हम लोग अपने स्तर पर जो आवाज उठाई. यह राजभवन तक पहुँची तो सबको बधाई. छत्तीसगढ़ में पुरानी पेंशन योजना लागू करने की मांग पर कहा कि चर्चा में आया है तो विचार करेंगे. वित्तीय स्थिति का अध्ययन करके फैसला लेंगे. नवा रायपुर प्रभावित किसान नेताओं के टिकैत से मिलने पर कहा कि किसान नेता जिससे चाहें मिलें. सब स्वतंत्र हैं. प्रजातांत्रिक देश है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *