हमार छ्त्तीसगढ़

सीएम ने दिया इस्तीफा, नए मुख्यमंत्री के चुनाव के लिए मीटिंग जारी

दिल्ली।त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने शनिवार को अपना इस्तीफा दे दिया है। गौरतलब है कि शुक्रवार को उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। दरअसल त्रिपुरा में कई बीजेपी विधायक बिप्लब देब से नाराज चल रहे थे। जिसकी भनक पार्टी हाईकमान तक भी पहुंची थी। इसके बाद आलाकमान ने बिप्लब देब को इस्तीफा देने के लिए कहा है।राज्य के नए मुख्यमंत्री के चुनाव को लेकर भाजपा में मंथन चल रहा है। इसको लेकर आज शाम 5 बजे बीजेपी विधायक दल की बैठक होगी। जिसमें नए सीएम का चुनाव होगा। बता दें कि 2018 में बिप्लब देब राज्य के सीएम बने थे।

बिप्लब देब ने क्या कहा: इस्तीफा सौंपने के बाद बिप्लब देब ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मेरी बात हुई है। मैंने गृह मंत्री अमित शाह से भी मुलाकात की थी। मुझसे इस्तीफा देने को कहा तो मैंने दे दिया। राज्य में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं, उसकी तैयारियों में मैं लगूंगा। भाजपा के कार्यकर्ता के रूप में पार्टी को मजबूत करने का काम करता रहूंगा।

अगले साल विधानसभा चुनाव: गौरतलब है कि अगले साल त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इस बीच राज्य में तृणमूल कांग्रेस भी काफी सक्रिय नजर आ रही है। ऐसे में माना जा रहा है कि चुनाव से पहले भाजपा ने पार्टी को मजबूत करने के लिए राज्य की कमान नये चेहरे को सौंपने का कदम उठाया है।

इस्तीफे पर भूपेंद्र यादव क्या बोले: बिप्लब कुमार देब के इस्तीफे के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र यादव ने कहा, “भाजपा के मुख्यमंत्री बिप्लब देव के नेतृत्व में त्रिपुरा में बीते 4 सालों में स्थिरता, शासन, प्रशासन और विकास की दृष्टि से काफी अच्छे कार्य हुए हैं।”उन्होंने कहा कि बिप्लब देब का त्रिपुरा में सरकार बनाने से पहले पार्टी संगठन में प्रभावी योगदान रहा है। पार्टी के संगठनात्मक गतिविधियों में उनकी भूमिका को बढ़ाने के लिए, आज सीएम बिप्लब देब ने अपना त्याग पत्र राज्यपाल को सौंपा है।

सरकारी कर्मचारियों के वार्षिक वेतन वृद्धि में रोक।संयुक्त शिक्षक संघ ने कहा-गैर वाजिब, यथावत रखने सरकार से मांग

भूपेंद्र यादव ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि आज शाम 5 बजे विधायक दल की बैठक होगी और नये चेहरे का चुनाव किया जाएगा। मालूम हो कि त्रिपुरा की 60 सदस्यीय विधानसभा में सत्तारूढ़ गठबंधन में भाजपा के 36 विधायक हैं। वहीं इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) के 8 विधायक हैं।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS