CMD ने बताया..कोयला को उद्योग की धमनी…SECL ने बनाया रिकार्ड…GECसदस्य करेंगे मेगा प्रोजेक्ट का मुआयना

बिलासपुर—- कोयला उत्पादन में बृद्धि को लेकर एसईसीएल के गेवरा क्षेत्र में सेमिनार का आयोजन किया गया। सेमिनार में केालइण्डिया लिमिटेड अपेक्ट जेसीसी के सदस्यों ने शिरकत किया। इस दौरान कोल इण्डिया के आलाधिकारियों ने एसईसीएल प्रबंधन की कार्यप्रणाली की तारीफ करते हुए कहा कि लक्ष्य हासिल करने के लिए सभी को मिलकर उत्पादन और उत्पादकता पर ध्यान देने की जरूरत है।

                          शुक्रवार को मिनीरत्न सार्वजनिक उपक्रम एसईसीएल के मेगा प्रोजेक्ट गेवरा क्षेत्र में कोलइण्डिया लिमिटेड अपेक्स जेसीसी (ज्वाईट कन्सल्टेटिव कमेटी) के सदस्यों की बैठक हुई । बैठक में बी.के. राॅय, नाथूलाल पाण्डेय, रमेन्द्र कुमार, डी.डी. रमानन्दन, व्ही.पी. सिंह की उपस्थिति में उत्पादन एवं उत्पादकता को लेकर सेमिनार का सफल आयोजन किया गया

                     इस अवसर पर एसईसीएल शीर्ष प्रबंधन अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक ए.पी. पण्डा, निदेशक (कार्मिक) डाॅ. आर.एस. झा, निदेशक तकनीकी संचालन आर.के. निगम, निदेशक तकनीकी (योजना/परियोजना) मनोज कुमार प्रसाद, एसईसीएल संचालन समिति के सदस्य हरिद्वार सिंह, जे.एस. सोढ़ी, अवधराज सिंह, के. पाण्डे विशेष रूप से मौजूद थे।  आयोजन में विभिन्न क्षेत्रों के महाप्रबंधक और विभागाध्यक्ष भी शामिल हुए।

                       सेमिनार में आला अधिकारियों ने बताया कि कोयला देश की अर्थव्यवस्था को रफ्तार देता है। प्रधानमंत्री ने  धर घर तक बिजली पहुंचाने का संकल्प लिया है। ऐसी स्थिति में हमें कोयला उत्पादन को लेकर केन्द्रित होने की जरूरत है। क्योंकि हम सबको मालूम है कि कोयला को उद्योग जगत की धमनी कहा जाता है। इस दौरान सीएमडी एसईसीएल ए.पी. पण्डा ने सेमिनार में मौजूद सभी अतिथियों का स्वागत भी किया।

                      उत्पादन एवं उत्पादकता पर केन्द्रित आयोजन में उपस्थित लोगोें ने एसईसीएल के उत्पादन लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए लक्ष्य प्राप्ति के प्रयासों के बारे में बताया। बैठक में प्रोजेक्ट विस्तार को लेकर चर्चा हुई। भूमि अधिग्रहण, पुनर्वास जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर विस्तार से प्रकाश डाला गया। इस दौरान कोलइण्डिया अपेक्स जेसीसी के सदस्यों ने एसईसीेएल की कोयला उत्पादन प्रबंधन की जमकर तारीफ की।

                    बैठक में बताया गया कि एसईसीएल वित्तीय वर्ष 2018-19 में 150 मिलियन टन उत्पादन करने वाली कोलइण्डिया की पहली कम्पनी है। कम्पनी ने 8 प्रतिशत से अधिक वृद्धि दर हासिल करते हुए कुल 157.35 मिलियन टन कोयले का उत्पादन किया है। एसईसीएल सीएसआर मद से विभिन्न जनोपयोगी योजनाओं पर काम करने के अलावा अपने कर्मचारियों के लिए कई कल्याणकारी योजनायों पर काम करता है। कर्मचारी हित में कम्पनी ने हीमोडायलिसिस समेत कई चिकित्सकीय सुविधाओं का विस्तार किया है। डिसेन्ट हाउसिंग योजना के तहत आवास संतुष्टि, आर.ओ. प्लान्ट स्थापित करने साथ ही अनेक योजनाओं को गंभीरता से लिया है।

                   एसईसीएल जनसम्पर्क अधिकारी ने बताया कि तीन अगस्त को कोलइण्डिया लिमिटेड अपेक्स जेसीसी के सभी सदस्य एसईसीएल के मेगा प्रोजेक्ट गेवरा, दीपका और कुसमुण्डा क्षेत्रों का दौरा करेंगे। इन परियोजनाओं में कामगारों और श्रमसंघ के प्रतिनिधियों से बातचीत करेंगे।

Comments

  1. By Ajaykumar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *