कलेक्ट्रोरेट आगजनी काण्ड…पुलिस कप्तान ने कहा..कोई नहीं बचेगा..अब तक 200 से अधिक गिरफ्तार..अन्य राज्यों को भेजी गयी पुलिस टीम..खंगाला जा रहा CCTV

बलौदा बाजार—बलौदाबाजार कलेक्ट्रेट कार्यालय में आगजनी घटना के बाद आरोपियों को तेजी के साथ गिरफ्तार किया जा रहा है। अब पुलिस ने सात 7 आपराधिक प्रकरण दर्ज कर करीब 200 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार आरोपियों की पहचान सीसीटीवी और मीडिया में आयी में वीडियो फुटेज के आधार पर पकड़ा जा रहा है। जिला प्रशासन के अनुसार घटना में शामिल किसी भी दोषी को नहीं छोड़ा जाएगा। बहरहाल पुलिस के रौद्र रूप को देखकर आंदोलनकारियों की सिट्टी पिट्टी गुम है। लोग पुलिस से बचने या तो घर में दुबक गए है। या फिर प्रदेश छोड़कर भाग रहे हैं।

Join Our WhatsApp Group Join Now

सदमें पुलिस और जिला प्रशासन

एक दिन पहले बलौदा बाजार जिला कार्यालय परिसर घुसकर तोड़फोड़,पथराव और आगजानी में प्रशासन को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है। कानून व्यवस्था के बिगड़ने से पुलिस और प्रशासन की नींद हराम हो गयी है। अब जिला प्रशासन के आदेश पर पुलिस प्रशासन ने धरपकड़ना शुरू कर दिया है। आरोपियों की पहचान सीसीटीवी और मीडिया के अलग अलग स्रोतों से किया जा रहा है।

खंगाला जा रहा सीसीटीवी

पुलिस कप्तान सदानन्द कुमार ने स्थानीय मीडिया को बताया कि सोमवार की घटना  में शामिल किसी को भी नहीं छोड़ा जाएगा। अब तक सात से अधिक अपराध दर्ज जा चुके हैं। आगजनी में शामिल लोगों का पता लगाने के पुलिस की एक दर्जन टीम का गठन किया गया है। टीम को जरूरत और गिरफ्तारी को ध्यान में रखकर अलग-अलग ठिकानों पर भेजा गया है।

आरोपियों की गहनता के साथ पतासाजी की जा रही है। सीसीटीवी के अलावा मीडिया के अलग अलग स्रोत से आरोपियों की तलाश हो रही है। विरोध-प्रदर्शन के दौरान वीडियोग्राफर के अलावा मीडियाकर्मियों से गहन सम्पर्क किया जा रहा है। वीडियो फुटेज के आधार पर आरोपियों की पहचान कर गिरफ्तारी जा रही है। जब तक एक एक आगजनी की घटना में शामिल एक एक आरोपियों को नहीं पकड़ा जाता है। तब तक पुलिस की गिरफ्तारी अभियान को बन्द नहीं किया जाएगा।

अब तक 200 से अधिक गिरफ्तार

पुलिस कप्तान ने बताया कि फरार आरोपियों को पकड़ने पुलिस टीम को पड़ोसी राज्य भी भेजा जा रहा है। स्थानीय पुलिस प्रशासन से सम्पर्क कर आरोपियों तक पहुंचने का प्रयास जारी है। इसके अलावा प्रदेश के अन्य जिलों के एसपी से संपर्क कर आरोपियों को पकडने में सहयोग लिया जा रहा है। बहरहाल अब तक कितने लोगों को गिऱफ्तार किया गया है…वास्तविक आंकड़ा बताना मुश्किल है। लेकिन अब तक की कार्रवाई में 200 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

100 ज्यादा वाहन स्वाहा

सदानन्द कुमार ने बताया कि आगजनी में कितना नुकसान हुआ है फिलहाल बताना मुश्किल है। प्रारम्भिक जानकारी के अनुसार चार पहिया और दोपहिया वाहनों को मिलाकर करीब 100 से ज्यादा वाहनों को नुकसान पहुंचा है। टीम का गठन कर नुकसान का आंकड़ा तैयार किया जा रहा है। पुलिस कप्तान ने दुहराया कि प्रदर्शनकारियों के हमले में 50 ज्यादा पुलिसकर्मियों को चोट पहुंची है। एक जवान की हालत गम्भीर है। जवान को बिलासपुर स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया है

पत्रकारों से कलेक्टर केएल चौहान ने बताया कि मामले में अब तक की कार्रवाई में 200 से अधिक लोगों को पकड़ा गया है। गिरफ्तारी का आंकड़ा धर पकड़ के साथ बढ़ता जाएगा। समय समय पर इसकी जानकारी भी हम साझा करेंगे।

समाजिक लोगों ने पुलिस कार्रवाई को बताया गलत

बताते चलें कि 15 मई की देर रात सतनामी समाज के धार्मिक स्थल गिरौदपुरी धाम से करीब 5 किमी दूर मानाकोनी बस्ती स्थित बाघिन गुफा में किसी ने जैतखाम क्षतिग्रस्त कर दिया। जैतखाम तोड़े जाने के विरोध में समाज के हजारों लोग कलेक्ट्रेट के पास दशहरा मैदान में एकत्रित हुए। इस बीच पुलिस ने भी जैतखाम तोड़े जाने के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया। लेकिन समाज के लोगों ने पुलिस कार्रवाई को गलत बताया। आरोप लगाया कि मुख्य आरोपियों को बचाने के लिए गलत लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

कलेक्टर.एसपी कार्यालय आग के हवाले

सोमवार को प्रदर्शन के दौरान लोग इसी बात को लेकर उग्र लोगों ने हिंसक प्रदर्शन किया। जिला पंचायत और कलेक्ट्रेट पहुंचकर भीड़ ने पथराव किया।  प्रदर्शनकारियों ने कलेक्ट्रेट परिसर में घुसकर जमकर तोड़फोड़ किया। भीड़ ने देखते ही देखते कलेक्टर और पुलिस कप्तान कार्यालय को भी आग के हवाले कर दिया। नाराज भीड़ ने परिसर में  खड़ी सैकड़ों चार और दो दोपहिया वहानों को भी आग में झोंक दिया। आगजनी में निजी और सरकारी वाहन जलकर खाक हो गए।

लाठी चार्ज का आदेश

इस दौरान उग्र भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्च भी किया। पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच जमकर झूमा झटकी हुई। इस दौरान आधा दर्जन लोगों को गंभीर चोट पहुंची है।

                   

Back to top button
close