भाजपा पर कांग्रेसियों का हमला..पहले धान बेचकर किसानों का छीना हक..अब आंदोलन की नौटंकी…दम हो तो धान मण्डी में बेचें..न्याय योजना की राशि लौटाएं

बिलासपुर—पीसीसी के निर्देश पर जिला कांग्रेस के दोनो अध्यक्षों ने आज पत्रकार वार्ता भाजपा नेताओं पर निशाना साधा। विजय केशरवानी ने कहा कि मुंह में राम बगल में छूरी रखने वाले भाजपा नेताओं को किसान अच्छी तरह समझ चुके हैं। उन्हे अच्छी तरह पता है कि रमन सिंह, धरम लाल कौशिक समेत भाजपा के सभी नेता सबसे पहले अपना धान बेचा। इसके बाद किसानों के बीच भ्रम फैलाकर आंदोलन की नौटंकी कर रहे हैं। दम हो तो भाजपा नेता मंडियों में धान बेचकर दिखाएं। राजीव गांधी न्याय योजना की राशि लौटाएं। अब जब समय कम रह गया है किसानों को धान बेचना है। उन्हें इकठठा कर आन्दोलन के बहाने पिकनिक मना रहे हैं। वहीं प्रमोद नायक ने कहा कि भाजपा नेताओं की चाल चरित्र चेहरा बेनकाब हो चुका है। 

भाजपा पर बरसे कांग्रेसी

                     पीसीसी के निर्देश पर आज जिला कांग्रेस नेताओं ने पत्रकार वार्ता कर भाजपा पर जमकर निशाना साधा है। भूपेश सरकार को किसान हितैषी होने का दावा किया। बताया कि प्रदेश में पहली बार ना केवल किसानों की पंजीयन संख्या में इजाफा हुआ है। बल्कि समय से पहले रिकार्ड तोड़ धान की खरीदी हुई है। 

सबसे पहले बेचा धान..मना रहे पिकनिक

                         सवाल जवाब के दौरान जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी ने बताया कि ना जाने क्यों अभी भी भाजपा नेताओं को विश्वास नहीं हो रहा कि उन्हें प्रदेश जनता ने ठुकरा दिया है। किसानों ने भाजपा नेताओं की चाल चरित्र चेहरा को अच्छी तरह समझ लिया है। विजय ने बताया कि धान खरीदी 1 दिसम्बर को शुरू हुई…इसी दौरान भाजपा नेताओं का असली चेहरा सामने आ गया। अपने क्षेत्र में सबसे पहले धान बेचने वालों में भा्जपा नेताओं का ही नाम है। चाहे रमन सिंह हो या धरमलाल, विष्णु देव साय हो या पुन्नुलाल सभी लोगों ने पहले धान बेचा। अब जब वह लोग लाखों रूपए पाकर फुरसत हो गए है तो। किसानों के साथ  आंदोलन के बहाने पिकनिक मना रहे हैं। जबकि उनको  पता है कि आंदोलन में शामिल होने वाले किसानों को धान बेचना बाकी रह गया है। 

दम हो तो न्याय योजना की राशि लौटाएं

                  विजय केशरवानी ने बताया कि राजीव गांधी न्याय योजना की टांग खींचने वाले तथाकथित भाजपा किसान नेताओं को खुली चुनौती है यदि उनमें दम हो तो न्याय योजना की राशि लौटाएं। ताकि जरूरत मंद किसानों के काम आ सके। विजय ने कहा कि इतना ही नहीं केन्द्र सरकार की काले कानून की तरफदारी करने वाले भाजपा नेता मण्डियों में धान क्यों नही बेंच रहे है। जबकि प्रधानमंत्री ने कहा है कि देश में कही भी किसान अपने उत्पाद को बेच सकते हैं। जबकि पड़ोस में उनकी ही सरकार है। 

किसान चूहा खाने को मजबूर

                           विजय ने डी पुरंदेश्वरी पर निशाना साधा । बताया कि केन्द्र सरकार ने तमिलनाडु के किसानों को पेशाब पीने और चुहा खान को मजबूर किया है। इस बात को देश और प्रदेश की जनता भूली नहीं है। दिल्ली सीमा में 127 किसानों की मौत हो चुकी है। फिर भी किसानों के नाम पर आंदोलन किया जाना..समझ से परे है। सच तो यह है कि इस बहाने भाजपा अपनी लाझ बचा रही है। 

रिकोर्ड तोड़ खरीदी

                          प्रेस वार्ता को जिला शहर कांग्रेस अध्यक्ष प्रमोद नायक ने भी संबोधित किया। प्रमोद नायक ने बताया कि पिछले दो सालों में प्रदेश की भूपेश सरकार ने किसानों के हित में जितना किया। शायद ही प्रदेश और प्रदेश के बाहर की सरकारों ने किया होगा। रिकार्ड तोड धान खरीदी से लेकर समय पर समर्थन मूल्य का भुगतान किया जा रहा है। 

किसानों को किया जा रहा परेशान

इस दौरान केन्द्र सरकार ने किसानों को परेशान करने का कोई अवसर नहीं छोड़ा है। पहले तो भाजपा नेताओं ने अपना धान बेचा। अब हितैषी बनकर किसानों को धान बेचने से रोकने का षड़यंत्र कर रहे है। केन्द्र सरकार किसान सम्मान निधि के नाम पर किसानों को महीने में भीख के रूप में पांच रूपए दे रही है। वही भूपेश सरकार ने किसानों के लिए प्रदेश का खजाना खोल दिया है।

             प्रमोद ने दो टूक कहा कि यदि दम हो तो प्रदेश के सभी 14 भाजपा विधायक 11 सांसद प्रधानमंत्री पर दबाव डालें। बताएं कि जल्द से जल्द एफसीआई को चावल उठाने की अनुमति दें।

बैजनाथ ने भी भाजपा पर बरसे       

            पत्रकार वार्ता के दौरान अपेक्स बैंक चैयमैन बैजनाथ ने पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया। उन्होने कहा कि भाजपा नेता मंह खोलने से पहले अपना पिछला 15 रिकार्ड को भी खंगाल लिया करें। ना तो समर्थन मूल्य दिया और ही बोनस। अब जबकी भूपेश सरकार ने किसान हित में खजाना खोल दिया है। भाजपा को अपना थोड़ा बहुत बचा जनाधार खिसकते हुए दिखाई दे रहा है।                      

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *