बुलडोजर देख कांग्रेसियों के पेट में मरोड़…भाजपा युवा नेता ने बताया…सिर्फ काले कारोबार को संरक्षण देने वालों में दहशत

Editor

बिलासपुर—भाजपा युवा नेता मनीष अग्रवाल ने योगी आदित्यनाथ के नगर आगमन पर बुलडोजर से स्वागत पर खुशी जाहिर किया है। मनीष अग्रवाल ने बताया कि बुलडोजर स्वागत को लेकर जनता में उत्साह देखने को मिला है। लेकिन कांग्रेस नेताओं में भय का वातावरण है। बुलडोजर रैली देखने के बाद कांग्रेसियों के भय को समझा जा सकता है। यही कारण है कि होश हवास खो चुके कांग्रेसी अनर्गल बयान बाजी कर रहे हैं। उन्हें कुछ नहीं मालूम कि वह क्या बोल रहे है।

Join Our WhatsApp Group Join Now

 भाजपा युवा नेता मनीष अग्रवाल ने बुलजोडर रैली के खिलाफ बयान बाजी करने वाले नेताओं को आड़े हाथ लिया है। प्रेस नोट जारी कर मनीष ने बताया कि भाजपा में आला कमान को खुश करने के लिए रास्ते में  ट्रकों गुलाब का फूल बिछाने की परंपरा नहीं है। बयानबाजी करने से पहले कांग्रेस नेताओं को तोल मोल लेना चाहिए। जब प्रदेश की जनता परेशान हाल थी। तत्कालीन समय रायपुर में प्रियंका गांधी के स्वागत में सड़कों को गुलाब की पंखुड़ियों से ढक दिया गया था।

मनीष ने बताया कि जग जाहिर है कि बुलडोजर का उपयोग अपराधियों,काला बाजारियों के खिलाफ और सुशासन स्थापित करने में किया जाता है। ऐसे में सवाल उठना लाजिम है किबुलडोजर देखकर कांग्रेस नेताओं में मरोड़ क्यों हो रही है। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने प्रदेश की कानून व्यवस्था को ना केवल बुलडोजर से स्थापित किया। बल्कि काले कारोबारियों को जेल का रास्ता दिखाया है।

छत्तीसगढ़ की पूर्व कांग्रेस सरकार में काले कारोबारियों का बोलबाला था। शायद बुलडोजर परेड को देखने के बाद काले कारोबारियों के आत्मा हिल गयी है। जिनका नाता कांग्रेस नेताओं से है। जाहिर सी बात है कि चहेतों की परेशानियों को देखने के बाद कांग्रेसियों को पीड़ा पहुंच रही है। इसी कारण बुलडोजर के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं।

मनीष ने कहा कि अभी तो कांग्रेसियों ने सिर्फ बुलडोजर का ट्रेलर देखा है। वह दिन दूर नहीं जब पिछले 5 साल में जिन्होने जमीन की अवैध खरीदी बिक्री का खेल किया है…ऐसे अवैध निर्माण को बुलजोजर से ही ध्वस्त किया जाएगा।  अपराधियों को संरक्षण देने वाले राजनीतिक अपराधियों के ऐशगाह को मिट्टी में मिलाया जाएगा।

बिलासपुर की जनता समझदार है। उन्हें पता है कि बुलडोजर से किसी को डरने की जरूरत नहीं है। डरे वह जिसने पिछले पांच सालों में अवैध कारोबार को संरक्षण दिया है।

close