खाद पर विवाद..कांग्रेस नेता पर लगा अभद्रता का आरोप..किल्लत और मारामारी की खुल रही पोल

बिलासपुर—धान की बुआई चरम पर है..खाद की किल्लत भी…यद्यपि सरकार के जिम्मेदार मंत्री  बार बार दावा कर रहे हे कि बेशक खाद की किल्लत हो..लेकिन किसी भी किसान को खाद की कमी नहीं होने देंगे। बावजूद इसके किसान परेशान है। खुले बाजार से ब्लैक में खाद खरीदने को मजबूर है। मतलब सोसायटी में खाद की मारामारी है। इसके चलते क्या छोटे क्या बड़े सभी वर्गों के किसानों में आक्रोश भी चरम पर है। आक्रोश का एक नजारा पिछले दिनों बीते शनिवार को जिला सहकारी बैंक में देखने को मिला। जिले का एक बड़ा किसान जब खाद की किल्लत से परेशान हो कर जिला सहकारी बैंक पहुंचा तो अपना  आपा खो दिया। और जिला सहकारी प्रबंधक से उलझ गया। नौबत  मारपीट तक पहुंच गयी।
                 खाद की कमी नहीं होने के दावा के बीच सोसायटियों में खाद की भारी किल्लत की जानकारी सामने आ रही है। छोटे ही नहीं बल्कि बड़े किसानों को भी सोसायटी से पर्याप्त खाद नहीं दिया जा रहा है। जिसके चलते किसान धैर्य खोता रहा है। ऐसा ही एक मामला जिला सहकारी बैंक बिलासपुर में सामने आया है।
                 शनिवार को लाखासार का एक बड़ा किसान सोसायटी से पर्याप्त खाद नहीं मिलने की शिकायत लेकर जिला सहकारी बैंक पहुंचा। किसान ने पर्याप्त खाद दिए जाने की बात कही। जिला सहकारी बैंक प्रबंधक ने नियमों का हवाला देकर ज्यादा खाद देने से साफ मना कर दिया। इतना सुनते ही किसान ने आपा खो दिया। बीच बचाव के बाद मामले को किसी तरह शांत कराया गया। बहरहाल मा्मला थाना तक पहुंच गया है।
            जिला सरकारी बैंक सीईओ  चन्द्राकर ने बताया कि खाद को लेकर प्रबंधक और लाखासार किसान वाजपेयी के बीच विवाद हुआ। मामले को अब सुलझा लिया गया है। 
                        घटना पर जिला सहकारी बैंक के कर्मचारी संघ के अध्यक्ष सूर्यकांत ने बताया कि लाखासार का कोई किसान वाजपेयी है। कांग्रेस नेता वाजेपेयी ने प्रबंधक पवन क्षत्री के साथ अभद्रता किया है। हम इस बात को किसी भी सूरत में बर्दास्त नहीं करेंगे। हमने थाने में शिकायत दर्ज कराया है। चैयरमैन को भी स्थिति से अवगत कराया है। न्याय नहीं मिलने पर आंदोलन करेंगे।  
           जिला सहकारी बैंक की घटना के बाद सवाल उठने लगा है कि जब एक बड़े किसान और कांग्रेस के बड़े नेता को पर्याप्त खाद नहीं मिल रहा है तो सामान्य किसानों को सोसायटी से खाद मिलना नामुमकिन है। अन्यथा कोई वजह नहीं है कि कांग्रेस नेता बैंक प्रबंधक पवन क्षत्री के साथ अभद्र व्यवहार करें। यद्यपि आपा खोना ठीक नहीं है। लेकिन जब खाद  किसानों को खाद मिलेगा..तो वह झल्लाएगा ही।
                        बैंक में हुई घटना को लेकर जमकर चर्चा है। दबी जुबान में लोगों को कहना है कि प्रबंधक के साथ मारपीट हुई है।कर्मचारी नेता सूर्यकांत की माने तो बैंक अधिकारियों ने पीड़ित का साथ देने की वजाय..किसान के साथ खड़े हैं। यह काफी दुर्भाग्यजनक है। मामले में चैयरमैन प्रमोद नायक ने बताया कि घटना की उन्हें जानकारी नहीं है। क्योंकि शनिवार को वह रायपुर में थे। इसलिए इस मामले में सच्चाई क्या है बताना मुश्किल है। यद्यपि कर्मचारियों ने पवन क्षत्री के साथ अभद्र व्यवहार किए जाने का आरोप लगाया है। सीईओ चन्द्राकर की माने तो मारपीट जैसी कोई घटना नहीं हुई है। 
                      बताते चलें कि शनिवार को घटना के बाद सोमवार को थानेदार परिवेष तिवारी भी घंटो जिला सहकारी बैंक में नजर आए।  लेकिन उन्होने भी घटना को लेकर कुछ स्पष्ट नही किया।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *