मेरा बिलासपुर

Covid-19: Omicron के नए वेरिएंट ने बढ़ाई टेंशन, एयरपोर्ट पर रेंडम स्क्रीनिंग,जानिए इन इन राज्यो ने भी उठाए कदम

Corona Update: कोरोना के खतरे को देखते हुए केंद्र के साथ-साथ राज्यों सरकारों ने भी एहतियात बरतने शुरू कर दिए हैं. चीन, जापान, अमेरिका जैसे देशों में कोरोना के मामलों में तेजी आने बाद भारत सरकार भी सतर्क है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने बुधवार (21 दिसंबर) को कोविड (Covid) की स्थिति को लेकर एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की. इस दौरान उन्होंने कोरोना से बचाव को लेकर कई दिशा-निर्देश जारी किए. चीन में कहर बरपाने वाले ओमिक्रोन के सब वेरिएंट बीएफ.7 (BF.7 Omicron Variant) के चार मामले भारत में भी सामने आए हैं. ये केस गुजरात और ओडिशा से सामने आए हैं. इनमें दो मरीज ठीक हो गए हैं. new corona advisory: गुजरात के स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि जुलाई-अक्टूबर-नवंबर-2022 में ओमिक्रोन के बीएफ.7 और बीएफ 12 वेरिएंट से संक्रमित दो मरीज सामने आए थे. इन मरीजों का होम आइसोलेशन में इलाज किया गया और पूरी तरह से ठीक हो गए हैं. कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए कर्नाटक, महाराष्ट्र, बंगाल, यूपी, बिहार सहित कई राज्यों ने चौकसी बढ़ा दी है.  

covid 19 update health ministry issued new corona advisory: कर्नाटक सरकार बेंगलुरु हवाई अड्डे पर अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की जांच शुरू करेगी. कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री के. सुधाकर ने बुधवार को कहा कि वैश्विक स्थिति के मद्देनजर हमें कुछ एहतियाती कदम उठाने होंगे. केआईए पर बड़ी संख्या में अंतरराष्ट्रीय यात्री आते हैं. हम वहां यात्रियों की जांच शुरू करेंगे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार, राज्य सरकार ने कोरोना वायरस के उभरते हुए स्वरूपों पर नजर रखने के लिए जीनोम अनुक्रमण के लिए नमूने भेजने के उपाय किए हैं. 

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार स्थिति का अध्ययन करने के लिए एक कार्यबल या एक समिति का गठन करेगी. राज्य विधानसभा में ये मुद्दा उठाते हुए विपक्ष के नेता अजीत पवार ने कहा कि चाहे चीन हो या जापान, कोरिया अथवा ब्राजील, कोविड-19 के नये स्वरूप के सामने आने की खबरें आ रही हैं.

शिक्षाकर्मियों के संविलियन के बाद भी दूर नहीं हुई विसंगतियां , समयमान/क्रमोन्नत अधिकार मंच ने शुरू किया अभियान

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता ने दावा किया कि चीन में स्थिति गंभीर है और अस्पताल में भर्ती होने के लिए बिस्तर भी उपलब्ध नहीं हैं. उन्होंने पूछा कि क्या कोई उच्चाधिकार प्राप्त समिति या कार्यबल गठित होगा, जो बदलती स्थिति और दुनिया के अन्य हिस्सों में संबंधित घटना का अध्ययन कर सके. इसके जवाब में फडणवीस ने कहा कि हम इस पर केंद्र के साथ समन्वय करेंगे. जैसा कि विपक्ष के नेता ने सुझाव दिया है, हम बदलती स्थिति पर नजर रखने और सुझाव देने के लिए एक टास्क फोर्स या एक समिति का गठन करेंगे. हम निश्चित रूप से इन सुझावों पर अमल करेंगे. 

पश्चिम बंगाल ने क्या तैयारी की?

पश्चिम बंगाल के स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार को कहा कि वह कोविड-19 की किसी भी संभावित लहर से निपटने के लिए तैयार है. पश्चिम बंगाल स्वास्थ्य विभाग के निदेशक डॉ. सिद्धार्थ नियोगी ने कहा कि राज्य में कोविड-19 का प्रसार नहीं होने देने के लिए नियमित रूप से जांच और निगरानी की जा रही है. उन्होंने कहा कि हम राज्य में किसी भी संभावित स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं. चीजें नियंत्रण में हैं, लेकिन हम एहतियात बरतना जारी रख रहे हैं. हमारे पास बड़ी संख्या में डॉक्टर, सहायक चिकित्सा कर्मी, पर्याप्त मास्क, ऑक्सीजन आपूर्ति और अलग-अलग अस्पतालों व मेडिकल कॉलेज में पर्याप्त संख्या में बिस्तर उपलब्ध हैं. 

अरुणाचल सरकार भी सतर्क

अरुणाचल प्रदेश सरकार ने जिला स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे संक्रमित पाए गए लोगों के सैंपल का जीनोम सीक्वेंसिंग सुनिश्चित करें. राज्य निगरानी अधिकारी (एसएसओ) डॉ. लोबसांग जाम्पा ने कहा कि हम परीक्षण जारी रखेंगे और कोरोना वायरस से संक्रमित पाये जाने वाले नमूनों को जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा जाएगा, जैसा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा निर्देश दिया गया है ताकि वायरस के नए स्वरूप का समय रहते पता लगाया जा सके. 

रेणु जोगी के बयान से हड़कम्प,संकल्प पत्र की जानकारी से इंकार..विधानसभा अध्यक्ष डॉ.मंहत ने कहा..शिकायत पर करेंगे विचार..प्रैक्टसिंग बार अध्यक्ष संदीप दुबे ने की SIT जांच की मांग

हिमाचल और चंडीगढ़ में ऐसी है तैयारी

हिमाचल प्रदेश सरकार में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक हेमराज बैरवा ने कहा कि निर्देशानुसार जितने भी कोरोना पॉजिटिव केस हैं उन्हें जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजा जा रहा है. अभी प्रदेश में वर्तमान में केवल 20 सक्रिय केस और 5 मरीज अलग-अलग अस्पताल में भर्ती हैं. टेस्टिंग प्रक्रिया पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है. वहीं चंडीगढ़ के स्वास्थ्य सचिव यशपाल गर्ग ने कहा कि केंद्र सरकार का निर्देश पहले से है कि टेस्टिंग, ट्रैकिंग, ट्रेसिंग करनी है. आज से टेस्टिंग बढ़ाई है, जो मरीज आ रहे हैं उनका पहला टेस्ट कराया जा रहा है. जो प्रोसेस पहले से था उसे फिर से रिव्यू किया गया है और जरूरत पड़ने पर उसे लागू किया जाएगा. 

यूपी-बिहार में सतर्कता बढ़ी

बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि अभी बिहार में कोरोना के केवल 3 सक्रिय मामले हैं. इसके साथ हम बड़ी मात्रा में सैंपल एकत्रित कर रहे हैं. कोरोना को लेकर बिहार सरकार प्रतिदिन रिपोर्ट भी जारी करती है. उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी सीएमओ को चौकसी बढ़ाने के निर्देश जारी किए हैं. साथ ही एयरपोर्ट पर भी सतर्कता बढ़ाने को कहा है. यूपी सरकार ने ये भी कहा कि कोरोना संक्रमण प्रभावित देश से आने वाले यात्रियों की जांच की जाए. 

दिल्ली सरकार ने दिया ये आदेश

दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने कहा कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने स्वास्थ्य विभाग को जीनोम अनुक्रमण बढ़ाने का निर्देश दिया है. कोरोना की स्थिति की समीक्षा करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बुधवार को बैठक भी ली है. इस बैठक के बाद नीति आयोग के स्वास्थ्य सदस्य डॉ वीके पॉल ने कहा कि अगर आप भीड़भाड़ वाली जगह, घर के अंदर या बाहर हैं तो मास्क का इस्तेमाल करें. ये कॉमरेडिटी वाले या अधिक आयु वाले लोगों के लिए और भी महत्वपूर्ण है. 

बजटः सबसे अमीर..सरकार के करीब..अटल

केरल में भी लोगों को अलर्ट किया गया

केरल सरकार ने कोरोना के प्रसार को रोकने के उपायों को तेज करने का निर्णय लिया. मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने लोगों से खुद को वायरस से संक्रमित होने से बचाने के लिए कदम उठाने का आग्रह किया. हालांकि राज्य में कोविड-19 के मामले कम हैं. सीएम ने लोगों को बुखार, सर्दी और गले में खराश को नजरअंदाज नहीं करने और कोविड-19 के लक्षण वाले लोगों के निकट संपर्क में नहीं रहने की सलाह दी. 

केंद्र सरकार ने भेजा था पत्र

इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को सभी राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों की सरकारों को एक पत्र भेजा था, जिसमें उन्हें भविष्य में कोविड-19 के प्रकोप में किसी भी संभावित वृद्धि के लिए कमर कसने और आईएनएसएसीओजी (भारतीय सार्स-कोवि-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम) नेटवर्क के माध्यम से वायरस के वेरिएंट को ट्रैक करने के लिए सभी पॉजिटिव मामलों के नमूनों को जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजने का निर्देश दिया गया था. 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS