कोरोना के नए केस मिलने के बाद BMC ने सील की 13 बिल्डिंग्स

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई (Mumbai Corona Cases) में एक बार फिर कोरोना संक्रमण दस्तक दे रहा है. देश भर भले ही इन दिनों कोरोना संक्रमण के नए मामले थोड़े कम आ रहे हो, लेकिन खतरा अभी टला नहीं है. मुंबई (Mumbai) के कुछ इलाकों से संक्रमण के नए केस लगातार सामने आने के बाद बृहन्मुंबई महानगरपालिका (BMC) ने इलाके की 13 बिल्डिंग को सील कर दिया. अधिकारियों को इस बात का खतरा है कि अगर पाबंदियां नहीं लगाई गई तो फिर कोरोना के केस बढ़ सकते हैं. शनिवार को मुंबई से कोरोना के कुल 195 नए केस सामने आए. जबकि वायरस के संक्रमण से एक शख्स की मौत हुई.

BMC के मुताबिक पिछले 24 घंटे के दौरान मुंबई में 350 मरीज़ों को अस्पताल से छुट्टी दी गई. इस दौरान कोरोना के 37661 टेस्ट किए गए. अब तक मुंबई में 1,21,08,846 सैम्पल के टेस्ट किए जा चुके हैं. यहां फिलहाल रिकवरी रेट 97 फीसदी है. उधर पुणे के ग्रामीण क्षेत्र में 100 नए मामले सामने आए हैं. पुणे शहर में 88 नये मामले आए हैं.

अंधेरी पश्चिम बन सकता है कंटेनमेंट जोन

BMC के मुताबिक सबसे ज्यादा 314 एक्टिव केस इनों मुंबई के अंधेरी पश्चिम में है. उसके बाद बांद्रा में 214, अंधेरी ईस्ट में 196 और बोरीबली में 191 केस हैं. मुंबई में इस वक्त 20 से ज्यादा बिल्डिंग सील है. अधिकारियों के मुताबिक हालात नियंत्रण में हैं. लोगों को इस वक्त कोरोना प्रोटोकॉल फॉलो करने के लिए कहा जा रहा है.

महाराष्ट्र में कोरोना का हाल

महाराष्ट्र में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 833 नये मामले सामने आए जबकि संक्रमण से 15 और लोगों की मौत हुई है. राज्य में अभी तक कुल 66,29,577 लोगों के संक्रमित होने और संक्रमण से 1,40,722 लोगों के मरने की पुष्टि हुई है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 2,271 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी मिली है.

महाराष्ट्र में अभी तक कुल 64,74,952 मरीज संक्रमणमुक्त हुए हैं. वहीं कोविड-19 के 10,249 मरीजों का फिलहाल इलाज चल रहा है. राज्य में कोविड-19 से ठीक होने की दर 97.67 प्रतिशत और मृत्यु दर 2.12 प्रतिशत है. अधिकारी ने बताया कि मुंबई में पिछले 24 घंटों में सबसे 188 नये मामले आए हैं और पुणे के ग्रामीण क्षेत्र में 100 नये मामले सामने आए हैं। पुणे शहर में 88 नये मामले आए हैं.

CM उद्धव ठाकरे ने दी बधाई

उधर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को राज्य के उन स्थानीय निकायों को बधाई दी, जिन्होंने केंद्र के स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में पुरस्कार जीते हैं. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नयी दिल्ली में एक कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण पुरस्कार प्रदान किए. 28 दिनों में कुल 4,320 शहरों का सर्वेक्षण किया गया था और 4.2 करोड़ से अधिक लोगों से बात की गई थी.

सर्वेक्षण में छत्तीसगढ़ को सबसे स्वच्छ राज्य घोषित किया गया, जिसके बाद महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश रहे. देशभर में एक लाख से कम आबादी वाले शहरों में पहले तीन स्थानों पर महाराष्ट्र के शहर रहे. इनमें सांगली का वीटा और पुणे के लोनावाला तथा सासवद शहर शामिल हैं. ठाकरे ने एक बयान में कहा, ”महाराष्ट्र शुरू से ही इस क्षेत्र में अग्रणी रहा है. अब नगर परिषद श्रेणी में सभी शीर्ष तीन पुरस्कार राज्य को मिले हैं. मैं इस उपलब्धि के लिए सभी अधिकारियों, परिषद सदस्यों और निवासियों को बधाई देता हूं.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *