कलेक्टर ने धान खरीदी केन्द्रों की व्यवस्थाओं की ली जानकारी,सुबह साढ़े 9 बजे से शाम 5 बजे तक जारी होगा टोकन,केंद्र में होगी कोरोना जांच

नारायणपुर। खरीफ वर्ष 2020-21 में धान खरीदी की व्यापक तैयारियां जिला प्रशासन द्वारा की जा रही है। राज्य शासन के मार्गदर्शी दिशा-निर्देशों के तहत् कलेक्टर अभिजीत सिंह ने कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में राजस्व अधिकारियांे, खाद्य अधिकारियों, जिला विपणन अधिकारी और मंडी सचिव की बैठक लेकर अब तक की तैयारियों की समीक्षा की और जरूरी दिशा-निर्देश दिये। बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि धान खरीदी का कार्य राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता वाला कार्य है और आगामी 2 माह तक धान खरीदी के दौरान इस कार्य को विशेष ध्यान देकर पूरा किया जायेगा। इस कार्य को संपादित कराने में राजस्व अधिकारियों की विशेष भूमिका होगी।

उन्होंने इस वर्ष धान खरीदी केन्द्रों पर की गयी व्यवस्थाओं, बारदानांे की उपलब्धता आदि की विशेष रूप से समीक्षा की। कलेक्टर ने बताया कि वर्तमान खरीफ विपणन वर्ष में 9 सोसायटियों के माध्यम से धान खरीदी की जायेगी। विगत वर्ष 8 सोसायटियों के माध्यम से धान खरीदी की गयी थी। इस वर्ष बाकुलवाही में नये धान खरीदी केन्द्र की स्थापना की गयी है और इसके लिए स्थान का चयन भी कर लिया गया है। इस केन्द्र में अधोसंरचना, कम्प्यूटर की व्यवस्था भी की जा रही है और कार्यालय का संपादन स्कूल भवन में किया जायेगा।

उन्होंने राजस्व अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि धान खरीदी प्रारंभ होने के पूर्व संबंधित सभी अधिकारी धान खरीदी केन्द्र की व्यवस्थाओं का बारीकी से जायजा लें, कोई कमी रह गयी हो तो उसे समय रहते उसे दूर कर कर लें। धान खरीदी केन्द्रों में नोडल अधिकारियों की होगी नियुक्ति:- बैठक में कलेक्टर श्री अभिजीत सिंह ने कहा कि धान खरीदी केन्द्रों के निरंतर मानिटरिंग के लिए नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की जायेगी। नोडल अधिकारी, समिति प्रबंधक, ऑपरेटर सहित सभी कर्मचारियों के निरंतर संपर्क में रहेंगे और उनसे प्रतिदिन की प्रगति जानकारी भी लेंगे।

इसके अलावा धान खरीदी केन्द्र में स्थानीय स्तर पर होने वाली समस्याओं का भी निराकरण किया जायेगा। धान खरीदी केन्द्रों में कोविड-19 की होगी जांच:- कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि धान खरीदी केन्द्रों में धान बेचने आने वाले किसानों का कोविड-19 की जांच की जायेगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के अमले की नियुक्ति की जायेगी। उन्होंने यह भी कहा कि धान खरीदी केन्द्रों पर अधिक भीड़-भाड़ न हो इसका विशेष ध्यान रखा जाये। उन्होंने धान खरीदी केन्द्रांे पर मास्क का उपयोग, हाथों की सफाई के लिए साबुन या सेनेटाइजर की उपलब्धता तथा सोशल एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग सहित शासन द्वारा जारी गाईड लाईन का पालन करने कहा। 

टोकन संबंधी जानकारी:- बैठक में कलेक्टर ने बताया कि धान खरीदी केन्द्रों में धान बेचने के लिए आने वाले किसानों को अधिकतम तीन बार टोकन जारी किया जायेगा। किसान निर्धारित तिथि को टोकन में उल्लेखित मात्रा के अनुसार ही अपना धान बेच सकेंगे। यदि कृषक निर्धारित तिथि को अपना धान विक्रय नहीं कर पाता है तो वह टोकन लैप्स हो जायेगा। बताया गया कि रविवार से शुक्रवार तक टोकन जारी किया जायेगा। किसानों के लिए साढ़े 9 बजे से शाम 5 बजे तक टोकन जारी किया जायेगा। धान खरीदी केन्द्रों में सुबह 9.30 बजे से रात्रि 9 बजे तक खरीदी की कम्प्यूटर में एंट्री की जायेगी। इसके अलावा टोकन में केवल एक बार ही संशोधन किया जा सकेगा।

बारदाने की उपलब्धता एवं व्यवस्थाओं की ली जानकारी:-कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि धान खरीदी करने वाले थोक एवं खुदरा व्यापारियों का भी स्टॉक वेरीफिकेशन कर लेवें। धान खरीदी करने वाले एवं उसका परिवहन करने वाले व्यापारियों का सौदा पत्रक काटा जाना सुनिश्चित किया जाये एवं अनुज्ञा मिलने के बाद ही उसका परिवहन सुनिश्चित किया जाये। अनुज्ञा पत्र एवं सौदा पत्रक नहीं होने की स्थिति में पैनाल्टी लगायी जाये। इसके लिए मंडी सचिव को विशेष रूप से निर्देशित किया गया है। बैठक में बारदाने की उपलब्धता एवं अब तक की गयी व्यवस्थाओं की जानकारी ली। उन्होंने बताया कि जिले में 3 तरह के बारदाने उपलब्ध हुए हैं। जिसमें पीडीएस, राईस मिलर्स एवं नये जूट के बारदानें शामिल हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *