सीएसआर मद प्रभावित गांव में खर्च हो..चैयरमैन पटेल ने कहा.योजनाओं की लगातार हो रही समीक्षा

बिलासपुर—-(रियाज अशरफी)-लघु और सीमांत किसान तक शासन की योजनाओं का लाभ पहुंचाना राज्य सरकार की मंशा है। यह बातें छ्त्तीसगढ़ राज्य शाकंभरी बोर्ड अध्यक्ष रामकुमार पटेल ने एक दिवसीय प्रवास के दौरान सीपत में कही। राजकुमार पटेल ने बताया कि  सरकार का उद्देश्य उद्यानिकी विभआग की योजनाओं के माध्यम से गरीब वर्ग को आर्थिक रूप से मजबूत करना है।
                 छत्तीसगढ़ राज्य शाकंभरी बोर्ड के अध्यक्ष रामकुमार पटेल शनिवार को एक दिवसीय प्रवास पर सीपत पहुचे। एनटीपीसी के जाह्नवी गेस्ट हाउस में पत्रकारों से चर्चा के दौरान बताया कि  लघु और  सीमांत किसानों तक शासन की योजनाओं का लाभ मिल रहा है कि इस बात का पता लगाने प्रदेश के सभी जिलों का भ्रमण पर हैं। पटेल ने बताया कि योजना का लाभ मिल रहा है या नहीं और अगर लाभ मिल रहा हैं तो उसका सही उपयोग लोग कर पा रहे हैं या नहीं इसकी जमीनी हकीकत परखने का लगातार प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए शाकंभरी बोर्ड के पदाधिकारी प्रदेश के सभी जिलों का दौरा कर रहे है।
             बोर्ड के अध्यक्ष रामकुमार पटेल ने बताया की राज्य सरकार की मंशा उद्यानिकी विभाग की योजनाओं के माध्यम से गरीब तबके के लोगों की आर्थिक स्थिति को मजबूत करना है। यही कारण है कि भाजपा के शासन काल मे चलाये जा रहे कुछ योजनाओं में बदलाव करते हुए किसानों को फायदा पहचाने का प्रयास किया गया है। पहले किसानों को बीज वितरण ठेकेदार के माध्यम से होता था। कमाई के चक्कर मे किसानों को घटिया किस्म की बीज बांटी जाती थी । लेकिन कांग्रेस सरकार ने इस प्रथा को बंद कर दिया है। 
                   अब किसान पोषण बाड़ी योजना के तहत पैसे देकर अपनी मर्जी के दुकान से बीज खरीद सकता है। उसकी पक्की रसीद जीएसटी बिल समेत कार्यालय में जमा करने के बाद किसानों के खाते में बीज खरीदी का पैसा हस्तांतरित किया जाएगा। इसके अलावा राजीव गांधी न्याय योजना के तहत तीन सालों तक एक-एक मीटर के अंतराल में आम का पेड़ लगाने वाले को नुकसान होने पर 9 हजार रुपये और 5 वर्षो तक लगाने वाले किसानों को 10 हजार रुपये की छतिपूर्ती सरकार करेगी।
                  इसके लिए किसानों को सबसे पहले पंजीयन और फसलों का बीमा कराना होगा। रामकुमार पटेल बताया कि कई प्लांटों के प्रदूषण से नर्सरी प्रभावित हो रहे है।जिसकी सुरक्षा व्यवस्था के लिए जिम्मेदार अधिकारियों को निर्देशित किया गया है।  उन्होंने कहा कि सीएसआर का मद प्रभावित गांव के विकास में लगना चाहिए। लेकिन ऐसा हो नहीं  रहा है। बल्कि सीएसआर मद का दुरुपयोग हो रहा है।
           उचित स्थान पर मद का उपयोग हो.. इसके लिए अधिकारियों को निर्देशित किया जा रहा है। नर्सरी और बागवानी में सीएसआर मद का उपयोग हो.. इसके लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है। इस  अवसर पर जिला यूथ कांग्रेस सचिव राजू सूर्यवंशी, पिछड़ा वर्ग ब्लाक कांग्रेस उपाध्यक्ष डॉ भोज यादव,पूर्व जिला पंचायत सदस्य अशोक सूर्यवंशी सहित अन्य उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.