बिलासपुर की जनता ने कर ही दिया जंग का एलान..अमित ने कहा.रेलवे महाप्रबंधक कार्यालय का करेंगे घेराव..बताया ..शायद रेलवे भूल गया…लेकिन हमें याद है जोन आंदोलन

बिलासपुर–– जिले की जनता ने प्रबुद्ध नागरिकों की अगुवाई में नागरिक सुरक्षा मंच के बैनर तले रेलवे महाप्रबंधक कार्यालय घेरने का एलान किया है। नागरिक मंच के अगुवाई कर रहे अमित तिवारी ने बताया कि आम जनता रेलवे प्रशासन की तानाशाही से तंग आ चुकी है। अपील दलील का दौर भी खत्म हो गया ह। हमें मालूम है कि रेलवे जोन कैसे हासिल किया। और अब बन्द गाड़ियों का नियमित संचालन कैसे कराना है। 

                  नागरिक सुरक्षा मंच के अगुवाई कर रहे जिम्मेदार लोगों के साथ ही अमित तिवारी ने बताया कि पिछले 6 महीने बिलासपुर मण्ल की सैकड़ों यात्री गाड़ियों को जब तब बिना किसी पूर्व सूचना के बन्द कर दिया गया। इच्छा पड़ी तो चालू कर दिया..और 24 घन्टों के अन्दर बन्द कर दिया। इसे रेलवे की तानाशाही नहीं तो और क्या कहेंगे। इतना ही नहीं रेलवे प्रबंधन ने ऐतिहासिक स्टेशनों पर गाड़ियों के ठहरावन को भी हमेशा के लिए बन्द किया है। इससे छोटे  व्यापारियों से लेकर गरीब और आदिवासी जनता को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 

      अमित ने बताया कि रेलवे प्रशासन ने जब तब उठ रहे आंदोलन को आश्वासन का झुनझुना थमाकर जनता के साथ विश्वासघात किया है। अब बिलासपुर की जनता ने फैसला किया है कि रेलवे की तानाशाही को बर्दास्त नहीं किया जाएगा। कभी कोयला लदान के नाम पर तो कभी मेन्टनेन्स के नाम पर गाड़ियों को रोका जा रहा है। 

                इसलिए जनता की परेशानियों को ध्यान में रखते हुए 21 सितम्बर को 12 बजे महाप्रबंधक कार्यालय का ना केवल जंगी घेराव बल्कि उग्र प्रदर्शन भी  किया जाएगा। इस बात को स्प्ष्ट करना जरूरी है कि हम बिलकुल नहीं चाहते कि आंदोलन का स्वरूप रेल आंदोलन जैसा हो। बावजूद इसके रेलवे ने जनता की पीड़ा को समझने का प्रयास नही किया तो रेलवे आंदोलन की पुनरावृत्ति का इंकार नहीं किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.