5 दिन का वेतन काटकर देयक जमा करने का फरमान नियम विरुद्ध

रायपुर।छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा ने मुख्य सचिव व जीएडी सचिव से हड़ताल अवधि का वेतन काटने पर विरोध दर्ज करते हुए ट्रेजरी में वेतन बिल जमा लेकर 3 तारीख तक सभी का वेतन भुगतान करने कहा है।संजय शर्मा ने कहा है कि जुलाई का वेतन क्यो और किस आधार पर रोका जा रहा है, कर्मचारियों की उपस्थिति 21 तारिक से आगामी 20 तारिक को मान्य किया जाता है, बीच मे हड़ताल से कोषालय बन्द था, तो अब जुलाई का वेतन क्यो नही दिया जाएगा,? क्या अगस्त में जुलाई के वेतन शासन नही देगी,?

29 जुलाई को जारी,,25 जुलाई से हड़ताल में शामिल कर्मचारियों के वेतन कटौती सम्बन्धी शासन आदेश के आधार पर जानकारी लिए बिना ही 5 दिन के वेतन कटौती कर ट्रेजरी द्वारा देयक जमा करने कहना नियम विरुद्ध है, इस संबंध में –

  1. शासन वेतन कटौती का आदेश निरस्त करे।
  2. जो कर्मचारी हड़ताल में नही थे, उनका वेतन निकाला जाए।
  3. यह अगस्त माह है इसीलिए जुलाई का वेतन सभी का निकाला जाए।
  4. हड़ताल अवधि के वेतन कटौती का निर्णय अगस्त में लिया जाना पूर्णतः गलत है।
  5. लंबित DA व 7 वें वेतनमान पर HRA देय तिथि से शीघ्र दिया जावे।

संजय शर्मा, वीरेंद्र दुबे, विकास राजपूत, सुधीर प्रधान, वाजिद खान, हरेंद्र सिंह, देवनाथ साहू, बसंत चतुर्वेदी, प्रवीण श्रीवास्तव, विनोद गुप्ता, डॉ कोमल वैष्णव, मनोज सनाढ्य, शैलेन्द्र पारीक ने कहा है कि लंबित महंगाई भत्ता व 7 वे वेतनमान के आधार पर गृह भाड़ा भत्ता दिए जाने की मांग निरन्तर की गई थी, शासन द्वारा कोई सकारात्मक पहल नही किया गया, जिसके कारण ही कर्मचारी व शिक्षक अपने वैधानिक अधिकार के लिए सूचित कर हड़ताल में गये है, यह कर्मचारी अधिकार की रक्षा हेतु हड़ताल था जो पूर्णतः उचित है, शासन के वेतन कटौती के आदेश से कर्मचारियों में भारी रोष है, अतः शासन वेतन कटौती का आदेश निरस्त कर लंबित DA व 7 वे वेतनमान पर HRA देय तिथि से दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.