सीपत तहसीलदार को हटाने की मांग..लिपिकों ने की पुलिस कप्तान और प्रशासन से शिकायत..कहां ..FIR करें निरस्त..मामले में कराएं निष्पक्ष जांच

बिलासपुर—लिपिक संघ ने बुधवार को जिला प्रशासन और पुलिस कप्तान से सीपत तहसीलदार तुलसी राठौर की शिकयत की। पुलिस कप्तान और जिला प्रशासन को लिपिक नेता रोहित तिवारी ने बताया कि तुलसी राठौर ने कर्मचारी आचरण संहिता का उल्लंघन किया है। खुद को पाक साफ साबित करने अधीनस्थ पर एफआईआर दर्ज कराते हुए कर्मचारियों को प्रताडित कर रही है। ऐसे अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जरूरत है। सूर्यवंशी बाबू की मौत की निष्पक्ष जांच की मा्ंग करते हुए लिपिक नेता ने कहा कि तुलसी राठौर को जल्द से जल्द स्थानांतरण किया जाए।

            छत्तीसगढ़ लिपिक संघ की जिला ईकााई ने आज कलेक्टर और पुलिस प्रशासन से सीपत तहसीलदार तुलसी राठौर की लिखित शिकायत कर हटाए जाने की मांग की है। प्रांतीय अध्यक्ष रोहित तिवारी ने जिला और पुलिस प्रशासन को बताया कि सीपत तहसीलदार तुलसी राठौर, का कार्य व्यवहार शासन के निर्धारित नियमों के खिलाफ है। कर्मचारियों लगातार प्रताडित किया जाता है। तहसीलदार खुले आम सिविल सेवा आचरण नियमों का उल्लंघन कर रही है। इससे शासन-प्रशासन की छवि धूमिल हुई है।
 
                   रोहित तिवारी ने पुलिस कप्तान को बताया कि 4 सितबंर 2021 को सीपत तहसीलदार ने भरतलाल सूर्यवंशी को अपने चेम्बर में बुलाया…और जमकर फटकारा । इस दौरान कार्यालय में पदस्थ दूसरा बाबू भागवत प्रसाद मिश्रा भी मौजूद थे। इसके बाद दोनो  घर चले गए। बुरी तरह से अपमानित महसूस कर रहे भरतलाल सूर्यवंशी ने अपनी पत्नी को घटनाक्रम की जानकारी दी। फटकार से दुखी भरतलाल सूर्यवंशी की 11 बजे हार्ट अटैक से मौत हो गयी।
 
                 भरतलाल सूर्यवंशी की मौत के बाद तहसीलदार ने बी.पी. मिश्रा को बुलाकर कहा कि लोगों को बताएं कि सूर्यवंशी बाबू की मौत डांट फटकार से नहीं हुई है। बीपी मिश्रा ने तहसीलदार की बात मानने से इंकार कर दिया। नाराज तुलसी राठौर ने मिश्रा बाबू पर 1 लाख रूपए मांगे जाने की शिकायत थाने में दर्ज करायी। दबाव  डालकर आईपीसी की धारा 384 के तहत अपराध कायम कराया । 
     
                      रोहित ने पुलिस कप्तान को बताया कि गैर जमानती अपराध दर्ज होने के काण लिपिक न्याय पाने के लिए दर-दर भटक रहा है। बीपी मिश्रा के खिलाफ दर्ज एफआईआर को खत्म करते हुए बाबू की गिरफ्तारी पर रोक लगायी जाए। पूरे घटनाक्रम की निष्पक्ष जांच हो।
 
              पत्रकारों को रोहित तिवारी ने बताया कि पुलिस कप्तान ने शिकायत को गंभीरता से लिया है। साथ ही मौके पर ही थाना प्रभारी सीपत को जरूरी दिशा निर्देश भी दिया है।लिपिक नेता कहा कि सीपत तहसीलदार तुलसी राठौर की क्षेत्र में कई गंभीर शिकायत हैं। यदि निष्पक्ष जांच हुई तो परत दर परत झूठ और सच सामने आ जाएगा। 
 
                  कर्मचारी नेता ने कहा कि यदि तहसीलदार का स्थानांतरण नहीं किया जाता है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *