धनतेरस पर बाजारों में दिखी रौनक,खरीदारी के लिए उमड़ा लोगों का हुजूम- कोविड प्रोटोकॉल को ताक पर रखा

दिल्ली।धनतेरस के त्योहार पर मंगलवार को बाजारों में रौनक दिखाई दी. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित देश के तमाम शहरों में खरीदारी के लिए बड़ी संख्या में लोगों का हुजूम उमड़ा. हालांकि इस दौरान लोगों ने कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालान नहीं किया. कई लोग बिना मास्क के घूमते दिखाई दिए और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई गई. दिल्ली के चांदनी चौक से लेकर लाजपत नगर तक त्योहार की चहल-पहल दिख रही थी, आभूषण की दुकानों और रेस्टोरेंट पर भारी भीड़ थी.

धनतेरस दिवाली त्योहार की शुरुआत का प्रतीक है और लोग पारंपरिक रूप से सोना, आभूषण और स्टील के बर्तन खरीदते हैं. चांदनी चौक सर्व व्यापार मंडल के अध्यक्ष संजय भार्गव ने कहा, “चांदनी चौक के बाजारों में भीड़ दो दिन पहले की तुलना में कई गुना बढ़ गई है और बड़ी संख्या में लोगों ने या तो मास्क नहीं पहना है या इसे गलत तरीके से पहना है.” उन्होंने कहा, हालांकि पुरानी दिल्ली के चांदनी चौक बाजार में भीड़ की मात्रा कोविड से पहले के दिनों की तुलना में अपेक्षाकृत कम है.भार्गव ने आरोप लगाया, “प्राधिकारियों की ओर से भी कोविड सुरक्षा मानदंडों को लागू करने में ढिलाई है.” बाजारों में कई दुकानदारों ने सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों का उल्लंघन करने की शिकायत की. सोमवार और उससे पहले के दिनों की तुलना में मिठाई की दुकानों और रेस्तरां में भी बड़ी भीड़ देखी गई. कई मेट्रो स्टेशनों पर भी भीड़ देखी गई, जिनमें से कुछ बाजारों के पास स्थित हैं जैसे साउथ एक्सटेंशन मार्केट में साउथ एक्स स्टेशन, सेंट्रल मार्केट के पास लाजपत नगर स्टेशन और कनॉट प्लेस में राजीव चौक स्टेशन है.

पश्चिम बंगाल में इलेक्ट्रॉनिक सामानों के लिए मशहूर कोलकाता के चांदनी मार्केट में दिवाली त्योहार से पहले बड़ी संख्या में खरीदार नजर आए. एक दुकानदार ने कहा कि कारोबार धीमा है लेकिन पिछले साल की तुलना में बेहतर है. COVID-19 के कारण दुकानदारों की भीड़ अभी भी कम है. वहीं, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने धनतेरस के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी. एक ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा “सभी देशवासियों को धनतेरस की शुभकामनाएं.”

धनतेरस के दिन 100-150 टन बिक जाता है सोना

धनतेरस के मौके पर सोना और चांदी की खरीदारी भी तेज है. सोने की कीमतों में नरमी से भी खरीदारी बढ़ी. व्यापारियों को उम्मीद है कि सोने की बिक्री महामारी से पहले के स्तर को हासिल कर लेगी. व्यापारियों ने यह भी कहा कि सुबह 11.30 बजे (मुहूर्त समय) के बाद बाजार में लोगों की भीड़ बढ़ी और यह सिलसिला बुधवार सुबह तक जारी रहेगा. सोने की कीमत मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी में 46,000-47,000 रुपये प्रति 10 ग्राम (करों को छोड़कर) के दायरे में थीं, जो इस साल अगस्त में 57,000 रुपये से अधिक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई थी. हालांकि, सोने की दर अभी भी धनतेरस 2020 के भाव 39,240 रुपये प्रति 10 ग्राम की तुलना में 17.5 प्रतिशत अधिक है. एक अनुमान के मुताबिक, धनतेरस के दिन 100-150 टन सोना (महामारी से पहले के वर्षों में) बेचा जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *