धरमलाल कौशिक बोले-छग में कांग्रेस सरकार बनने के बाद विधानसभा के सत्रों में हो रही कटौती, राहुल के मुद्दे को लेकर बोले…

रायपुर।जुलाई में विधानसभा सत्र घोषित किए गए हैं लेकिन हम देख रहे हैं कि लगातार छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद में सत्रों को लेकर कटौती की जा रही है। उक्त बातें छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रेस वार्ता के दौरान कही।श्री कौशिक ने कहा कि पिछला बजट सत्र छत्तीसगढ़ बनने के बाद में सबसे छोटा सत्र रहा है। अभी अधिसूचना जारी नहीं हुई है। मैं विधानसभा अध्यक्ष और मुख्यमंत्री से यह चाहूंगा की ये सत्र बड़ा हो और इसमें किसी प्रकार की कटौती न हो बल्कि लंबा सत्र होने से प्रदेश के सभी विषय आएँगे।आज खाद की समस्या है, लगातार बढ़ते हुए अपराध है, माफियाओं द्वारा लोगों को जिस तरह परेशान किया जा रहा है ऐसे बहुत से मुद्दे हैं लेकिन चर्चा हो नहीं पाती इसलिए इस सत्र की अवधि को थोड़ा लम्बा करें। सत्र की अवधि जितनी लंबी होगी सबको पर्याप्त अवसर मिलेगा।

खाद की कमी को लेकर उन्पूहोंने सरकार को घेरते हुए कहा -पूरे प्रदेश में खाद की आवश्यकता और इसे लेकर कांग्रेस राजनीति कर रही है। लगातार अलग-अलग जिलों मे किसान परेशान हो रहे हैं। सोसायटी में खाद उपलब्ध नहीं है लेकिन खुले बाजार में खाद की उपलब्धता है। आखिर ये किस बात को दर्शित कर रही है? यूरिया में कालाबाजारी को सरकार द्वारा प्रोत्साहन है और लगातार ब्लैक मार्केटिंग हो रही है।

लेकिन सरकार उस पर नियंत्रण नहीं हो रहा है। भाजपा के शासनकाल में 15 साल में कभी खाद की कमी नहीं हुई लेकिन कांग्रेस के आने के बाद लगातार खाद में कमी पड़ रही है। धरमलाल कौशिक ने आगे कहा कि एक तरफ ये आरोप लगाते हैं की केंद्र सरकार खाद कम दे रही है तो मेरा ये पूछना है कि जब वही खाद बाजार में उपलब्ध है तो आपके सोसायटी में क्यों नहीं है?

राहुल गांधी की ED में पेशी का विरोध करने के मुद्दे पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि इसमें प्रदर्शन की कोई आवश्यकता नहीं है। ये दबाव बनाने का प्रयास कर रहे हैं। दूसरा केंद्र सरकार को बदनाम करने का प्रयास कर रहे हैं।आपको मालूम है ED संस्था कब से है। ED एक संवैधानिक संस्था है और उसके द्वारा जांच की जा रही है और इससे विचलित होने की आवश्यकता कांग्रेस को नहीं है। आदमी छोटा हो या बड़ा हो कानून के दायरे से बड़ा नहीं है। जब लंबे समय तक कांग्रेस की UPA सरकार रही तो क्या ED ने काम करना बंद कर दिया था ?इस महीने17 तारीख से हमारा प्रशिक्षण कार्यक्रम होगा। बीजेपी सिर्फ चुनावी पार्टी नहीं है बल्कि समय-समय पर इस प्रकार के आयोजन का कार्यक्रम करते रहते हैं।

जांजगीर में राहुल साहू को बचाने वाली टीम को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि उनके अथक प्रयास से राहुल का जीवन बचा उसके लिए शुभकामना। उन्हें सम्मानित किया जा रहा है अच्छी बात है लेकिन लगातार देश और यहां भी जो घटना हुई है आगे इस प्रकार की घटना न हो इसके लिए सरकार की तरफ से कोई न कोई निर्देश जारी होना चाहिए। ये पहली घटना नहीं है देश में, ऐसी बहुत सी घटनाएं होती हैं। दूसरी इसकी जांच भी होनी चाहिए। आखिर वो बोर में कैसे फंसे? उसका कारण क्या है और कारण में जाकर निर्देश जारी करने की जरुरत है।

शाला प्रवेश उत्सव पर तंज कस्ते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा – ये प्रवेश उत्सव है अभी शुभारंभ नहीं किया। और ये कोई पहली बार नहीं है, जब रमन सिंह सीएम थे तब भी करते रहते थे और आज भी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री प्रदेश के स्कूलों में जाकर देखें कि बच्चों का पर्सेंटेज कितना है? आज अगर टीचर भी बनना है तो उसके लिए 60 प्रतिशत उसके लिए आवश्यक है।सीएम 2 स्कूलों में जाकर देख लें। वो जाते हैं तो सिर्फ आत्मानंद में लेकिन हिंदी मीडियम स्कूलों से पता नहीं क्यों दूरी बना कर रखते हैं? हिंदी स्कूल से दूरी क्यों है पता नहीं लेकिन लगाव उन्हें अंग्रेजी के प्रति है। मुख्यमंत्री का अंग्रेजी प्रेम जगा है लेकिन इससे हमारे हिंदी स्कूल प्रभावित हो रहे हैं। जहां भी खोल रहे हैं लोग विरोध कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ में शिक्षा स्तर लगातार गिरती जा रही है।

सफाई कर्मचारियों के इस्तीफे पर उन्होंने कहा कि सामूहिक इस्तीफे की पेशकश करना उनकी मजबूरी है। क्योंकि सरकार ने घोषणा तो बहुत सारी की लेकिन घोषणा के बाद मुख्यमंत्री उनसे कटरा रहे हैं। उनके पास करो या मरो की स्थिति है और सरकार को जगाने के लिए उन्होंने त्याग पत्र की पेशकश की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *