फर्जी जाति प्रमाण पत्र देकर नौकरी पाने के आरोप में डॉक्टर गिरफ्तार

Shri Mi
2 Min Read

ओडिशा में कोरापुट पुलिस ने गंजम जिले के बरहामपुर स्थित एमकेसीजी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में गलत जाति प्रमाण पत्र पेश कर नौकरी हासिल करने के आरोप में एक वरिष्ठ डॉक्टर को गिरफ्तार किया है।

आरोपी डॉक्टर दुर्गादत्त सासनी आदिवासी बहुल कोरापुट जिले के सेमिलिगुडा इलाके के समबाया कॉलोनी का रहने वाला है।

दुर्गादत्त वर्तमान में बरहामपुर में एमकेसीजी मेडिकल कॉलेज के एनेस्थिसियोलॉजी विभाग में सहायक प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं।

यह भी पढ़े

उन्हें 20 जुलाई 2023 को उनके छोटे भाई द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर दर्ज मामले के सिलसिले में बुधवार को गिरफ्तार किया गया था।

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि मूल रूप से ब्राह्मण जाति से आने वाले दुर्गादत्त ने सामान्य वर्ग के छात्र के रूप में कला स्ट्रीम में स्नातक तक पढ़ाई की।

दुर्गादत्त ने अपनी मूल पहचान के साथ सामान्य श्रेणी के तहत भुवनेश्वर के एक कॉलेज में डी फार्मा कोर्स भी किया। शिकायत के अनुसार, दुर्गादत्त ने कथित तौर पर खुद को आदिवासी बताते हुए एक फर्जी प्रमाणपत्र हासिल किया।

कथित तौर पर उसने फर्जी जाति प्रमाण पत्र का उपयोग कर एमकेसीजी मेडिकल कॉलेज में 2006 में एमबीबीएस पाठ्यक्रम और 2014 में तीन वर्षीय विशेषज्ञता पाठ्यक्रम में प्रवेश लिया।

वह 2021 से मेडिकल कॉलेज के एनेस्थिसियोलॉजी विभाग में सहायक प्रोफेसर के रूप में काम कर रहे हैं।

एक स्थानीय पुलिस अधिकारी ने कहा कि 2003 में आरोपी ने खुद को मंदारगुडा गांव के एक अनुसूचित जनजाति के व्यक्ति का बेटा दिखाकर जाली उपनाम के तहत गलत जाति प्रमाण पत्र प्राप्त करने में कामयाबी हासिल की।

पुलिस अधिकारियों ने दावा किया कि आरोपी ने बाद में फर्जी प्रमाण पत्र के साथ भुवनेश्वर के बीजेबी कॉलेज में डिस्टेंस एडुकेशन के माध्यम से दसवीं कक्षा, विज्ञान स्ट्रीम में प्लस2 (12वीं की) नियमित पाठ्यक्रम की पढ़ाई की।

यह भी पढ़े
By Shri Mi
Follow:
पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close