हमार छ्त्तीसगढ़

EC मार्च के पहले हफ्ते में कर सकती है लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान

नईदिल्ली।मार्च में लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है।मीडिया रिपोर्ट मेंं अनुसार चुनाव आयोग मार्च के पहले हफ्ते में तारीखों का ऐलान कर सकती है।चुनाव के चरणों की संख्या और मतदान के महीने को तय करने की प्रक्रिया में है. यह सब चीज़ें सुरक्षा बलों की उपलब्धता और अन्य आवश्यकताओं पर निर्भर करेगी।

मार्च के पहले हफ्ते में तारीखों की घोषणा हो सकती है. सूत्रों ने कहा कि निर्वाचन आयोग परीक्षा कार्यक्रमों, अवकाशों और उपलब्ध सुरक्षा बलों के संदर्भ में आवश्यक संसाधानों का हिसाब लगा रहा है, क्योंकि यह दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक आयोजन होता है. 2004 में चुनाव आयोग ने 29 फरवरी को चार चरणों में होने वाले लोकसभा चुनाव की घोषणा की थी. मतदान की पहली तारीख 20 अप्रैल थी, जबकि अंतिम तिथि 10 मई थी. 2009 में चुनाव आयोग ने 2 मार्च को लोकसभा चुनाव की तारिख की घोषणा की थी. 16 अप्रैल से पांच चरणों के चुनाव शुरू हुए और 13 मई को समाप्त हुए थे. 2014 का लोकसभा चुनाव 9 चरणों में हुआ था, जिसके लिए 7 अप्रैल से लेकर 12 मई 2014 तक वोट डाले गए थे।

चुनाव आयोग आंध्र प्रदेश, ओडिशा, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव को लोकसभा चुनाव के साथ करवा सकती है. जम्मू-कश्मीर विधानसभा भी भंग हो चुकी है. चुनाव आयोग को 6  महीने के अंदर चुनाव करवाने होंगे. ऐसे में संभावना है कि चुनाव आयोग जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनाव एक-साथ करवा सकता है. जम्मू-कश्मीर का विधानसभा कार्यकाल 6 साल का होता है जबकि अन्य विधानसभाओं और लोकसभा का पांच साल का कार्यकाल होता है.

एक्साइज के छापे में खुलासा,नहर के पानी से बन रही थी महुए की शराब,पाइप लाइन बिछाकर पाउच में होती थी पैकिंग,पकड़ी गई डेढ़ सौ लीटर शराब

सिक्किम विधानसभा का कार्यकाल 27 मई 2019 को खत्म होगा. मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल तीन जून को समाप्त होगा, सिक्किम विधानसभा का कार्यकाल 27 मई को, आंध्र प्रदेश का विधानसभा का 18 जून को, ओडिशा विधानसभा का 11 जून को और अरुणाचल प्रदेश विधानसभा का कार्यकाल 1 जून को समाप्त होगा।

इससे पहले गुहरात में बीजेपी के वरिष्ठ नेता और उपाध्यक्ष आई के जडेजा ने लोकसभा चुनावों की तारीख को लेकर दावा किया था. उन्होंने दावा किया की लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान मार्च के पहले हफ्ते में हो सकता है. इसी के हिसाब से कार्यकर्ता, नेता, संगठन और सरकार चुनावी तैयारी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी इसी लिहाज से चुनावी कार्यक्रमों का रोडमैप तैयार कर रही है.

ओडिशा में लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव होंगे. बीजेपी ने ओडिशा की 147 सदस्यीय विधानसभा में 120 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है. ओडिशा में फ़िलहाल बीजेडी सत्तारूढ़ है. राज्य में बीजेडी 18 साल से सत्ता पर काबिज है. ओडिशा में हुए पंचायत चुनावाओं में सत्ताधारी पार्टी शीर्ष स्थान पर कायम रही, मगर बीजेपी का भी बेहतर प्रदर्शन रहा है. कांग्रेस तीसरे स्थान पर रही थी.

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS