अनुभव 4.0 – सर्व धर्म सभा में धर्म के व्यवहारिक पक्ष पर हुई चर्चा,दरवेश- ग्रेगोरियन चैंट एवं गुरबानी से गूंजा पंडाल

बिलासपुर ।आधारशिला विद्या मंदिर और स्पिकमेके के साझे-प्रयास से चले रहे कार्यक्रम में छात्रों ने विभिन्न धर्मों को उनके प्रतिनिधियों से जाना एवं समझा | इस कार्यक्रम में गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के अध्यक्ष श्री तेजिंदर पल सिंह अरोड़ा, मंजू दीदी (ब्रह्मकुमारी) एवं पास्टर जॉर्ज बच्चों से रूबरू हुए | साथ ही स्पिक मेके द्वारा ऑनलाइन माध्यम से बच्चों को दरवेश, ग्रेगोरियन चैंट एवं गुरबानी सुनाया गया |

ब्रह्मकुमारी से पधारीं मंजू दीदी ने छात्रों की दिनचर्या एवं अभ्यास के संबंध में जाना एवं उनके द्वारा किये गए श्रम की सराहना की | उन्होंने बच्चों को बताया कि उन्होंने धर्म एवं मूल्य शिक्षा में एम.एस.सी के दौरान विभिन्न धर्मों का अध्ययन किया है और यह पाया कि सभी धर्म मनुष्य को आन्तरिक रूप से विकसित करना चाहते हैं | उन्होंने कहा कि सच तो यही है – आदमी हर संप्रदाय में एक ही जैसा है, उसकी चाहतें भी एक जैसी हैं | सभी लोग सत्य, शांति एवं प्रेम की आकांक्षा रखते हैं | इस रास्ते पर चलना हमें धर्म सीखाता है | वह धर्म हम सबके अंदर है |

श्री तेजिंदर पाल सिंह जी ने गुरबानी के संगीत के बारे में बच्चों से पूछा | उनके जवाबों को सराहते हुए उन्होंने विभिन्न ‘शबद’ में प्रयुक्त रगों के बारे में जानकारी दी | उन्होंने छात्रों को यह भी बताया कि अच्छा रागी बनने के लिए काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि अवगुणों का त्याग करना पड़ता है | ऐसे त्यागी सद्पुरुषों को ही समाज रागी के रूप में पसंद करता है एवं उन्हें ही प्रमुख गुरुद्वारों में जगह मिलती है | उन्होंने बताया कि अगर हम चाहें तो हमारा खूब आन्तरिक विकास हो सकता है | इसके लिए हम न सिर्फ धर्म के बारे में जाने बल्कि उसे जीयें भी |

पास्टर जॉर्ज ने भी सभी के लिए प्रार्थना की और सबके प्रयास को सराहा | उन्होंने कहा कि इश्वर शांति के लिए संगीत को लेकर आया | मुझे यह जान कर बहुत ख़ुशी हो रही है कि आप सब संगीत सीख रहे हैं | ध्यान, संगीत, योग एवं दिनचर्य निश्चय हैं ही आपको मदद करेगी |

संस्था के चेयरमैन श्री अजय श्रीवास्तव ने सभी धर्म प्रतिनिधियों का धन्यवाद दिया | उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम से एकता एवं अखंडता के लिए बहुत उम्मीदें जगती हैं | उन्होंने बताया कि उन्होंने स्पिक मेके के 11 राष्ट्रीय अधिवेशन में भाग लिया है और यह सम्मलेन फिर भी खास है क्योंकि छात्रों के खूब प्रयास किया |

आज भारतीय संगीतकार श्रीमती सुमित्रा गुहा द्वारा सभास्थल मंच पर भारतीय वोकल एवं संत कबीर की प्रस्तुति दी l विद्यालय प्रांगण भारतीय वोकल म्यूजिक से मंत्र मुग्ध हो गया ।

सुमित्रा गुहा, एक विश्व प्रसिद्ध भारतीय शास्त्रीय संगीतकार और ऑल इंडिया रेडियो के शीर्ष ग्रेड कलाकार हैं। वह भारतीय संगीत की राजदूत हैं और उन्होंने पूरे भारत और दुनिया में प्रतिष्ठित मंचों पर प्रदर्शन किया है। उन्हें कला के लिए पद्म श्री (भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों में से एक) और ICCR के साथ एक उत्कृष्ट कलाकार से सम्मानित किया गया है। इसके बाद विद्यार्थियों के संपूर्ण शरीर व मन को रिलैक्स करने के लिए योग गुरु मंजु झा के सानिध्य योग निद्रा की साधना ।3:00 बजे सभी धर्मों हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई प्रार्थना इसके बाद विद्यार्थियों ने संपूर्ण शरीर व मन को रिलैक्स करने के लिए गुरु मंजु झा के सानिध्य योग निद्रा की साधना की । लाइव कार्यक्रम विदुषी विशाखा हरि के द्वारा प्रस्तुत किया गया हरि कथा का आनंद लिया ।

सभी बच्चे विभिन्न मोड्यूल कार्यक्रमों में भी सक्रिय भागीदारी दिखा रहे हैं | आज शाम को प्रसारित कार्यक्रम में छात्रों ने प्रसारित लाइव कार्यक्रम हिन्दुस्तानी विदुषी कपिला वीनु (कोडियट्म) का आनंद लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *