मेडिकल व्यवसायी के खिलाफ FIR..पीड़ित का आरोप..ना जमीन दिया..ना ही 11 लाख लौटाया

बिलासपुर— सिटी कोतवाली पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर तेलीपारा स्थित मेडिकल व्यवसायी के खिलाफ 420 का अपराध दर्ज किया है। पीड़ित के अनुसार आरोपी ने 11 लाख रूपयों में जमीन का सौदा किया। बाद में ना तो रूपया लौटाया और ना ही जमीन की रजिस्ट्री किया है। पुलिस के अनुसार जांच पड़ताल के बाद जल्द ही आरोपी के खिलाफ उचित कदम उठाया जाएगा। 
                 जानकारी देते चलें कि करीब दो सप्ताह पहले नारियल कोठी निवासी महेन्द्र कश्यप ने जमीन दलाल मेडिकल व्यवसायी से तंग आकर आत्मदाह का एलान किया  था । दूसरे दिन पुलिस कप्तान कार्यालय पहुंचते ही महेन्द्र कश्यप को पुलिस ने अपने कब्जे में लिया। पूछताछ के दौरान पीड़ित ने बताया कि मेडिकल व्यवसायी सुनील रामचंदानी ने 11 लाख रूपया लिया। 2 साल बीत जाने के बाद भी शर्तों के अनुसार जमीन की रजिस्ट्री नहीं कराया है। ना ही रूपया लौटा रहा है। आरोपी के खिलाफ पुलिस भी शिकायत दर्ज नहीं कर रही है।
                           मामले को गंभीरता से लेते हुए एडिश्नल एसपी उमेश कश्यप ने तत्काल पुलिस टीम का गठन कर छानबीन का आदेश दिया। करीब दो सप्ताह बाद सिटी कोतवाली पुलिस ने महेन्द्र कश्यप की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ 420 का अपराध दर्ज किया है।
                   महेन्द्र कश्यप ने सिटी कोतवाली को बताया कि वह नारियल कोठी दयालबन्द में रहता है। देवरीखुर्द निवासी तेलीपारा मेडिकल कामप्लेक्स स्थित व्यवसायी सुनील रामचदानी से उसका पुराना संबध है। रोज दुकान आना जाना होता है।
        इसी दौरान सुनील रामचंदानी ने बताया कि पटवारी हल्का जूना बिलासपुर स्थित ईमलीपारा में उसका एक जमीन का टुकड़ा है..जिसे वह बेचना चाहता है। बातचीत के दौरान सुनील ने बताया कि  11 लाख रूपयों में  इकरारनामा करने को तैयार है।
               सौदा निश्चित होने पर 22 दिसम्बर 2020 को गवाहों के सामने सुनील को उसके ही दुकान में 11 लाख रूपया दिया। लेकिन उसने मेरे नाम से इकरारनामा नही करते हुए दुूसरे के नाम से किया। समय बीतने के बाद उसने रजिस्ट्री भी करने से इंकार कर दिया।
                महेन्द्र कश्यप ने बताया कि जमीन रजिस्ट्री नहीं होने पर उसने सुनील रामचंदानी से 11 लाख रूपया मांगा। पहले तो उसने देने से  इंकार किया। बाद में 11 लाख रूपयों का एक्सिस बैंक का एक चेक थमा दिया। चेक लगाने के बाद जानकारी मिली कि सुनील रामचंदानी ने किसी दूसरे के खाते का चेक दिया है। रूपया नहीं होने के कारण बैंक ने चैक लौटा दिया। और मेमो भी थमा दिया।
          बहरहाल महेन्द्र कश्यप की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने सुनील रामचंदानी के खिलाफ 420 का अपराध दर्ज कर लिया है। एडिश्नल एसपी उमेश कश्यप ने बताया कि छानबीन के बाद आरोपी के खिलाफ उचित कदम उठाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *