मेरा बिलासपुर

पुलिस विभाग में फण्ड घोटाला..मास्टर माइन्ड महिला ASI ओडिशा में गिरफ्तार..पुलिस से बचने काट रही थी फरार

बिलासपुर— पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पदस्थ सहायक उपनिरीक्षक और फण्ड प्रभारी मधुशिला को सिविल लाइन पुलिस ने धोखाधड़ी और गबन मामले में गिरफ्तार किया है। महिला सहायक उपनिरीक्षक के खिलाफ थाने में अपराध दर्ज था। कार्रवाई से बचने लगातार फरार चल रही थी। पुलिस ने आईपीसी की धारा 409, 420, 467, 468, 471, 477A ,120B का अपराध में महिला सहायक उपनिरीक्षक को गिरफ्तार के न्यायालय के सामने पेश किया। पुलिस के अनुसार महिला कर्मचारी ने कर्मचारियों की भविष्य निधि से  फर्जी तरीके से रकम आहरण कर विभाग को आर्थिक नुकसान पहुंचाया है।
 
               पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पदस्थ फण्ड शाखा प्रभारी सहायक उप निरीक्षक मधुशीला सुरजाल ने फर्जीवाड़ा कर विभागीय भविष्य निधि से खाताधारको के खाते से लाखों रूपयों का आहरण किया। मामला सामने आने के बाद जांच पड़ताल के दौरान पता चला कि महिला अधिकारी ने उपलब्ध धनराशि से अधिक धनराशि का आहरण और भुगतान गलत तरीके से किया है।
 
            फण्ड शाखा में रहते हुए वित्तीय अनियमितता कर शासन को आर्थिक क्षति पहुंचाया है। प्रधान आरक्षक संजय श्रीवास्तव के बिना आवेदन दिए नोट शीट तैयार कर जी.पी.एफ खाते में पर्याप्त धनराशि नहीं होने के बावजूद निकाला है। संजय और मधुशिला ने मिलीभगत कर 15,75,000  रूपये स्वीकृत कर आहरण किया है। इसके अलावा दोनो नेअन्य कर्मचारियों के भविष्य निधि के खाते से भी पर्याप्त धनराशि नहीं होने के बावजूद फर्जीवाड़ा कर आहरण किया।
 
               दोनो ने करीब 60 लाख रूपए का वित्तीय अनियमितता कर शासन को आर्थिक नुकसान पहुंचाया। अनियमितता सामने आने के बाद जांच पड़ताल किया गया। इस दौरान जानकारी मिली कि मंधुशीला सुरजाल ने आहरित धनराशि भारतीय स्टेट बैंक का फर्जी सील बनवाकर कार्यालय में चालान पेश किया है।
 
                   जांच प्रतिवेदन में बताया गया कि फण्ड शाखा के रजिस्टर में आहरण संधारित नही पाया गया। नोट शीट में स्वीकृत राशि के अंक का लेखन और रहस्ताक्षर भिन्न भिन्न हैं। सहायक उपनिरीक्षक मधु शीला सुरजाल और प्रधान आरक्षक संजय श्रीवास्तव ने मिलकर फर्जीवाड़ा को अंजाम दिया है।  जांच प्रतिवेदन के अनुसार मंधुशीला औप संजय श्रीवास्तव ने  षडयंत्र पूर्वक भविष्य निधि के खाते से उपलब्ध धनराशि से अधिक आहरण किया। नोट शीट में पुलिस कप्तान का कूट रचित और मिथ्या हस्ताक्षर किया है। आरोपियों ने फर्जी बैंक चालान और  बैक सील तैयार कर उपयोग किया है।
 
                    पुलिस के अनुसार मामले में आरोपी प्रधान रक्षक संजय श्रीवास्तव को पहले ही गिरफ्तार कर जेल दाखिल कराया गया है। अब फरार मुख्य आरोपीया मधुशीला सुरजाल ओडिशा के पदमपुर से गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया है।

एलपीजी सब्सिडी का सिस्टम नहीं बदलेगा, बैंक खातों में ही जमा होगी सब्सिडी
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS