सरकार ने किया ऐलान- प्रदेश में टूरिस्ट के साथ बदतमीजी पड़ेगी भारी,विधानसभा में विधेयक हुआ पारित

जयपुर।राजस्थान (Rajasthan) में पर्यटकों के साथ गलत व्यवहार को रोकने के लिए राज्य के सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) की सरकार ने विधानसभा में राजस्थान पर्यटक व्यवसाय संशोधन विधेयक 2021 पारित किया. इस विधेयक को इसलिए पारित किया गया है, ताकि पर्यटकों के साथ दुर्व्यवहार करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जा सके. वहीं इस विधेयक को पारित होने के बाद अब पर्यटकों के साथ दुर्व्यवहार करना अपराध की श्रेणी में माना जाएगा. इससे पहले साल 2010 में पर्यटकों के साथ दुर्व्यवहार को रोकने के लिए विधेयक को लाया गया था, लेकिन उसमें जमानत और गैर जमानत धारा नहीं थी. जिसे संशोधित करने के बाद दोबारा पारित किया गया है.

दरअसल, इस बिल के पारित होने के बाद पर्यटकों के साथ बदतमीजी करने वालों की दिक्कतें बढ़ जाएंगी. वहीं संशोधित विधेयक में धारा 27-क को जोड़ा गया है. जिसके बारे में राजस्थान पर्यटन राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने सदन में विधेयक प्रस्तुत करते समय बताया. उन्होंने यह भी बताया कि इसमें होने वाले अपराध संज्ञेय और जमानती होंगे, साथ ही इसमें धारा 13 की उपधारा 3 में अपराध की पुनरावृत्ति होने पर धारा 13 की उपधारा 4 में यह गैर जमानतीय हो जाएगा. उन्होंने कहा कि ये विधेयक भिखारियों को परेशान करने के लिए न पहले था, ना ही अब है.

सरकार ने खोले नए पुलिस थाने

गौरतलब है कि गोविंद सिंह डोटासरा ने बताया कि इस विधेयक को इसलिए भी पारित किया गया है ताकि राजस्थान में पर्यटन का व्यापार विकास की गति को पकड़े. साथ ही राजस्थान की आन-बान-शान की अच्छी अनुभूति लेकर पर्यटक वापस लौटे. वहीं इस विधेयक के पारित होने से पर्यटकों के साथ होने वाले दुर्व्यवहार पर रोक लगाई जा सके. साथ ही इस विधेयक के जरिए पर्यटकों के साथ बदतमीजी करने वालों में भी कानून का डर बैठेगा. इसके अलावा डोटासरा ने सदन में कहा कि बदमाशों पर अंकुश लगाने के लिए राज्य सरकार द्वारा जयपुर एवं उदयपुर में थाने खोले गए.

दलाल कमीशन के लिए पर्यटकों को करते परेशान

बता दें कि वहीं पर्यटन क्षेत्र से जुड़े संगठनों ने सरकार की इस पहल का स्वागत किया है. राजस्थान एसोसिएशन आफ टूर आपरेटर्स संजय कौशिक ने कहा कि पर्यटक स्थलों को सुरक्षित बनाने के लिए पर्यटकों से दुर्व्यवहार करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई जरूरी है. उन्होंने कहा कि इस तरह की समस्या जयपुर और उदयपुर जैसे बड़े शहरों में ज्यादा है और पर्यटकों से दुर्व्यवहार की घटनाओं से पूरे उद्योग की छवि धूमिल होती है. इस तरह के समाजकंटकों या दलाल को स्थानीय भाषा में ‘लपका’ कहा जाता है. ये लोग कमीशन आदि के लिए पर्यटकों को भ्रमित करते हैं और उनके साथ दुर्व्यवहार करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *