इधर प्रभारी मंत्री ने कहा.पूछेंगे मेयर के सम्मान में कहां हुई चूक..फिर भी प्रशासन से हुई चूक..10वें नम्बर पर फिसले मेयर..सभापति को अंतिम स्थान.पढ़ें..पटवारी पर क्या बोले

बिलासपुर—प्रभारी मंत्री बिलासपुर अल्प निजी प्रवास पहुंचे। उन्होने कहा कि राज्योत्सव के दौरान महापौर का अपमान हुआ। ऐसी जानकारी मिली है। चूक कहां हुई..हम इसका पता लगाएंगे। उन्होने बताया कि आज से पहले किसी भी सरकार ने इतना धान नहीं खरीदा..जितना कांग्रेस सरकार ने खरीदा है। इस बार रिकार्ड पैदावार हुई है..रिकार्ड खरीदी भी करेंगे। सबकी मांग पर समय पर धान की खरीदी हो रही है। पटवारी स्थानांतरण के सवाल पर प्रभारी मंत्री ने क्या कहा..पढ़ें पूरी खबर….।

                      बताते चलें कि इधर प्रभारी मंत्री ने कहा कि महापौर के सम्मान में कहां चूक हुई पता लगाएंगे। बावजूद इसके शाम होते ही जिले के प्रथम नागरिक के साथ फिर दोयम दर्जे का व्यवहार किए जाने का मामला सामने आ गया है। राज्योत्सव के बाद राज्य स्तरीय शालेय क्री़ड़ा प्रतियोगिता के निमंत्रण कार्ड में महापौर पिसल कर आठवें तो सभापति को अंतिम स्थान मिला है।

                               बिलासपुर अल्प प्रवास पर पहुंचे प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल ने कहा कि आज से पहले किसी भी सरकार ने इतना धान नहीं खरीदा जितना धान कांग्रेस सरकार ने खरीदा है। इस बार धान की रिकार्ड तोड़ पैदावार हुई है। जाहिर सी बात है कि सरकार ने रिकार्ड तोड़ धान खरीदने का फैसला किया है। 

              प्रभारी मंत्री ने बताया कि खरीदी के दौरान किसी को परेशानी नहा हो इसके लिए पर्याप्त व्यवस्था का इंतजाम किया गया है। किसी प्रकार की गड़बड़ी की गुंजाइश नहीं है। 

                        राज्योत्सव के दौरान महापौर का अपमान के सवाल पर प्रभारी मंत्री ने बताया कि चूक तो हुई है। क्यों हुई..इस मामले में कलेक्टर से बात करूंगा। भविष्य में इस प्रकार की पुनारावृत्ति ना हो इस बात को भी संज्ञान में लाया जाएगा।

                                       संगठन के नेताओं में नाराजगी है कि मंत्री और व्हीआईपी अधिकारियों से घिरे रहते है। जिसके चलते कार्यकर्ताओं  को मिलने मौका नहीं मिलता है। सवाल के जवाब में प्रभारी मंत्री ने कहा कि हमारे ही नहीं किसी के साथ ऐसा नहीं होता है। जब भी मंत्री आता है..सबसे पहले कार्यकर्ताओं और पार्टी नेताओं को ज्यादा से ज्यादा समय देता है। संभव है प्रोटोकाल के पालन के दौरान कभी ऐसा हुआ हो..लेकिन मंत्री हमेशा कार्यकर्ताओं के साथ है।

                  राजस्व विभाग में पेडिंसी के सवाल पर जय सिंह ने कहा कि काम बहुत ही अच्छी तरह से चल रहा है। हां स्थानांतरण के चलते थोड़ा बहुत काम काज पर प्रभाव पड़ा है। लेकिन अब फिर से पेंडेसी का तेजी के साथ निराकरण किया जा रहा है। 

                 पटवारियों का केडर जिला स्तर का है..लेकिन स्थानांतरण राज्य स्तर पर हुआ। इस बात को लेकर पटवारियों में नाराजगी है। स्थानांतरण के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। प्रभारी मंत्री ने कहा कि मामला कोर्ट में है..फैसला भी आएगा।    

क्या फिर से हो गयी चूक

            राज्यस्तरीय आत्मानन्द शालेय क्रीड़ा दो दिवसीय प्रतियोगिता का शुभारम्भ तीन नवम्बर से शुरू होकर चार नवम्बर तक चलेगा। चार नवम्बर को बीआर यादव स्टेडियम में पुरस्कार वितरण का भव्य आयोजन होगा। कार्यक्रम मे मौजूद अतिथि खिलाड़ियों को सम्मानित करेंगे। कार्ड छपने के बाद वितरित भी कर दिया गया है।

                              निमंत्रण कार्ड देखने के बाद महापौर खेमें एक बार फिर प्रोटोकाल मे लापरवाही को लेकर चर्चा है। बताया जा रहा है कि चूंकि मेयर जिले का प्रथम नागरिक होता है। बावजूद इसके उनका नाम दसवें स्थाप पर है। दूसरी तरफ कार्ड में सभापति के नाम और स्थान को लेकर चर्चा गरम है। समर्थकों की मानें तो सभापति का नाम अंतिम में रखकर पद का अपमान किया गया है।

                                   इसके अलावा इस बात को लेकर भी चर्चा है कि कुछ घन्टे पहले ही प्रभारी मंत्री ने राज्योत्सव में मेयर के अपमान को लेकर कलेक्टर से चर्चा किए जाने की बात कही। लेकिन शाम होते ही अपमान का नया मामला सामने आ गया है।

                      

                    

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *