आज बंगाल में दिखेगा चक्रवाती तूफान ‘सितरंग’ का प्रभाव, IMD ने जारी की चेतावनी, प्रशासन अलर्ट

Cyclone Sitrang Bengal: भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मुताबिक, चक्रवाती तूफान ‘सितरंग’ वर्तमान में सागर द्वीप से लगभग 520 किमी दक्षिण और दक्षिण पश्चिम बांग्लादेश से 670 किमी दूर स्थित है. आईएमडी ने कहा, “चक्रवाती तूफान अगले 12 घंटों में और तेज हो जाएगा और बांग्लादेश तट को पार कर जाएगा.” चक्रवात सितरंग के मद्देनजर, भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने 24-25 अक्टूबर तक बंगाल की उत्तरी खाड़ी में होने वाली गतिविधियों के संबंध में एक एडवाइजरी जारी की है. साथ ही पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर जिले में तूफान के संभावित प्रभाव की चेतावनी भी जारी की है.

IMD के बयान में कहा गया है, “पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी और उससे सटे पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान और इसके गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना के कारण, मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 25 अक्टूबर 2022 तक समुद्र में न जाएं.”

चक्रवाती तूफान को लेकर अलर्ट जारी

विभाग ने संभावित नुकसान की भविष्यवाणी करते हुए कहा कि फूस की झोपड़ियों को नुकसान होने की संभावना है. विभाग ने अपनी एडवाइजरी में बताया कि तूफान के कारण कच्ची सड़कों को बड़ा नुकसान और पक्की सड़कों को मामूली नुकसान हो सकता है. इसी के साथ नगर पालिका के निचले इलाकों में जलभराव की स्थिति भी पैदा हो सकती है.

तेज हवाओं के चलने के आसार

विभाग की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि सोमवार को उत्तर और दक्षिण 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर जिलों में हवा की गति 40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 60 किमी प्रति घंटे और धीरे-धीरे 60-80 मील प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़कर 90 किमी प्रति घंटे होने की संभावना है. 

‘सितरंग’ को लेकर प्रशासन अलर्ट

विभाग की चेतावनी को लेकर प्रशासन भी सतर्क हो गया है. प्रशासन ने दक्षिण 24 परगना के नदी तटों की सुरक्षा के लिए नागरिक सुरक्षा बलों को तैनात किया है और नदी के किनारे बसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने की व्यवस्था भी की जा रही है. दक्षिण 24 परगना के चुनोखली बसंती इलाके में तूफान से पहले नदी तटबंध की मरम्मत का काम चल रहा है. प्रशासन की ओर से गंगासागर इलाके में नागरिक सुरक्षा बलों की तैनाती की जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *