IMD Alert : 25 नवंबर तक 5 राज्यों में भारी बारिश का ऑरेंज-येलो अलर्ट जारी, नए सिस्टम से बदलेगा मौसम, जानें पूर्वानुमान

IMD Alert, Aaj ka Mausam : मौसम में बदलाव जारी है। तापमान में लगातार हो रही गिरावट के बीच उत्तर भारत में कोहरा कायम रहेगा। साथ ही कई राज्यों में बारिश जारी रहेगी। इसके अलावा राज्य में ठंड की हाइट सुनाई देने लगे राजधानी दिल्ली में तापमान में गिरावट देखी जा रही है। सुबह से लेकर शाम तक धुंध नजर आ रहा है। इसके अलावा दक्षिण राज्य में इस बार कड़ाके की ठंड पड़ रही है। दरअसल पश्चिमी विक्षोभ और बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दाब के कारण तमिलनाडु महाराष्ट्र केरल कर्नाटक और उड़ीसा के कुछ हिस्से में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

दिल्ली का मौसम की बात करें तो सोमवार को इस सीजन की सबसे सर्द सुबह रिकॉर्ड की गई है। 22 नवंबर को न्यूनतम तापमान 9 डिग्री सेल्सियस होने की संभावना जताई गई है।

उत्तर प्रदेश के मौसम में लगातार बदलाव देखने को मिल रहा है। उत्तराखंड की बर्फबारी का प्रभाव दिख रहा है। मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में कड़ाके की ठंड करवा देता है। कई जगह पर गहरा धुंध कायम रहेगा।

राजधानी लखनऊ सहित आसपास के क्षेत्रों में मंगलवार को सुबह मौसम सामान्य रहेगा। कुछ जगह पर कोहरा छाया रहेगा। हवा की रफ्तार धीमी रहेगी। अगले 24 घंटे में मौसम में बड़ा फेरबदल होने की उम्मीद जताई गई है।

बिहार में पछुआ हवा का प्रभाव

पटना सहित पूरे बिहार में पछुआ हवा के कारण तापमान में उतार-चढ़ाव जारी है। सोमवार को 12 जिलों में न्यूनतम पारे में गिरावट रिकॉर्ड की गई है। सभी जिलों के तापमान में 2 डिग्री सेल्सियस की गिरावट रिकॉर्ड की गई है जबकि 10 जिलों में तापमान में वृद्धि देखने को मिली है।

बिहार में पछुआ हवा देखने को मिल रहा है। गया जिले का सबसे सर्द इलाका रिकॉर्ड किया गया है। तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया है। अन्य जिलों में भी तापमान 12 पर है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक राजधानी समेत प्रदेश के सारण बाल्मीकि नगर, मुजफ्फरपुर, सुपौल, जमुई खगड़िया बांका सबौर भागलपुर में न्यूनतम तापमान में गिरावट रिकॉर्ड की गई है।

मौसम पूर्वानुमान

मौसम विभाग के मुताबिक अगले दो से 3 दिनों में उत्तर पश्चिम मध्य और पूर्वी भारत के कुछ हिस्से में तापमान में और गिरावट रिकॉर्ड की जाएगी। बंगाल की खाड़ी में बने डिप्रेशन उत्तर पश्चिम की तरफ़ बढ़ गया है। जिसके साथ ही आज सुबह तक इसे कमजोर होकर गहरे कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना जताई गई है।

MP में शीतलहर

मध्यप्रदेश में उत्तरी हवाओं के प्रभाव में सर्दियों में इजाफा देखने को मिल रहा है। ठंड ने पिछले 5 साल में रिकॉर्ड तोड़ दिया है। मध्य प्रदेश के 5 जिलों में शीत लहर का अलर्ट जारी कर दिया गया है। नवंबर के अंत तक कड़ाके की सर्दी का एहसास होगा। अगले कुछ घंटे मैं बेतूल खरगोन खंडवा छतरपुर तो जबलपुर में शीतलहर का असर देखने को मिल सकता है जबकि 24 नवंबर के बाद न्यूनतम तापमान में कमी देखने को मिलेगी।

राजस्थान में बढ़ी सर्दी

राजस्थान में नवंबर खत्म होने के साथ ही मौसम ने करवट बदल jayegi। कई जिलों में सर्दी ने अपने तेवर तीव्र कर लिए हैं। 2 दिनों में प्रदेश के दिनों में तापमान में भारी गिरावट देखी जाएगी। सर्द हवाओं से ठिठुरन बढ़ेगी। 24 घंटे में प्रदेश में मौसम शुष्क रहने वाला है। 10 जिलों में रात का तापमान 10 से नीचे रिकॉर्ड किया गया जबकि फतेहपुर में सबसे कम तापमान 6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है।

दक्षिणी राज्य में बारिश का दौर

दक्षिणी राज्य में बारिश का दौर जारी रहेगा। मौसम विभाग के मुताबिक आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्र और तमिलनाडु के उत्तरी तट के कुछ स्थानों पर भारी बारिश होगी। कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश का येलो अलर्ट जारी किया गया है जबकि 23 नवंबर से अंडमान निकोबार में बारिश की गतिविधियों में तेजी आएगी। इसके लिए रेड और ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

इन क्षेत्रों में बारिश

  • तटीय आंध्र प्रदेश और यनम में व्यापक बारिश और गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।
  • अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, रायलसीमा, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में छिटपुट बारिश और गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।
  • बिजली गिरने की संभावना के साथ ओडिशा, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल-माहे में अलग-अलग बारिश हो सकती है।
  • उत्तरी और मध्य भारत में हवा की गुणवत्ता बहुत खराब होने की संभावना है, पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी भारत में खराब रहने की संभावना है

मौसम प्रणाली 

  • बंगाल की दक्षिणी खाड़ी के दक्षिण-पश्चिम भागों पर एक अवसाद पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर ट्रैक करेगा और दक्षिण आंध्र प्रदेश के तट से तमिलनाडु-पुडुचेरी तटों तक पहुंच जाएगा।
  • फिर 22 नवंबर के आसपास एक अच्छी तरह से चिह्नित कम दबाव वाले क्षेत्र में कमजोर हो जाएगा।
  • इसके बाद यह इसके बाद के 3 दिनों के दौरान पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर उत्तर तमिलनाडु-पुडुचेरी और दक्षिण आंध्र प्रदेश के तटों की ओर बढ़ने की संभावना है।
  • इसके प्रभाव में दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत में, विशेष रूप से तटीय आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में, 22-23 नवंबर को चरम पर, काफी व्यापक वर्षा होने की संभावना है।
  • इसके अलावा गुरुवार के आसपास उत्तरी अंडमान सागर के ऊपर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बनने की संभावना है और यह अंडमान और निकोबार द्वीप समूह को प्रभावित करना शुरू कर देगा।
  • दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत में रात भर का न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक रहेगा जबकि देश के उत्तरी भाग में सामान्य से थोड़ा कम रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *