हमार छ्त्तीसगढ़

कसडोल के ग्राम लाहोद में मुख्यमंत्री की अहम घोषणाएं

कसडोल।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज प्रदेशव्यापी भेंट-मुलाकात कार्यक्रम के तहत बलौदाबाजार-भाटापार जिले के विधानसभा कसडोल के ग्राम लाहोद पहुंचे। यहां पहुंचने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों के द्वारा भव्य स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने यहां पर ग्रामीणों से सीधे बातचीत कर सरकारी योजनाओं एवं कार्यक्रमों की जमीनी स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने ग्रामीणों की समस्याओं के बारे में जाना और अधिकारियों के इनके निराकरण के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री बघेल ने ग्राम लाहोद में 52 करोड़ 41 लाख रुपए लागत के 46 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन किया। इनमें 39 करोड़ 31 लाख रुपए लागत के 21 कार्यों का लोकार्पण और 13 करोड़ रुपए से अधिक के 25 कार्यों का भूमिपूजन शामिल हैं। इस दौरान उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल, संसदीय सचिवद्वय सुश्री शकुंतला साहू एवं चंद्रदेव राय, कृषक कल्याण परिषद के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में आम नागरिक की सहूलियत के लिए कई महत्वपूर्ण घोषणाएं की। इनमें लाहोद में विद्युत वितरण केन्द्र एवं स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल की घोषणा, लवन नगर पंचायत में खेल परिसर का निर्माण, कसडोल के बलार बांध का नामकरण पूर्व मंत्री श्री कन्हैया लाल शर्मा के नाम पर करने की घोषणा की। इसी प्रकार उन्होंने पुटपुरा-घिरघोला- दौनाझर मार्ग लंबाई 3.20 कि.मी. (पुल-पुलिया सहित) का निर्माण, चिरचिदा से कसियारा मार्ग लंबाई 2.55 किमी का मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत निर्माण कार्य, खटियापाटी में मल्लिन नाला पर पुल निर्माण कार्य, प्राथमिक शाला हरदी का पूर्व माध्यमिक शाला में उन्नयन कार्य, शासकीय हाई स्कूल ग्राम खर्री एवं देवरीकला में भवन निर्माण, लवन व लाहोद में अधोसंरचना विकास हेतु 40-40 लाख स्वीकृत किए जाने की घोषणा, कसडोल शहर की फोरलेन सड़क पर डिवाइडर निर्माण और विद्युतीकरण, डमरू उदवहन सिंचाई योजना की घोषणा की।

छत्तीसगढ़-कोरोना प्रभावित इलाकों को कंटेंटमेंट जोन घोषित किया जाएगा,कलेक्टर के सख्त निर्देश-बिना मास्क लोगों पर होगी कार्रवाई

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि गोधन न्याय योजना गौपालकों के लिए आय का जरिया बनी है। लोग अब पशुपालन की ओर आकर्षित हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत किसानों को चार किश्त में राशि का भुगतान किया जा रहा है। जिससे किसानो ंकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में किसानों की संख्या में वृद्धि होने के साथ साथ कृषि रकबा में भी बढ़ोत्तरी हुआ है। कृषि अब लाभ का व्यवसाय हो गया है। किसानों के आय में वृद्धि हुई है। गांवों में गौठान निर्माण किया गया है, जो आजीविका केंद्र के रूप मे विकसित हो रहे हैं।

ग्रामीणों से लिया फिडबैक:भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में छात्र भेसराम पटेल और अन्य छात्रों ने पैजनी के स्कूल से स्थानांतरित शिक्षिका ममता राठौर के स्थानांतरण आदेश को निरस्त करने की मांग रखी। इस पर मुख्यमंत्री ने आवश्यक कार्रवाई हेतु कलेक्टर को निर्देशित किया है। स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल की कक्षा 7 वीं के छात्र कृष वर्मा ने बताया कि निःशुल्क अंग्रेजी शिक्षा से हम गरीब छात्रों को भी अच्छी एजुकेशन मिल पा रही है।

उन्होेंने बताया कि उसने 3 डी प्रिंटर भी डिजाइन किया है। इसी तरह कक्षा 7वीं की छात्रा भूमि वर्मा ने अंग्रेजी में अपना परिचय बताते हुए कहा कि बेहतर पढ़ाई के साथ शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिए अन्य गतिविधियों का नियमित संचालन स्कूल में किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि महतारी दुलार योजना के तहत उन्हें 5 हजार रुपए प्रति वर्ष मिलता है। मुख्यमंत्री सुपोषण योजना की लाभान्वित ग्राम जुड़ा की श्रीमती रेणु ने बताया की इस योजना से मेरे स्वास्थ्य में पूर्ण रूप से सुधार हुआ है। गांव की अन्य महिलाएं भी इसका लाभ ले रही हैं, बच्चों को भी इसका लाभ मिल रहा है।

IOCL Recruitment-इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड में 450 पदों पर निकली भर्तियां,यहाँ जानिए पूरी डिटेल्स

मुख्यमंत्री ने द्वारा नमक, शक्कर, चांवल, गैस सिलेंडर और मिट्टी तेल के बारे में पूछने पर खम्हरिया निवासी लिलेश्वरी डहरिया ने बताया कि उन्हें राशन, नमक, शक्कर नियमति रूप से मिल रहा है। लवण के श्री मृत्युजंय पांडे ने बताया कि उन्हें धान की सभी किस्त की राशि मिल चुकी है। उन्होंने बताया कि गोधन न्याय योजना के तहत अब तक वे एक लाख रूपए का गोबर बेच चुके हैं। सारखोर की जावा बाई ने बताया कि वह गोबर बेचने के साथ ही साथ दूध भी बेचकर लाभ कमा रही हैं।

पलारी के किसान प्रेमलाल वर्मा ने बताया कि उसे मुर्गी पालन में कोरोना के समय बहुत नुकसान हुआ। एक एकड़ की जमीन है, अभी बहुत दिक्कत हो रही है। जिसे सुनकर मुख्यमंत्री ने क्लेक्टर को समस्या का निराकरण करने के निर्देश दिए।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS