हड़ताली शिक्षाकर्मी तीन दिन मे ड्यूटी पर नहीं लौटे तो होंगे बर्खास्त,जिला पंचायतो को शासन ने नोटिस जारी करने कहा

Shri Mi
3 Min Read

mantralay_nightरायपुर।राज्य सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में पदस्थ पंचायत संवर्ग के शिक्षकों को संबंधित स्कूलों में तीन दिन के भीतर उपस्थित की नोटिस देने और उपस्थित नहीं होने पर सेवा से बर्खास्त करने का निर्णय लिया है। पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव एम.के. राउत ने मंत्रालय से प्रदेश के सभी जिला पंचायतों और जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को इस आशय का परिपत्र जारी किया है। उन्होंने परिपत्र में लिखा है – प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों की शालाओं में पदस्थ शिक्षक (पंचायत) संवर्ग के कर्मचारी अनाधिकृत रूप से 20 नवम्बर 2017 से आंदोलनरत हैं। संबंधित जिलों में जिन परिवीक्षाधीन और स्थानांतरित ऐसे शिक्षक 20 तारीख से अनाधिकृत रूप से हड़ताल पर हैं, उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए।
डाउनलोड करें CGWALL News App और रहें हर खबर से अपडेट
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cgwall

                                एसीएस ने परिपत्र में अधिकारियों को ऐसे शिक्षकों के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई के तहत उन्हें तीन दिन के भीतर संबंधित स्कूलों में उपस्थित होने और अध्यापन कार्य करने के लिए नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं। परिपत्र में अधिकारियों से कहा गया है कि नोटिस जारी होने पर भी तीन दिन के भीतर यदि ये शिक्षक संबंधित शालाओं में कार्य पर उपस्थित नहीं होते हैं, तो उन्हें छत्तीसगढ़ शिक्षक (पं) संवर्ग (भर्ती तथा सेवा की शर्तें) नियम 2012 के तहत सेवा से पृथक करने की कार्रवाई की जाए।
देखें VIDEO-शिक्षाकर्मी आँदोलन पर अजीत जोगी बोले–हम शिक्षकों को बनाएंगे सरकार का अँग..कर्मी नहीं,वे गुरू हैं..कोई तकनीकि दिक्कत नहीं..

                              इसके साथ ही एक वर्ष के भीतर जिन शिक्षक (पं.) संवर्ग स्थानांतरित होकर जिले के स्कूलों में पदस्थ हैं, उन्हें भी संबंधित शालाओं में दो दिन का नोटिस देकर कार्य पर उपस्थित होने के निर्देश दिए जाए। यदि समय-सीमा में वे अपने कार्य पर उपस्थित नहीं होते तो उन्हें जहां से वे स्थानांतरित होकर आए हैं, वहां के स्कूलों में वापस करने की कार्रवाई की जाए।

By Shri Mi
Follow:
पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close