इंडिया वाल

Makar Sankranti: इस संक्रांति पर भूलकर भी ना करें यह काम, हो सकता है बड़ा नुकसान

मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2023) का त्योहार 15 जनवरी को है। इस दिन विशेष तौर पर कुछ चीजों का ध्यान रखें।

Makar Sankranti: इस साल देशभर में मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी 2023 को मनाया जाएगा। सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के इस पर्व को देशभर में अलग-अलग नामों के साथ हर्षोल्लास से मनाया जाता है। इस साल यह पर्व काफी खास होने वाला है क्योंकि कई सारे शुभ योग इस दिन एक साथ बन रहे हैं। खरमास की समाप्ति के साथ शुभ और मांगलिक कार्य एक बार फिर से शुरू हो जाएंगे।

Makar Sankranti:संक्रांति के दिन सूर्य देव की पूजन अर्चन कर स्नान दान करने का विधान है। आज हम आपको कुछ ऐसे कामों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें मकर संक्रांति पर भूलकर भी नहीं करना चाहिए। गलती से भी आपने मकर संक्रांति के दिन यह गलतियां कर दी तो आपको मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

  • मकर संक्रांति के दिन भगवान विष्णु और सूर्य की पूजा किए जाने का विधान है। इस दिन स्नान दान का विशेष महत्व होता है। ऐसे में तामसिक भोजन ना किया जाए तो बेहतर होता है। प्याज लहसुन जैसी चीजें तामसिक भोजन में शामिल है इसलिए इनका सेवन करने से बचें।
  • मकर संक्रांति के दिन तुलसी की पत्तियां गलती से भी ना तोड़े। इस साल तो वैसे भी संक्रांति का त्योहार रविवार के दिन है और रविवार के दिन तुलसी के पौधे को हाथ नहीं लगाया जाता है और ना जल अर्पित किया जाता है।
  • पेड़ हमारे जीवन का आधार है। इनकी रक्षा करना वैसे भी हमारा कर्तव्य होना चाहिए और मकर संक्रांति के दिन विशेष तौर पर पेड़ कभी नहीं काटे यह एक अशुभ संकेत है।
  • जिस तरह से तामसिक भोजन करना इस दिन वर्जित है ठीक उसी तरह मांस मदिरा का सेवन करना भी निषेध माना गया है। इस दिन शुद्ध और सात्विक भोजन का सेवन करें।
  • मकर संक्रांति दान पुण्य के लिए काफी महत्व रखती है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान का भी विशेष महत्व है। अगर आप किसी नदी में स्नान करने नहीं भी जा रहे हो तो अपने घर में बिना नहाए बिल्कुल भी ना खाएं। बिना नहाए खाने पीने से आप किसी रोग का शिकार हो सकते हैं।
  • किसी भी त्योहार पर वाद विवाद करना तो वैसे भी बुरा ही माना जाता है। कोशिश करें कि संक्रांति के त्योहार पर अपना गुस्सा नियंत्रित रखें और वाद-विवाद से बचें।
  • इस दिन कोई गरीब व्यक्ति या फिर साधु संत आपके घर के द्वार पर भिक्षा या कोई अन्य चीज मांगने आता है तो उसे खाली हाथ ना लौटाएं। अपने सामर्थ्य के अनुसार जरूरतमंद व्यक्ति की मदद जरूर करें। इससे आपके घर में भी सुख समृद्धि बनी रहेगी।(Disclaimer- यहां दी गई समस्त जानकारी सामान्य मान्यताओं पर आधारित है। सीजीवाल इसकी पुष्टि नहीं करता।)
दिल्ली से लौटे CM,प्रधानमंत्री पर साधा निशाना,बोले-दो करोड़ बोलकर 75 हजार नियुक्ति दे रहे

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS