शिक्षकों की वेतन विसंगति का मुद्दा: फेडरेशन ने सभी 90 विधायकों को सौंपा ज्ञापन,समाधान नहीं हुआ तो घेरेंगे विधानसभा

रायपुर(मनीष जायसवाल)छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन रविवार को प्रदेश के 90 विधानसभा के विधायकों को वेतन विसंगति के निदान की मांग को लेकर मांग पत्र सौंपा जानकारी देते हुए फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष मनीष मिश्रा ने बताया कि सरकारो के वादों से शिक्षक परिवार का भविष्य सुरक्षित नही हो सकता है। हमे अब हमारी समस्याओं का निदान चाहिए । इसी कड़ी में प्रदेश का सहायक शिक्षक 23 साल की सेवा का अधिकार मांगने के लिए अब प्रदेश के जनप्रतिनिधियों के चौखट पर पहुँच गया । वेतन विसंगति के निदान पर अगर पहल नही हुई तो फेडरेशन विधानसभा का घेराव करेगा।प्रदेश अध्यक्ष मनीष मिश्रा ने बताया कि संविलियन के दौरान निर्धारित किये गए वेतन में सहायक शिक्षको के वेतन में बड़ी वेतन विसंगति निर्मित हुई है छ ग सहायक शिक्षक फेडरेशन वर्ष 2018 से अपनी इसी वेतन विसंगति के निदान के लिए संघर्ष कर रहा है परंतु सरकार सहायक शिक्षको के दर्द को समझने के लिए तैयार नही है। जबकि अपनी सेवा पंचायत विभाग में 20 वर्ष देने के बाद भी सहायक शिक्षको के वेतन की गणना निम्नस्तर के वेतनमान में की गई जिसके परिणाम स्वरूप सहायक शिक्षको के वेतन में बड़ी विसंगति उपजी है।

मनीष ने वेतन विसंगति के अंतर का सरल उदाहरण देते हुए बताया कि वर्तमान में 23 साल की सेवा पूर्ण करने के बाद भी आज नियुक्त होने वाले सहायक शिक्षक के बराबर ही वेतन मिल रहा है ऐसे में 23 साल की सेवा का कोई महत्व ही नही रहा। पंचायत विभाग ने समय पर सहायक शिक्षको को पदोन्नति नही दी और न ही क्रमोन्नति वेतन प्रदान किया जबकि नियमित सेवा के पदोन्नति पाने वाले सहायक शिक्षक वर्तमान में व्यख्याता पद पर भी कार्य कर रहे है।

मनीष मिश्रा का कहना है कि प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था की सबसे मजबूत और प्रारंभिक कड़ी प्राथमिक स्कूल के सहायक शिक्षक को पदोन्नति से वंचित करना और क्रमोन्नति वेतन का लाभ नही मिल पाना ही वेतन विसंगति का कारण बना।मनीष मिश्रा ने बताया कि संविलियन से पूर्व टी के साहू संचालक के नेतृत्व एक कमेटी बनी थी जिसने राजस्थान और मध्यप्रदेश में जाकर संविलियन के तरीकों का अवलोकन कर रिपोर्ट बनाई थी । सरकार को उस कमेटी की रिपोर्ट को सर्वाजनिक करना। जिससे बहुत कुछ साफ हो जायेगा। कि इन दोनों पड़ोसी राज्यो में सहायक शिक्षको के वेतन में विसंगति नही है। परंतु छ.ग. में सहायक शिक्षको के साथ कुठाराघात किया गया है।

फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि हमने अपनी पीड़ा प्रदेश के 90 विधायको को अवगत कराया है और हमे विस्वास है कि हमारे जन प्रतिनिधि हमारी समस्या को समझने का प्रयास करेंगे साथ ही हमारी 23 साल की सेवा का वाज़िब हक हमे दिलाने में सेतु का कार्य करेगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *