एक गलती…बच निकलते हैं अपराधी…पुलिस कप्तान ने कहा…विवेचना के दौरान सतर्कता जरूरी

BHASKAR MISHRA
4 Min Read

IMG-20170910-WA0018जांजगीर-चांपा— पुलिस कप्तान अजय यादव के निर्देश में पुलिस अधीक्षक कार्यालय सभागार में जिला स्तरीय एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।  कार्यशाला को संबोधित करते हुए एसएसपी अजय कुमार यादव ने कहा कि विवेचना के दौरान थोड़ी सी चूक से अपराधी बच निकलते हैं। अपराधियों पर नकेल कसने के लिए जरूरी है कि विवेचना का काम मुस्तैदी से हो। किसी प्रकार की खामियों से बचा जाए। अपराधियों के हौसले पस्त होंगे। कार्यशाला में जिला पुलिस आलाधिकारियों के अलावा जिम्मेदार विवेचक अधिकारी मौजूद थे।

                    एक दिवसीय कार्यशाला में एसएसपी अजय यादव ने सभी विवेचक अधिकारियों से कहा कि विवेचना के दौरान थोड़ी सी चूक अपराधियों के बच निकलने के लिए काफी है। जरूरी है कि हम विवेचना के दौरान किसी भी लापरवाही बचें। विवेचना के दौरान फोकस होकर अपराध के सभी पहलुओं पर ध्यान दें। यादव ने कहा कि मारपीट, आबकारी, सड़क दुर्घटना, समेत अन्य सभी प्रकार के अपराधों की विवेचना में विवेचना अधिकारियों कोई ना कोई त्रुटि हो ही जाती है। हो सकता है कि यह मानवीय त्रुटि हो। लेकिन…फायदा अपराधियों को मिलता है। मानवीय त्रुटि है तो इसे दूर कैसे करें…हमें खुलकर बातचीत करने की जरूरत है।  विवेचकों को विवेचना के दौरान किस प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। परेशानियों का निराकरण क्या है। इन्ही तमाम मुद्दों को ध्यान में रखकर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया है।

                  एक दिवसीय कार्यशाला में सहायक लोक अभियोजक अधिकारी अकलतरा सोनू अग्रवाल और सहायक लोक अभियोजक अधिकारी जैजेपुर दुर्गेश मिश्रा भी शामिल हुए।  इस दौरान लोक अभियोजक अधिकारियों के अलावा पुलिस के आलाधिकारियों ने प्रकरणों की विवेचना में कसावट लाने की बात कही। दस्तावेजों को न्यायालय में पेश करते समय किन-किन बातों पर फोकस रखा जाए…अधिकारियों ने विस्तार से जानकारी दी। विवेचना के दौरान आने वाली कठिनाइयों के बारे में कार्यशाला में मौजूद विवेचक अधिकारियों ने पुलिस कप्तान के सामने अपनी बातों को रखा। लोक अभियान अधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने जरूरी टिप्स दिए।

                 कार्यशाला में मौजूद विवेचकों ने अभियोजन और और विवेचना को लेकर कई सवाल किए। विवेचकों ने अपने अनुभवों को साझा भी किया। कई विवेचकों ने असरदार सुझाव भी पेश किया।

                              पुलिस कप्तान अजय यादव ने सीजी वाल को बताया कि एक दिवसीय कार्यशाला में सभी लोगों ने खुलकर अपनी बातों को रखा है। विवेचना के दौरान आने वाली परेशानियों के बारे में सकारात्मक विचार विमर्श किया है।  कार्यशाला में कई सवालों के निदान किए गए…तो कई सुझावों को गंभीरता से साथ लिया गया है। एसएसपी अजय यादव ने कहा कि इस तरह की कार्यशाला का आयोजन बहुत जरूरी है। इससे संवादहीनता खत्म होती है। पारदर्शिता के साथ काम होता है। भविष्य में इस प्रकार के कार्यक्रमों को गंभीरता से लिया जाएगा।

                           कार्यशाला के अंत में पुलिस अधीक्षक ने सहायक लोक अभियोजन अधिकारियों को स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया। कार्यशाला में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पंकज चन्द्रा, प्रशिक्षु उप पुलिस अधीक्षक दिव्यांश सिंह राठौर, विभिन्न थानों के निरीक्षक,उप निरीक्षक, सहायक उपनिरीक्षक,प्रधान आरक्षक समेत करीब 70 से अधिक विवेचक अधिकारी मौजूद थे।

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close