इंडिया वाल

January Vrat 2023: जनवरी 2023 में पड़ रहे कौन-कौन से व्रत, जानिये डेट और पूजा-पाठ का महत्व

January Vrat 2023: जनवरी में कई व्रत पड़ रहे हैं। 2 जनवरी को पौष पुत्रदा एकादशी और 26 जनवरी को बसंत पंचमी पड़ रही है।

January Vrat 2023: जनवरी 2023 में कई व्रत पड़ रहे हैं। वहीं 7 जनवरी से माघ मास भी लग रहा है। माघ मास पूजा-पाठ और धार्मिक कार्यो के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। 2 जनवरी 2023 को पौष पुत्रदा एकादशी पड़ रही है। आइए जानते हैं कि जनवरी 2023 में कौन-कौन से प्रमुख व्रत पड़ रहे हैं और इन व्रतों का महत्व क्या है।

जनवरी 2023 में पड़ने वाले व्रत (January Vrat 2023 Dates)

January Vrat 2023: 2 जनवरी को पौष पुत्रदा एकादशी, 4 जनवरी को प्रदोष व्रत, 6 जनवरी को पौष पूर्णिमा, 10 जनवरी संकष्टी चतुर्थी, 14 जनवरी को लोहड़ी, 15 जनवरी को मकर संक्रांति, 18 जनवरी को षटशिला एकादशी व्रत, 19 जनवरी को प्रदोष व्रत, 20 जनवरी को मासिक शिवरात्रि, 21 जनवरी को माघ अमावस्या, 26 जनवरी को बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा पड़ रही है।

पौष पुत्रदा एकादशी का महत्व (Importance of Putrada Ekadashi 2023)

January Vrat 2023: इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस दिन पूजा करने और व्रत रखने से संतान की प्राप्ति होती है। महिलाएं संतान प्राप्ति की कामना के लिए इस व्रत को रखती हैं।

प्रदोष व्रत का महत्व (Importance of Pradosh Vrat 2023)

इस व्रत में भगवान शिव की पूजा की जाती है। मान्यता है कि प्रदोष व्रत रखने से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। साथ ही सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। विधि-विधान से भगवान शिव की पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होने और रुके कार्य पूर्ण होने की भी मान्यता है।

पौष पूर्णिमा व्रत का महत्व (Importance of Paush Purnima 2023)

पौष मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को पौष पूर्णिमा पड़ती है। इस दिन व्रत रखने और मां लक्ष्मी व चंद्रमा की पूजा करने से धन लाभ होने की मान्यता है। इस दिन स्नान और दान करने से पुण्यफल के प्राप्ति होने की भी मान्यता है।

IMD Alert: पश्चिमी विक्षोभ का दिखेगा प्रभाव, 9 राज्यों में बारिश-आंधी की चेतावनी, इन राज्यों में बढ़ेगी ठंड, पढ़े विभाग पूर्वानुमान

माघ अमावस्या का महत्व (Importance of Magha Amavasya 2023)

January Vrat 2023: माघ अमावस्या को मौनी अमावस्या भी कहा जाता है। इस दिन स्नान, दान और पितरों के तर्पण का विधान है। मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से सभी पाप नष्ट हो जाते है और ग्रह दोष भी समाप्त हो जाता है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS