जोगी की रणनीति तैयार..प्रवक्ता ने बताया..दिल में बसते हैं जोगी..लगाया चुनाव अधिकारी पर पक्षपात का आरोप

बिलासपुर—- जनता कांग्रेस प्रदेश प्रमुख अमित जोगी की मौजूदगी मे मरवाही उपचुनाव को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक हुई। इस दौरान सभी ने मिलकर चुनावी रणनीति की दिशा और दशा को लेकर बातचीत की। बैठक में रणनीति पर विचार करने पार्टी पदाधिकारी विशेष रूप से मौजूद रहे।
 
                  मरवाही विधानसभा चुनावी रणनीति को लेकर रविवार को गौरेला में जनता कांग्रेस प्रदेश प्रमुख की मौजूदगी में रणनीतिकारों की बैठक हुिई। जोगी ने पदाधिकारिोयं को बताया कि प्रदेश सरकार दबाव बनाकर अजीत जोगी की फोटो को घरों से निकलवा रही है। लेकिन उन्हें यह भी मालूम होना चाहिए कि अजीत जोगी फोटो में नहीं लोगों के दिलों में बैठे हैं।  जोगी को लोगों के दिलों से निकालना  नामुमकिन है।
 
             जनता कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता विक्रांत तिवारी ने बताया कि बैठक का आयोजन गौरेला स्थित जोगी निवास में किया गया। इस दौरान पार्टी प्रमुख और प्रत्याशी अमित जोगी की अगुवाई में मरवाही,पेंड्रा तथा गौरेला ब्लाक के सेक्टर,बूथ प्रभारियो और पदाधिकारी विशेष रूप से मौजूद हुए। जोगी ने चुनावी रणनीति के संबंध में लोगों के सुझावों को गंभीरता सुना। साथ ही संबोधित भी किया।
 
          अमित जोगी ने कहा कि मरवाही की जनता पैसे- श्ते और सरकार- परिवार के बीच रिश्ते और परिवार को ही चुनेगी। मरवाही की माताएँ, बेटियाँ और बहने, साड़ी और कान की बाली में नहीं बिकने वाली है। सरकार दबाव बनाकर अजीत जोगी की फोटो घरों से निकलवा सकती है। लेकिन लोगो के दिल से जोगी को कैसे निकालेगी? 
 
            अमित जोगी ने कोविड महामारी पीरियड में हो रहे उपचुनाव में निर्वाचन आयोग से जारी नवीन दिशा निर्देशों की जानकारी कार्यकर्ताओं को विस्तार से दी। अमित जोगी ने कहा कि अगले सात दिनों में एक एक गाँव पहुँचकर लोगों का आशीर्वाद लेंगे।
 
  घोषणाओं के बाद अब साड़ी बांटने का खेल
 
           विक्रांत तिवारी ने बताया कि सरकार जोगी परिवार से पूरी तरह से डर चुकी है। चुनाव जीतने के लिए नए और पुराने हथकन्डे अपनाने से बाज नहीं आ रह ीहै। मरवाही के बगरार के आश्रित ग्राम झिरियाटोला में गाड़ी CG-12AZ-0506 में हज़ारों साड़ियाँ और शॉल लादकर बेख़ौफ़ होकर बाटा जा रहा है। इस प्रकार की कार्रवाई कमोबेश मरवाही के लगभग सभी गाँवों में कांग्रेस कार्यकर्ता कर रहे हैं। जब घोषणाएँ काम नहीं आयी तो सरकार साड़ी और शॉल का सहारा लेने लगी हैं । लेकिन मरवाही की जनता बिकाऊ नहीं हैं।
 
               विक्रांत ने बताया कि मामले की शिकायत के बावजूद जिला निर्वाचन अधिकारी ने आँख पर बांध लिया है। जबकि सोशल मीडिया में गाड़ी के साथ साड़ी बांटते कांग्रेस कार्यकर्ताओं को आसानी देखा और पहचाना जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *