जंगल मितान का ट्रैकिंग अभियान..खुद को तारों के बीच पाकर रोमांचित हुए युवा..कहा..समझ में आने लगी प्रकृति की बातें..पहले नहीं दिखा ऐसा नजारा

बिलासपुर—पर्यावरण, प्रकृति और ऐतिहासिक धरोहरों की उपयोगिता का अहसास कराने जंगल मितान कल्याण समिति के अभियान को युवाओं ने जमकर पसंद किया। विशेषकर  स्कूली छात्र छात्राओं में जंगल मितान के अभियान का ट्रैकिंग कैम्प अभियान का खासा क्रेज देखने को मिल रहा है। विशेषज्ञों के साथ जगह जगह भ्रमण कर युवा पीढ़ी ने भारतीय परम्पराओं,वन,जीव- जन्तु और पर्यावरण के महत्व को समझने का प्रयास भी किया। 
             जानकारी देते चलें कि शिवतराई स्थित जंगल मितान समिति पर्यावरण को समर्पित संस्था है। पर्यावरण संरक्षण और जन जंगल जमीन के प्रति जिम्मेदारियों का अहसास कराने जंगल मितान समय समय पूरे साल विशेष कार्यक्रम का आयोजन करता है। इसी क्रम में 30-31 मई 2022 को आर्ट ऑफ लिविंग के सदस्यों ने प्रकृति की आवाज कार्यक्रम  का आयोजन किया।
            समिति के अध्यक्ष अखिलेश चंद्रप्रदीप बाजपाई ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि युवाओं में पर्यावरण के प्रति सकारात्मक रूझान देखने को मिल रहा है। देखकर खुशी होती है कि युवा पीढ़ी खासकर छात्र छात्राएं पर्यावरण के महत्व को लेकर बहुत ही गंभीर है।
                   युवाओं की टीम प्रकृति को समझने लगातार जंगल मितान के सम्पर्क में है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए जंगल मितान ने आर्ट ऑफ लिविंग के माध्यम से युवा पीढ़ी को सांयकालीन और भोर में प्रकृति की आवाज सुनाने का प्रयास किया है। साथ ही युवाओं को जंगल में विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों,  जीव जंतुओं से भी रूबरू होने का मौका दिया है।
           वाजपेयी ने बताया कि ट्रैकिंग के दौरान जंगल मितान की टीम ने अभियान में शामिल लोगों की जिज्ञासाओं को ना के वल शांत किया। बल्कि उनके मन में उमड़ने घुमड़ने वाले सभी सवालों का जवाब भी दिया। सांयकालीन जंगल ट्रेकिंग शानदार अनुभव भी कराया गया। अनुभव को लेकर युवाओं में जबरदस्त उत्साह भी है।
                बाजपेयी ने आगे बताया कि प्रकृति/पर्यावरणविद विवेक जोगलेकर के मार्गदर्शन में ट्रैकिंग में आने वाले सभी लोगों को पर्यावरण के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी है। रात्रिकालीन खुले आसमान के नीचे तारों के बीच बिताई गयी रातों को लेकर युवाओं का उत्साह देखते ही बना है।
        कार्यक्रम के समापन अवसर पर जोगलेकर और विकास साहूजी ने  प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र देकर उत्साह बढ़ाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *