मेरा बिलासपुर

कवर्धा हादसाः हाईकोर्ट ने मांगा एनचआई और सरकार से जवाब…कहा…शपथ पत्र के साथ बताएं..सुप्रीम कोर्ट गाइड लाइन पर क्या किया…

बिलासपुर—हाईकोर्ट ने कवर्धा में भीषण दुर्घटना के 19 लोगों की मौत को बहुत ही गंभीरता से लिया है। मामले को स्व संज्ञान मे लेते हुए राज्य सरकार और नेशनल हाईवे अथॉरिटी से जवाब मांगा है। हाईकोर्ट ने पूछा है कि शपथ पत्र देकर बताएं कि सड़क हादसा रोकने के लिए अब तक क्या पहल किया गया है…और कर रहे हैं। हाईकोर्ट के सख्त रूख को लेकर शासन प्रशासन में हलचल है।

Join Our WhatsApp Group Join Now

तीन दिन पहले कवर्धा क्षेत्र में तेंदूपत्ता तोड़कर लौट रहे बैगा जनजाति के 19 लोगों की खाई में पिकअप पलटलने मौत हो गयी। मामले को गंभीरता से लेते हुए दूसरे ही दिन हाईकोर्ट ने मामले को स्वत: संज्ञान लिया। और जनहित याचिका के रूप में सुनवाई को हाईकोर्ट ने अंजाम दिया। सम्मानीय कोर्ट ने राज्य सरकार और नेशनल हाईवे अथॉरिटी नोटिस जारी कर सवाल पूछा है..और शपथ पत्र के साथ जवाब देने को कहा है।

हाईकोर्ट ने जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि सड़क हादसा रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आज तक कितना अमल हुआ है। मामले को लेकर राज्य सरकार और नेशनल हाइवे अथॉरिटी रिपोर्ट पेश करें। मामले में हाईकोर्ट ने सुनवाी के लिए आगामी तारीख 26 जून दिया है।

बताते चलें कि कवर्धा क्षेत्र में 20 मई को भीषण सड़क हादसा हुआ। खाई में पिकअप के पलटने से 19 लोगों की मौत हो गयी। मरने वालों में 18 महिलाएं और एक पुरुष शामिल हैं। खबर के अनुसार पिकअप में करीब 36 लोग सवार थे। सभी लोग तेंदूपत्ता तोड़कर घर लौट रहे थे। हादसा कुकदूर थाना क्षेत्र के बाहपानी में हुआ।

जानकारी हो की पिकअप 30 फिट गहरी नीचे खाई में गिरी। हादसा में मौके पर ही 19 लोगों की मौत हो गयी। सभी मृतक सेमरहा गांव के रहने वाले है। जिस सड़क में  हादसा हुआ…बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत बनी है। सड़क कुई से होते हुए नेऊर और रुकमीदादर को जोड़ती है। इसके बाद मध्य प्रदेश शुरू हो जाता है।

घटना स्थल सुदुर वनांचल और पहाड़ी क्षेत्र में आता है। पिकअप पलटने से मरने वालों में सभी लोग बैगा जनजाति से हैं। आज यहां मोबाइल नेटवर्क की पहुंच नहीं है।

Back to top button
close