खैरागढ़ उपचुनाव :उम्मीदवारों के तीन नाम का पैनल केन्द्रीय चुनाव समिति को भेजने की तैयारी

रायपुर।खैरागढ़ विधानसभा उप चुनाव को लेकर अब प्रदेश की दो प्रमुख पार्टियों में सरगर्मियां तेज हो गई हैं। दोनो ही पार्टियों की ओर से चुनाव समितियों की घोषणा हो गई है। भाजपा ने तो प्रत्याशी चयन की ओर भी कदम बढ़ा दिए हैं। बताया जा रहा है कि 10 भाजपाइयों ने खैरागढ़ से चुनाव लड़ने के लिए दावेदारी पेश की थी।मीडिया रिपोर्ट अनुसार प्रदेश चुनाव समिति ने इन दावों पर घंटों मंथन के बाद तीन नामों का एक पैनल केंद्रीय चुनाव समिति को भेजने की तैयारी कर ली है। इस पैनल में जिला पंचायत के उपाध्यक्ष विक्रांत सिंह और पूर्व विधायक कोमल जंघेल का भी नाम भी शामिल बताया जा रहा है। हालांकि पार्टी सूत्रों के मुताबिक भाजपा इस बार विक्रांत सिंह पर दांव खेलने जा रही है।भाजपा के प्रदेश मुख्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में प्रदेश चुनाव समिति की बैठक बुधवार रात को हुई।

प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस बैठक में शामिल हुईं। प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित चुनाव समिति के दूसरे सदस्य भी बैठक में शामिल थे। समिति ने पर्यवेक्षक समिति की ओर से बनाई गई 10 दावेदारों की सूची का परीक्षण किया। एक-एक दावेदार की सामाजिक-राजनीतिक पृष्ठभूमि पर बात हुई। इस पर जोर सामाजिक समीकरणों और जीत की संभावना पर ही था।

अंत में तीन नामों का एक पैनल बनाया गया। इसमें पूर्व विधायक कोमल जंघेल, जिला पंचायत उपाध्यक्ष विक्रांत सिंह का नाम प्रमुख है। पार्टी इन्हीं तीन नामों को केंद्रीय चुनाव समिति को भेजेगी। भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति इन पर विचार करने के बाद खैरागढ़ उप चुनाव के लिए पार्टी उम्मीदवार की घोषणा करेगी।खैरागढ़ उप चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया गुरुवार से शुरू हो रही है।

दावेदारों का नाम लेने के लिए भाजपा ने पर्यवेक्षक समिति बनाई थी। विधायक शिवरतन शर्मा की अगुवाई वाली इस समिति ने राजनांदगांव और खैरागढ़ जाकर स्थानीय पदाधिकारियों-कार्यकर्ताओं और सामाजिक-व्यापारिक संगठनों के साथ टिकट मांग रहे नेताओं से चर्चा की थी। वहां से रायशुमारी के आधार पर 10 नामों को दावेदार के तौर पर छांटा गया। उनका पूरा विवरण जुटाकर चुनाव समिति में रखा। खूबचंद पारख बनाए गए चुनाव प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष खूबचंद पारख को खैरागढ़ उप चुनाव का प्रभारी बनाया है। उनके साथ मोतीलाल साहू और ओपी चौधरी को सह प्रभारी के बनाया गया है। जोगी कांग्रेस भी होगी दावेदार पिछले विधानसभा चुनाव में जबरदस्त कांग्रेस लहर के बावजूद जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के देवव्रत सिंह ने इस सीट पर भाजपा के कोमल जंघेल को केवल 870 वोटों के अंतर से हराया था। नवम्बर 2021 में देवव्रत सिंह का निधन हो गया। इसके बाद से यह सीट खाली है। 2013 में कांग्रेस के गिरवर जंघेल यहां से विधायक थे। 2007 के उपचुनाव और 2008 के आम चुनाव में भाजपा के कोमल जंघेल ने यह सीट जीती। इससे पहले कांग्रेस के देवव्रत सिंह यहां से विधायक हुआ करते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *