जानिए नए CS अमिताभ जैन के बारे में…मैकेनिकल इंजीनियर अमिताभ ने एमपी बोर्ड में किया था टॉप

IAS Amitabh Jain , next Chief Secretary , Chhattisgarh,cgwall,news,ias news, chhattisgarh news, chhattisgarh hindi news,

रायपुर।1989 बैच के IAS अमिताभ जैन छत्तीसगढ़ के नए चीफ सेक्रेटरी बनाए गए हैं।अमिताभ जैन छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं।प्रदेश के बालोद जिले के दल्ली राजहरा में उनकी पढ़ाई हुई है। दल्ली राजहरा से अपनी स्कूलिंग पूरी करने वाले अमिताभ में अविभाजित मध्यप्रदेश में 11वीं बोर्ड की परीक्षा में टॉप किए थे।उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में BE किया हुआ है। जबकि एमटेक उन्होंने मैनेजमेंट सिस्टम से किया और उसके बाद यूपीएससी में उनका चयन हुआ।

1989 बैच के आईएएस अमिताभ का जन्म 21 जून 1965 को हुआ।श्री जैन मध्य प्रदेश कैडर के अफसर मैकेनिकल इंजीनियर से ग्रेजुएट हैं।इनकी पहली पोस्टिंग संयुक्त मध्यप्रदेश के जबलपुर में असिस्टेंट कलेक्टर के रूप में हुई थी।1 जून 1990 से 1 अगस्त 1999 तक यहां रहे।फिर दूसरी पोस्टिंग एसडीओ नीमच के रूप में 1 अगस्त 1991 से 1 जुलाई 1993 तक रही।फिर वे सरगुजा में प्रोजेक्ट अधिकारी के लिए नियुक्त किए गए। ग्वालियर में 1 मार्च 1994 से 1 जून 1996 से अस्सिटेंट कलेक्टर रहे।बाद में वे ग्वालियर में 1 जून 1996 को CEO बनाये गए। जहां वह 1 फरवरी 1997 तक रहे।

कलेक्टर के रूप में अमिताभ जैन का पहला जिला रायगढ़ में 1 फरवरी 1997 से 1 जून 2000 रहा। जिसके पश्चात वे छतरपुर कलेक्टर 1997 में बने।फिर उन्होंने होशंगाबाद में कलेक्टरी की। पर 1 जून 2000 से 31 अक्टूबर 2000 तक ही वहांपदस्थ रहे।छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले में भी उन्होंने दो बार कलेक्ट्री की है। रायपुर में उनकी पहली पोस्टिंग 1 नवंबर 2000 को हुई थी। उसके बाद 15 दिसंबर 2003 तक कलेक्टर रायपुर रहे।21 मार्च 2004 को फिर से श्री जैन रायपुर कलेक्टर बने।

अमिताभ जैन डायरेक्टर पब्लिक रिलेशन, इंडस्ट्री डेवलपमेंट कॉरपोरेशन, कमिश्नर पब्लिक रिलेशन, सचिव कमर्शियल टैक्स,जॉइंट सेक्रेटरी इंडस्ट्री डेवलपमेंट समेत कई महत्वपूर्ण विभगो की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं।

अमिताभ जैन के नाम चीफ सेक्रेटरी के तौर पर भविष्य में नया रिकॉर्ड दर्ज होगा।बतौर मुख्य सचिव अमिताभ जैन का भविष्य में सबसे लंबा माना जा रहा है।वे 2025 में सेवानिवृत्त होंगे। अब तक छत्तीसगढ़ में कोई भी मुख्य सचिव 5 वर्षो तक नहीं रहा। इससे पहले विवेक ढांड ही ऐसे चीफ सेक्रेटरी है, जिन्होंने लगभग साढे 4 साल तक यह जिम्मेदारी संभाली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *