अशोक गहलोत के नामांकन से पहले विधायक दल की बैठक बुलाई, हो सकता है ये बड़ा फैसला

sachin pilot,rajasthan news,Ashok Gehlot,congress,Gajendra Singh Shehawat,

राजस्थान में नए मुख्यमंत्री को लेकर अब चर्चाएं तेज हो गई है. अशोक गहलोत के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद राजस्थान का नया मुख्यमंत्री कौन होगा. क्या सचिन पायलट राजस्थान के नए मुख्यमंत्री होंगे या सीपी जोशी और गोविंद सिंह डोटासरा समेत जिन दूसरे नामों की चर्चाएं चल रही है, उसमें से किसी का नंबर आ सकता है. इसी बीच रविवार शाम 7 बजे जयपुर में विधायक दल की बैठक बुलाई गई है. इस बैठक में प्रदेश प्रभारी अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़के शामिल होंगे.

अशोक गहलोत सोमवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए हो रहे चुनाव में नामांकन करेंगें. उससे पहले रविवार सुबह वो जयपुर से जैसलमेर जाएंगे. वहां तनोट मंदिर में दर्शन करेंगे. और शाम साढ़े 4 बजे वापिस जयपुर लौटेंगे. उसके बाद कांग्रेस विधायक दल की शाम को बैठक होगी. 

सोमवार को अशोक गहलोत के नामांकन से ठीक पहले हो रही विधायक दल की इस बैठक पर सबकी नजरें है. अशोक गहलोत के नामांकन में शामिल होने के लिए ज्यादातर विधायक सोमवार को दिल्ली जाएंगे. सप्ताह भर पहले हुई विधायक दल की बैठक में खुद अशोक गहलोत ने सभी विधायकों से अपील की थी कि जब मैं नामांकन करुं तब आप सभी विधायक दिल्ली जरुर आएं.

अशोक गहलोत का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनना तय माना जा रहा है. ऐसे में राजस्थान में नए मुख्यमंत्री को लेकर गुणा भाग शुरु हो गया है. सचिन पायलट समर्थक अपनी लॉबिंग करने में जुटे है. तो वहीं दूसरे धड़े के विधायकों के बयान भी सामने आ रहे है. सचिन पायलट के करीबी विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने समर्थकों से शांति बनाए रखने की अपील की है. तो वहीं अशोक गहलोत के करीबी माने जाने वाले सिरोही से निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा ने ट्वीट कर कांग्रेस आलाकमान को ही राजस्थान में सोच समझकर फैसला लेने की नसीहत दे दी. जिसका मंत्री सुभाष गर्ग ने भी समर्थन किया.

बसपा से कांग्रेस में आए विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने सचिन पायलट से जयपुर में मुलाकात के बाद कहा कि वही अगले मुख्यमंत्री बनेंगे. तो कई कांग्रेसी विधायकों ने कहा कि आलाकमान जो फैसला करेगा वही मान्य होगा. इसके अलावा शुक्रवार को सचिन पायलट ने जयपुर में विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी और प्रतापसिंह खाचरियावास के अलावा रघु शर्मा और धर्मेंद्र राठौड़ जैसे नेताओं के साथ करीब एक घंटे तक बैठक की. ऐसे में रविवार शाम 7 बजे होने वाली विधायक दल की बैठक राजस्थान के सियासी भविष्य को लेकर काफी अहम मानी जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *