शिक्षाकर्मी आंदोलन:भूपेश का Video वायरल,शिक्षकों ने भाजपा नेताओं पर लगाया आरोप,कब्र से निकाले पुराने बयान

bhupesh_baghel_novबिलासपुर—शिक्षाकर्मियों की बेमियादी हड़ताल ने व्यवस्थापकों के माथे पर बल पैदा कर दिया है। कभी विपक्ष में बैठने वाले भाजपा सरकार के कद्दावर नेताओं की चिठ्ठियां धीरे धीरे बाहर आने लगी हैं। किसी ने मुख्यमंत्री को शिक्षाकर्मियों की मांगो को जायज ठहराते हुए पूरा करने को कहा है तो किसी ने अपने पत्र में समान कार्य समान वेतन की वकालत की है। वर्तमान पंचायत मंत्री अजय चन्द्राकर का भी पत्र सामने आया है। उन्होेने तत्कालीन मुख्यमंत्री अजीत जोगी को लिखे पत्र में कहा है कि शिक्षाकर्मियों की मांग को पूरा करे। समान कार्य समान वेतन पर शिक्षाकर्मियों का अधिकार है।

पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल का नया वीडियो भी सामने आया है। भूपेश बघेल ने कह रहे हैं कि शिक्षाकर्मियों की मांग 2013 में कांग्रेस सरकार बनते ही पूरी हो जाती। लेकिन ऐसा नहीं हो सका…।  भरोसा दिलाता हूं कि 2018 में कांग्रेस सरकार बनते ही शिक्षा कर्मियों की सभी मांगों को पूरा कर दिया जाएगा। लोग वीडियो को जमकर देख रहे हैं। भाजपा नेताओं के समर्थन वाले पुराने पत्रों को भी वायरल कर रहे हैं। जो इन दिनों सरकार में कद्दावर मंत्री भी हैं।

पुराना जख्म को कुरेदने लगे शिक्षाकर्मी

            IMG-20171122-WA0009    संविलियन संभव नहीं है के बयान के बाद शिक्षाकर्मियों ने पंचायत मंत्री को घेरना शुरू कर दिया है। शिक्षाकर्मी संगठन के नेताओं ने अजय चन्द्राकर को तत्कालीन मुख्यमंत्री अजीत जोगी को लिखे गए पत्र को जारी किया है। चन्द्राकर ने पत्र में लिखा है कि मुख्यमंत्री शिक्षाकर्मियों की संविलियन समेत समान कार्य समान वेतन की मांग को पूरा कर अनुग्रहित करने को कहा है।

                                            2002 में बिल्हा विधानसभा के विधायक धरमलाल कौशिक ने भी तत्कालीन मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर शिक्षाकर्मियों की मांंग पूरी करने को कहा है। तात्कालीन विधायक गणेशराम भगत, रामविचार नेताम, सांसद पुन्नूलाल मोहिले ने पत्र में शिक्षाकर्मियों की मांगों  को ना केवल उचित बताया। बल्कि उनके अध्यापन कार्य की भी प्रशंसा की है।

                  तात्कालीन नेता प्रतिपक्ष नन्दकुमार साय का पत्र भी वाट्सअप पर चल रहा है। उन्होने अजीत जोगी के लिखे पत्र में कहा है कि शिक्षाकर्मियों की सभी मांग जायज है। शिक्षा में शिक्षाकर्मियों के योगदान की भी प्रशंसा की है। मालूम हो कि शिक्षाकर्मियों की मांग को लेकर नन्दकुमार ने रायपुर में बड़ा आंदोलन किया था।

भूपेश का वीडियो और मांग का समर्थन

             IMG-20171122-WA0006 पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल का वीडिया इन दिनो जमकर वायरल हो रहा है। भूपेश ने 56 सेकेन्ड के वीडियो में शिक्षाकर्मियों के आंदोलन का समर्थन किया है। भूपेश ने बताया कि शिक्षाकर्मियों का आंदोलन नया नहीं है। प्रदेश में कांग्रेस सरकार के समय तात्कालीन भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ.रमन सिंह ने वादा किया था कि भाजपा सरकार बनते ही सात दिनों के भीतर शिक्षाकर्मियों की मांग को पूरा कर दिया जाएगा। लेकिन हुआ कुछ नहीं। 2008,2013 में भाजपा के चुनावी संकल्प पत्र में शिक्षाकर्मियों की मांग को प्रमुखता के साथ पूरा करने का आश्वासन भाजपा ने दी थी। लेकिन शिक्षाकर्मियों का संघर्ष आज भी जारी है।

            वीडियों में भूपेश बघेल कह रहे हैं कि दुर्भाग्य है कि 2013 में कांग्रेस की सरकार नहीं बनी। शिक्षाकर्मियों की मांग को हमने गंभीरता से लिया था। तात्कालनीन कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नन्द कुमार पटेल ने भी शिक्षाकर्मियों की मांग का समर्थन किया था। इसके अलावा हमने सरकार बनने के बाद शिक्षाकर्मियों की मांग को पूरा करने का मन बनाया था। लेकिन ऐसा नहीं हो सका। कांग्रेस पार्टी शिक्षाकर्मियों की मांग का समर्थन करती है। साल 2018 में सरकार बनते ही शिक्षाकर्मियों की सभी मांगो पर सहृदयता और गंभीरता के साथ ना केवल विचार किया जाएगा। बल्कि मांगो को पूरा भी किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *