महंत नरेंद्र गिरि की मौत मामले में हरिद्वार से आनंद गिरि समेत दो अन्य लोग गिरफ्तार

Mahant Narendra Giri’s Death: आचार्य नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri Death Case) की मौत के मामले की सीबीआई जांच शुरू होने के बाद केस में नई जानकारी मिली है। उत्तर प्रदेश के एडीजी प्रशांत कुमार (ADG Prashant Kumar) ने बताया कि आनंद गिरि (Anand Giri) सहित दो अन्य लोगों को हरिद्वार में गिरफ्तार (Anand Giri Arrest) कर लिया गया है। बता दें कि आचार्य नरेंद्र गिरि के पास से एक सुसाइड नोट बरामद किया गया है जिसमें दो अन्य लोगों के साथ आनंद गिरी का नाम भी शामिल था। फिलहाल मामले की गहराई से जांच करने में फॉरेंसिक टीम भी जुटी हुई है।अतिरिक्त महानिदेशक (Additional Director General) ने कहा, “पोस्टमॉर्टम कल किया जाएगा और इसके बाद आचार्य का शव मठ या शिष्यों को सौंप दिया जाएगा।” अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष आचार्य नरेंद्र गिरि की वीडियो रिकॉर्डिंग के बारे में पूछे जाने पर एडीजी ने कहा, “सुसाइड नोट के साथ मिले वीडियो कंटेंट की जांच की जा रही है।”

बता दें, पुलिस के मुताबिक, द्रष्टा ने अपने 7-8 पेज के सुसाइड लेटर में लिखा है, ‘मैं शान से जी रहा था, अपमान के साथ नहीं जी पाऊंगा, इसलिए अपनी जान ले रहा हूं।” मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि सुसाइड नोट में यह भी लिखा गया है कि वह कई कारणों से परेशान थे और इसलिए उन्होंने अपना जीवन समाप्त करने का फैसला किया।गौरतलब है कि आचार्य नरेंद्र गिरि सोमवार शाम बाघंबरी मठ में संदिग्ध परिस्थितियों में फांसी पर लटके पाए गए थे। दोपहर के भोजन के बाद, 72 साल के नरेंद्र गिरि अपने कमरे में गए फिर जब शिष्यों ने दरवाजा खटखटाया और फिर शाम के समय उनके मोबाइल पर कॉल किया तो आचार्य का कोई जवाब नहीं आया।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रयागराज में आचार्य को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि जांच के लिए अतिरिक्त महानिदेशक (Additional Director General), महानिरीक्षक महानिरीक्षक (Inspector-General IG) और उप महानिरीक्षक (Deputy Inspector General ) प्रयागराज के साथ एक पुलिस टीम का गठन किया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, “अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष, महंत नरेंद्र गिरिजी महाराज की मृत्यु दुखद है और इसने हम सभी को झकझोर दिया है। पूरे संत समाज और यूपी सरकार की ओर से मैं यहां अत्यधिक सम्मान देने आया हूं। 2019 प्रयागराज कुंभ के दौरान उन्होंने बहुत काम किया और इस समाज को वैश्विक स्तर पर पहचानने योग्य बनाया मुझे वह स्मरण है।”मीडिया से बातचीत में सीएम योगी ने कहा कि,”मैं सभी से अनुरोध करता हूं कि वह अनावश्यक बयान न दें और जांच टीम को काम करने दें। अगर कोई दुखद मौत के लिए जिम्मेदार है, तो मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि उसे कड़ी सजा दी जाएगी। सभी जांच एजेंसी और लोगों को सतर्क कर दिया गया है। वर्तमान में,  मैं उनकी शांति के लिए प्रार्थना कर रहा हूं और आशा करता हूं कि उन्हें प्रभु श्री राम के चरणों में स्थान मिले।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *